»   » SHAANDAAR..अक्षय और शाहरुख को पता भी नहीं..कर दिया इतना बड़ा काम..धमाकेदार !

SHAANDAAR..अक्षय और शाहरुख को पता भी नहीं..कर दिया इतना बड़ा काम..धमाकेदार !

By: shivani verma
Subscribe to Filmibeat Hindi

हमारे बॉलीवुड में कुछ फिल्में होती हैं जो काफी कुछ सिखा जाती हैं। यूं ही...बिना किसी प्लॉट के। और इस छोटी सी बात में इतना दम और इतनी सच्चाई होती है कि आप बस देखते रह जाते हैं। ऐसे में जब किसी फिल्म का प्लॉट देशभक्त ना हो...लेकिन फिर भी वो आपको अपने देश और उसकी जड़ों से रूबरू करा जाए तो फिर ऐसी फिल्मों के बारे में बातचीत तो होनी चाहिए।

bollywood-movies-which-were-so-indian-despite-the-plot-not-being- patriotic

बॉलीवुड में भी ऐसी कई फिल्में हैं जिनका प्लॉट रोमांस, दोस्ती या फिर कुछ और था लेकिन जाने अनजाने इन फिल्मों ने इतनी गहरी बातें सिखा दीं...कि आप कभी नहीं भूलेंगे। डालिए उन फिल्मों पर एक नज़र..

नमस्ते लंदन

नमस्ते लंदन

लिस्ट में सबसे ऊपर रहेंगे अक्षय कुमार...क्योंकि नमस्ते लंदन में उनकी इंडिया स्पीच के वो पांच मिनट कोई कभी नहीं भूलेगा।

दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे

दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे

जिस फिल्म की शुरूआत ही घर आजा परदेसी तेरा देस बुलाए रे जैसे गाने से हो...तो फिर उसमें अपना पन अपने आप आ जाता है।

परदेस

परदेस

कहीं भी रहिए अपना देस अपनी मिट्टी वैसी ही रहती है...भारते से इंडिया बन चुके देश को बहुत खूबसूरती से परदेस ने उतारा था!

ब्राइड एंड प्रेज्यूडिस

ब्राइड एंड प्रेज्यूडिस

फिल्म का प्लॉट था शादी...चार बेटियों की....वो भी विदेशी लड़कों से....लेकिन जिस तरह अपनी बेइज़्जती ना सहते हुए ऐश्वर्या राय ने कदम कदम पर डारसी को भारत बताया था...काबिले तारीफ था।

 द नेमसेक

द नेमसेक

अपने नाम को अपने देश के साथ जो़ड़ना....नाम नहीं तो देश नहीं....नाम से देश का अस्तित्व और देश से आपके नाम...यही तो थी The Namesake।

 लगान

लगान

फिल्म का प्लॉट था क्रिकेट और लगान माफी...लेकिन एक एक सीन में भारत शामिल था।

 जोधा अकबर

जोधा अकबर

इस फिल्म में देशभक्त नहीं थी पर भारत को वो इतिहास था जिसे जानना आपका फर्ज़ है....यही तो है अपना देश।

फिर भी दिल है हिंदुस्तानी

फिर भी दिल है हिंदुस्तानी

शाहरूख खान की इस फिल्म का भी प्लॉट सब कुछ था सिवाय देशभक्ति के। लेकिन जितनी खूबसूरती से देशभक्ति इस फिल्म के अंत में निकली वो बेहतरीन थी।

अमर अकबर एंथनी

अमर अकबर एंथनी

इस फिल्म में कहीं देशभक्ति नहीं थी...बस था तो अखंडता और सहिष्णुता (unity and religious tolerance) अमर...अकबर...एंथनी...तीन धर्म और तीन भाई!

धरम

धरम

पंकज कपूर की इस फिल्म में इस देश की सबसे बड़ी समस्या को दिखाया था - धर्म....और उस समय का बेहतरीन जवाब....इंसानियता का धर्म...वही तो था देश धर्म!

BONUS

BONUS

रंग दे बसंती - जो भी सोच रहा है कि ये तो देशभक्ति फिल्म थी...वो गलत है....फिल्म थी दोस्ती पर...जो कुछ सिरफिरे दोस्तों को देश का जुनून चढ़ा गई थी।

English summary
Bollywood films which were full of Indian-ism despite the plot not being patriotic.
Please Wait while comments are loading...