For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    पिता के जन्मदिवस के दिन अमिताभ को याद आाय मुर्दा-ज़िंदा कवि

    |

    अमिताभ बच्चन अपने पिता हरिवंश राय बच्चन के बेहद करीब रहे हैं। आज भी अमिताभ अपने माता-पिता को हर पल याद करते हैं और सोचते हैं कि काश उन्हें अपने माता-पिता के साथ थोड़ा वक्त और बिताने का मौका मिलता। अपने हर जन्मदिन पर अमिताभ बच्चन यही कहते देखे गये कि वो अपने माता-पिता को अपने घर प्रतीक्षा में महसूस करते हैं, वो लोग वहीं पर हैं।

    अपने ब्लॉग पर बुधवार को अमिताभ बच्चन ने लिखा बाबूजी, मेरे पिता का जन्म 27 नवंबर 1907 को हुआ था। वो बहुत बुद्धिमान इंसान थे, वो बहुत गरीबी में बड़े हुए थे। उन्होंने मात्र 20 रुपये से अपनी जीविका शुरु की थी। उसके बाद उन्होंने अपनी बेहतरीन लेखिनी से कुछ बहुत ही खूबसूरत कविताएं लिखीं। अमिताभ ने हरिवंश राय बच्चन के जन्मदिन पर उनकी एक बेहतरीन कविता मुर्दा-जिंदा कवि भी ट्विटर पर अपने फैंस के साथ शेयर की।

    <blockquote class="twitter-tweet blockquote" lang="en"><p>T 1688 - My Father's birth anniversary Nov 27, 1907 .. his verse on poetry and poets !! मुर्दा - ज़िंदा कवि (cont) <a href="http://t.co/0dTmKrVqbp">http://t.co/0dTmKrVqbp</a></p>— Amitabh Bachchan (@SrBachchan) <a href="https://twitter.com/SrBachchan/status/537894549419741184">November 27, 2014</a></blockquote> <script async src="//platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>

    अमिताभ बच्चन ने ये भी लिखा कि उनके पिता ने अपनी कविताओं को उन्हें डेडिकेट किया था और कहा था कि अमिताभ मेरी बेस्ट कविता है।

    English summary
    On the occasion of Harivanshrai Bachchan's 107th birth anniversary, his son and megastar Amitabh Bachchan called him a 'unique genius', and also remembered one time when the noted poet called him his 'best poetry'.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X