For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

आई हेट माई इमोशनल साइड- रणवीर सिंह

|

बॉलीवुड को यंग अमिताभ बच्चन की याद दिला देने वाले यंग और एनरजेटिक एक्टर रणवीर सिंह का कहना है कि वो अमिताभ, अनिल कपूर की फिल्में देखते हुए बड़े हुए हैं और सलमान, शाहरुख की फिल्में देखकर उन्होंने एक्टिगं करने का जुनून पाया है। रामलीला, लुटेरा जैसी बेहतरीन फिल्मों के बाद अब रणवीर इस शुक्रवार रिलीज हो रही हैं गुंडे फिल्म में एक एनर्जी से भरे हुए और प्यार में पागल गुंडे विक्रम का किरदार निभा रहे हैं। उनका साथ दे रहे हैं उनके करीबी दोस्त अर्जुन कपूर। आइये देखते हैं गुंडे के बारे में और उसके अलावा अपनी पर्सनल लाइफ में चल रही कुछ ताजा खबरों के बारे में रणवीर अपने फैंस के साथ क्या शेयर करना चाहते हैं।

पेश है वनइँडिया के साथ हुए रणवीर सिंह के इंटरव्यू के कुछ अंश-

हाल ही में अपने एक इंटव्यू में कहा था कि मलेरिया तो ठीक हो गया लवेरिया से जूझ रहा हूं। अब क्या हाल हैं आपके लवेरिया के?

जैसा कि मैंने पहले ही कहा कि वो मेरा सबसे स्टूपिड इंटरव्यू था। डेंगू तो ठीक हो गया है लेकिन अभी रिकवर होने में थोड़ा टाइम लग रहा है। उम्मीद है कि जल्द से जल्द मैं ठीक हो जाऊंगा। लवेरिया वाला जो स्टेटमेंट मैंने पहले अपने एंक इंटरव्यू में कहा था वो बहुत ही स्टूपिड था और मैंने ऐसे ही मजाक में कह दिया था। लेकिन लोगों ने उस बात को इतना सीरियसली ले लिया कि मैं परेशान हो गया उस बात को लेकर पूछे गये सवालों से। लोगों को ये समझना चाहिए कि मैं कई बार ऐसी चीजें यूं ही बोल जाता हूं। लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि वो सभी बातें इतनी सीरियस होती हैं।

आपको नहीं लगता कि इस तरह कभी भी कुछ भी कह देने की आपकी इस आदत से आपके पर्सनल रिश्ते खराब होते हैं?

मुझे नहीं लगता कि मेरे स्वभाव की वजह से लोगों से मेरे रिश्ते खराब होते हैं। सेंटर ऑफ अट्रेक्शन होना मेरे लिए कुछ नया नहीं है। मैं बचपन से ही लोगों की अटेंशन पा लेता था। चाहे वो स्कूल हो, कोई पार्टी हो। किसी का अटेंशन पाने के लिए मैं कुछ नहीं करता। ये तो अपने आप ही हो जाता है। क्योंकि मैं लोगों को हमेशा से ही काफी एंटरटेन करता था और उन्हें भी मेरे साथ रहकर काफी मजा आता था। हालांकि आजकल मैं कुछ ज्यादा ही सेंटर ऑफ अट्रैक्शन हो गया हूं।

आप हर वक्त कॉमेडी और मस्ती के मूड में रहते हैं। बॉलीवुड के एनरजेटिक हीरो कहे जाते हैं। ये आपका स्वभाव है या आप जानबूझकर ऐसा करते हैं?

मुझे मजे करना बहुत अच्छा लगता है। सच यही है कि मेरा सनसाइन कैंसर है और मैं लोगों के साथ बहुत जल्दी ही जुड़ जाता हूं और इमोशनल हो जाता हूं। मैं लोगों को हंसते मुस्कुराते देखना चाहता हूं। मैं नहीं चाहता कि मैं लोगों को लेकर सीरियस हो जाऊं क्योंकि मुझे खुद को इमोशनल देखना अच्छा नहीं लगता। मैं अपने आस पास सभी को खुश देखना चाहता हूं और इसीलिये मैं हर वक्त कॉमेडी के मूड में रहता हूं।

रणवीर का मस्ती भरा रुप तो सभी ने देखा है लेकिन क्या रणवीर के जीवन का कोई सीरयस पहलू भी है?

मैं रात को कुछ घंटे अपने साथ बिताना पसंद करता हूं। दिन भर तो हम फिल्म की शूटिंग या फिल्म के प्रमोशन में व्यस्त रहते हैं। रात को जब मैं अपने लिए वक्त निकाल पाता हूं तो मुझे बहुत सुकून मिलता है। अगर मैं खुद के इस हिस्से को नहीं महसूस करता तो शायद मैं कभी भी लुटेरा जैसी फिल्म नहीं कर पाता।

गुंडे फिल्म को आपकी अब तक की सबसे एनरजेटिक फिल्म कहा जा रहा है। आप कहां तक इससे सहमत हैं?

गुंडे फिल्म मेरी अभी तक फिल्मों में सबसे ज्यादा एनरजेटिक फिल्म है। गुंडे फिल्म में सभी यंग एक्टर्स हैं और सभी ने अपने अंदर की एनर्जी को इस फिल्म में डाल दिया है। अब तो सिर्फ इंतजार है कि दर्शक जाकर फिल्म देखें और फिल्म को लेकर अपने रिस्पॉंस दें। हमने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की है फिल्म के बेहतरीन बनाने की उम्मीद है कि फिल्म दर्शकों को पसंद आएगी। अली अब्बास खुद भी इतने यंग और एनरजेटिक हैं कि उन्हें भी अपनी तरफ से

रणवीर सिंह के इंटरव्यू के कुछ अंश-

गुंडे फिल्म 70वीं सदी के दो गुंडों पर बेस्ड है। क्या आपके जहन में कोई ऐसा एक्टर है 70 के दशक का जिससे आप खुद को रिलेट करते हैं?

गुंडे फिल्म 70वीं सदी के दो गुंडों पर बेस्ड है। क्या आपके जहन में कोई ऐसा एक्टर है 70 के दशक का जिससे आप खुद को रिलेट करते हैं?

मुझे नहीं पता कि मैं किस 70वीं सदी के हीरो से रिलेट करता हूं। लेकिन यशराज फिल्म्स से जुड़े हुए एक बहुत ही पुराने इंसान ने फिल्म देखकर मुझे ये कॉम्पीलीमेंट दिया कि तुम्हें देखकर यंग बच्चन की याद आती है। ऐसा इसलिए नहीं कि मेरे पिता फिल्म में हीरो थे या फिर मेरा किसी फिल्मी दुनिया के इंसान से बहुत अच्छा कनेक्शन है। लेकिन बस ऐसे ही उन्होंने मुझे इतना बड़ा कॉम्पलीमेंट दिया जो कि मेरे लिए बहुत गर्व की बात है। मैं खुद भी बचपन से अमित जी की फिल्में देखता था और उनके किरदारों से प्रेरित होता था। मैं भी चाहता था कि कभी उनके जैसी एक्टिंग मैं भी कर सकूं। आज जब कोई मुझे उनके जैसा कहता है तो बहुत अच्छा लगता है।

आदित्य चोपड़ा के साथ कैसी ट्यूनिंग है आपकी?

आदित्य चोपड़ा के साथ कैसी ट्यूनिंग है आपकी?

आदित्य कभी भी मुझे अच्छी चीजें बोलते ही नहीं वो मुझे सिर्फ डांटते ही हैं। वो सिर्फ मुझे इतना कहते हैं कि बहुत अच्छा किया। लेकिन इससे ज्यादा वो कुछ नहीं बोलते।

अपने करियर के शुरुआती दौर में ही आप बतौर एक्टर इतने अलग अलग किरदार निभा रहे हैं। क्या साबित करना चाहते हैं आप?

अपने करियर के शुरुआती दौर में ही आप बतौर एक्टर इतने अलग अलग किरदार निभा रहे हैं। क्या साबित करना चाहते हैं आप?

मैं फिल्मों का बहुत बड़ा फ्रीक हूं। मैं जब किसी भी किसी हॉलीवुड हीरो के एक फिल्म से दूसरी फिल्म में ट्रांसफॉरमेशन देखता हूं तो मैं खुद ही हैरान रह जाता हूं। मैं खुद भी ऐसा ही एक्साइटमेंट अपने दर्शकों को देना चाहता हूं। मै अपने करियर की शुरुआत में ही खुद को एक ऐसा एक्टर बनाना चाहता हूं कि जिसे लेकर लोग ये सोचें की ये एक्टर किसी भी किरदार में नज़र आ सकता है। किसी भी एक किरदार में बार बार मुझे देखकर वो उसके आदि हो जाएंगे। मैं खुशनसीब हूं कि एक तरफ जहां अली को लगा कि उनकी फिल्म गुंडे के किरदार में मैं फिट बैठता हूं वहीं दूसरी तरफ विक्रम मोटवानी को लगा कि मैं उनकी फिल्म लुटेरा में भी फिट बैठता हूं। तो ये मेरे लिए बहुत बड़ी बात है।

आप खुद एक एनरजेटिक हीरो के रुप में जाने जाते हैं। लेकिन परिणिती और गोविंदा भी एनर्जी के मामले में कम नहीं हैं। तो कैसा एक्सपीरियंस रहा दोनों के साथ काम करने का?

आप खुद एक एनरजेटिक हीरो के रुप में जाने जाते हैं। लेकिन परिणिती और गोविंदा भी एनर्जी के मामले में कम नहीं हैं। तो कैसा एक्सपीरियंस रहा दोनों के साथ काम करने का?

परिणिती के साथ तो हमने अभी तक काम शुरु नहीं किया है। गोविंदा और मैंने एक दूसरे के साथ के सभी सीन शूट कर लिये हैं। उनके सामने मैं आज भी बच्चा ही हूं. मैंने रियल लाइफ में गोविंदा जी को कॉपी किया है। स्कूल में मैं गोविंदा के गानों पर डांस करता था। मेरी पैंट भी सेक्सी, मैं ओरेंज पैंट, सिल्वर शर्ट और येलो शूज पहनकर स्कूल जाया करता था। गोविंदा जी को डांस करते देख मैं तो नर्वस ही हो गया था। गोविंदा के अलावा बॉलीवुड का कोई भी एक्टर इतनी आसानी से कॉमेडी नहीं कर सकता। जब गोविंदा जी स्क्रीन पर रोते थे मेरी भी आंखों में आंसू आ जाते थे। डांस के मामले में तो वो बेस्ट हैं ही। मेरे लिए वो हमेशा ही आउटस्टैंडिग डांसर रहे है। किल दिल में आप गोविंदा को एक ऐसे किरदार में देखेंगे जैसा उन्होंने आज तक नहीं किया।

इतने सालों बाद गोविंदा किल दिल से वापसी कर रहे हैं। क्या आपको लगता है कि किल दिल गोविंदा को वही सफलता दे पाएगी जैसा उनकी पहले की फिल्में उन्हें देती थीं?

इतने सालों बाद गोविंदा किल दिल से वापसी कर रहे हैं। क्या आपको लगता है कि किल दिल गोविंदा को वही सफलता दे पाएगी जैसा उनकी पहले की फिल्में उन्हें देती थीं?

मुझे लगता है कि किल दिल फिल्म गोविंदा जी के करियर के लिए एक गेम चेंजर साबित होगी। गोविंदा जी ने फिल्म में इतना बेहतरीन काम किया है कि सभी उनके काम और उनकी एक्टिंग को देखकर हैरान रह जाएंगे। सालों पहले जिस तरह से गोविंदा की फिल्में बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचाती थीं किल दिल भी गोविंदा को वहीं नजारा दोबारा दिखाएगी।

लुटेरा, राम लीला फिल्मों की सफलता के बाद आप बतौर एक्टर तो बॉलीवुड में छा गये। लेकिन कहीं ना कहीं आप एक्टिंग छोड़कर भी कई सारे विवादों और अपने पर्सनल अफेयर्स को लेकर ज्यादा चर्चा में रहे। क्या आपको लगता है कहीं ना कहीं इन बातों ने आपको आपके करियर को प्रभावित किया?

लुटेरा, राम लीला फिल्मों की सफलता के बाद आप बतौर एक्टर तो बॉलीवुड में छा गये। लेकिन कहीं ना कहीं आप एक्टिंग छोड़कर भी कई सारे विवादों और अपने पर्सनल अफेयर्स को लेकर ज्यादा चर्चा में रहे। क्या आपको लगता है कहीं ना कहीं इन बातों ने आपको आपके करियर को प्रभावित किया?

किल दिल फिल्म की शूटिंग से पहले मुझे अपने बेस्ट फिल्म नवजर से काफी लंबा लेक्चर मिला। उसने मुझे कहा कि मुझे अपने काम यानी अपनी एक्टिंग और फिल्मों पर ध्यान देना चाहिए। मैं अपना फोकस कहीं ना कहीं खो रहा था। एडवरटाइजमेंट्स करने में कैंपेन्स करने में अपनी पर्सनल लाइफ में मेरा एक्टिंग पर से फोकस थोड़ा भटक गया था। लेकिन मुझे सही वक्त पर मेरे दोस्त की तरफ से एक रिमाइंडर मिल गया और मैं संभल गया। खुद को लेकर जितनी भी कॉंट्रोवर्शियल खबरें आ रही थीं मैंने उनपर रिएक्ट करना ही छोड़ दिया और अपने मैनेजर से कहा कि ये सब आपका काम है आप संभालो और मैं अपनी एक्टिंग पर ध्यान देता हूं।

क्या आपको इस बात का दुख है कि लुटेरा फिल्म को उतनी सफलता नहीं मिली जितनी सभी नो सोची थी?

क्या आपको इस बात का दुख है कि लुटेरा फिल्म को उतनी सफलता नहीं मिली जितनी सभी नो सोची थी?

लुटेरा फिल्म किसी भी मामले में नुकसान में नहीं रही। अगर हम बॉक्स ऑफिस की बात कर रहे हैं तो लुटेरा फिल्म ने भले ही बहुत बड़ा अमाउँट नहीं कमाया हो लेकिन फिल्म ने लोगों के दिलों में अपने लिए एक स्पेशल जगह बनाई और ये बहुत बड़ी बात है। लुटेरा को क्रिटिक्स की तरफ से बहुत सारे कॉम्प्लीमेंट मिले और इस हिसाब से फिल्म साल 2013 की सफल फिल्मों में से एक है। मुझे सिर्फ इस बात का दुख है कि लुटेरा फिल्म को नॉमिनेशन्स में जगह नहीं मिली।

लेकिन सोनाक्षी को लुटेरा फिल्म के लिए नॉमिनेशन मिला था।

लेकिन सोनाक्षी को लुटेरा फिल्म के लिए नॉमिनेशन मिला था।

सोनाक्षी को नॉमिनेशन मिला। मुझे इस बात का अफसोस नहीं है कि मुझे लुटेरा के लिए नॉमिनेशन नहीं मिला क्योंकि मेरे लिए लुटेरा फिल्म बहुत मुश्किल थी अफसोस ये है कि लुटेरा टेक्निकली बहुत बेहतरीन फिल्म थी। लुटेरा को निर्देशन और सिनेमेट्रोग्राफी और बाकी टेक्निलकल क्राइटेरिया में नॉमिनेट किया जाना चाहिए था।

हाल ही में दीपिका के साथ आपकी तस्वीरें खींच रहे फोटोग्राफर के साथ आपके झगड़े की खबरें काफी सुर्खियों रहीं। कितना सच था उस खबर में?

हाल ही में दीपिका के साथ आपकी तस्वीरें खींच रहे फोटोग्राफर के साथ आपके झगड़े की खबरें काफी सुर्खियों रहीं। कितना सच था उस खबर में?

हम सभी दोस्त एक वेडिंट पार्टी में थे। वहां पर जो हमारी तस्वीरें ले रहा था वो वेडिंग फोटोग्राफर नहीं था वो चुपचाप हमारी तस्वीरें ले रहा था। मैंने उसे बहुत बार समझाने की कोशिश की लेकिन वो नहीं समझा और फिर मैं उसके पास जाकर बोला कि बस हो गया अब मत कर। तब पता चला कि वो एंटरटेनमेंट कंपनी से था और उसने कहा कि अगर हम आपकी तस्वीरें ऐसे लेंगे तो हमें मदद होगी। तब मैने कहा कि आपको सच बोलकर तस्वीरें लेनी चाहिए थीं। मैंने उसे मारा नहीं बस उसे प्यार से समझा दिया। ये कहानी पता नहीं कहां से आ गयी।

अनुष्का और दीपिका आपकी बहुत करीबी दोस्त रही हैं। दीपिका के साथ अपनी करीबी दोस्ती के बारे में क्या कहना चाहेंगे आप। क्या ये दोस्ती सिर्फ दोस्ती की हद तक ही है?

अनुष्का और दीपिका आपकी बहुत करीबी दोस्त रही हैं। दीपिका के साथ अपनी करीबी दोस्ती के बारे में क्या कहना चाहेंगे आप। क्या ये दोस्ती सिर्फ दोस्ती की हद तक ही है?

अनुष्का और दीपिका दोनों ही मेरे बहुत ही करीब रही हैं। अनुष्का जहां मेरी पहली हिरोइन रही हैं और मैं और दीपिका अच्छे दोस्त हैं दीपिका के अलावा भी मैं अपने बहुत सारे दोस्तों के साथ बाहर जाता हूं घू्मता हूं। लेकिन उनके साथ मेरी खबरें नहीं आती क्योंकि वो बॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेस नहीं हैं। दीपिका मेरी अच्छी दोस्त हैं हम सिर्फ अच्छे दोस्त हैं दोस्ती से ज्यादा कुछ नहीं।

कुछ एक्टर्स को लगता है कि एक्ट्रेसेस को डेट करने में उनके करियर को बहुत नुकसान पहुंचता है। आपका क्या मानना है। एक्ट्रेस के साथ डेट करने में ज्यादा कंफरटेबल महसूस करते हैं या नॉन एक्ट्रेस के साथ?

कुछ एक्टर्स को लगता है कि एक्ट्रेसेस को डेट करने में उनके करियर को बहुत नुकसान पहुंचता है। आपका क्या मानना है। एक्ट्रेस के साथ डेट करने में ज्यादा कंफरटेबल महसूस करते हैं या नॉन एक्ट्रेस के साथ?

मुझे नहीं लगता कि ऐसा कुछ है। मुझे किसी एक्ट्रेस को डेट करने में कोई प्रॉब्लम नहीं है। मुझे नहीं लगता इसमें कोई बुराई है अगर आप दोनों एक दूसरे अच्छी तरह से समझते हैं और एक दूसरे के साथ कंफरटेबल हैं तो चाहे वो एक्ट्रेस हो या नॉर्मल लड़की डेटिंग करने में कोई बुराई नहीं है।

English summary
Ranveer Singh is busy his next box office release Gunday. Ranveer Singh says he gets attached to people very easily and gets emotional. Ranveer also said he hated his emotional nature. He wants to see everyone around him happy and smiling.
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more