For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    5 Reasons: क्यों नहीं चली लुटेरी दुल्हन 'डॉली की डोली'

    By Neeti
    |

    अरबाज खान के निर्देशन में बनी फिल्म 'डॉली की डोली' इस शुक्रवार अक्षय कुमार की 'बेबी' के साथ रिलीज हुई। एक ओर जहां 'बेबी' दर्शकों के दिलों में जगह बनाने के साथ बॉक्स ऑफिस पर भी छा रही है, वहीं डॉली की डोली धाराशयी होती दिख रही है। फिल्म में सोनम कपूर ने मुख्य किरदार निभाया है, जिसने काफी हद तक लोगों को निराश किया है।

    सोनम कपूर के अलावा फिल्म में राजकुमार राव, पुलकित सम्राट और वरूण शर्मा मुख्य भूमिका निभाते दिखेंगे। फिल्म रिलीज के पहले इसका जमकर प्रचार किया था, फिल्म में तड़का लगाने के लिए मलाइका अरोड़ा खान का एक आइटम सांग भी डाला गया, लेकिन अफसोस इन सबके बावजूद फिल्म को कोई सफल की लिस्ट में नहीं डाल पाया। बहरहाल, फिल्म देख कर पता चलता है कि सिर्फ सोनम नहीं, बल्कि फिल्म में कई ऐसी बातें हैं तो दर्शकों को बोर करती है।

    यहां जानिए, 5 कारण, क्यों नहीं चली 'डॉली की डोली'-

    • धीमी है कहानी

    करीब पौने दो घंटे की इस फिल्म से अगर युवा डायरेक्टर अभिषेक दर्शकों बांधने में नाकामयाब रहे तो इसकी वजह सुस्त पटकथा और धीमा निर्देशन है। फिल्म की कहानी बेहद सुस्त चलती है, जो दर्शकों को कहीं न कहीं समय की बर्बादी लगती है।

    • सोनम की एक्टिंग

    डाइरेक्टर ने सभी किरदारों में डॉली को सबसे कमजोर बना दिया है। जिसका नतीजा है की सोनम केपर के पास फिल्म में ज्यादा कुछ करने के लिए नहीं है। वहीं पुलकित सम्राट भी फिल्म में कुछ नया नहीं कर पाए। हां, राजकुमार राव ने एक बार फिर से साबित कर दिया है कि भूमिका छोटी हो या बड़ी, वह उसे बेहतरीन निभा ले जाएंगे।

    • कहानी में नयापन नहीं

    पिछले साल आई 'दावत-ए-इश्क' की कहानी इस फिल्म से काफी हद तक मिलती है। यहां भी सोनम कपूर लुटेरी दुल्हन बनी हैं। बहरहाल, कहानी में कुछ भी नयापन नहीं है। फिल्म का क्लाइमैक्स भी बहुत जल्दबाजी से भरा, आसान और काफी बनावटी लगता है। लेकिन यह कहना गलत नहीं होगा कि निर्देशक ने हंसी बांटने की कोशिश भरपूर की है।

    • जुबां पे नहीं चढ़ेगें गाने

    फिल्म का संगीत बेहद कमजोर है। फिल्म का एक भी गाना आपके जुबां पर नहीं चढ़ेगा, चाहे वह मलाइका अरोड़ा खान का आइटम नंबर ही क्यों न हो। फिल्म में कुछ ज्यादा ही गाने भर लिए गए है।

    • फूहर डॉयलोग्स

    वहीं, फिल्म में कमजोर के साथ कमजोर डॉयलोग्स इसे दर्शकों से और दूर कर जाता है। फिल्म में काफी फूहर डॉयलोग्स का सहारा लिया गया है, जिस पर हंसी तो आती है लेकिन मनोरंजक बिल्कुल नहीं लगती।

    English summary
    Here are 5 reasons, why Sonam Kapoor's Dolly ki Doli failed to win hearts, whereas Baby ruled the box-office.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X