For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    छपाक की कहानी - जानिए लक्ष्मी अग्रवाल के साथ क्या हुआ था उस भयानक दिन

    |

    दीपिका पादुकोण, 10 जनवरी को रिलीज़ हो रही फिल्म छपाक में लक्ष्मी अग्रवाल का किरदार निभाते दिखेंगी। लक्ष्मी, एसिड अटैक पीड़िताओं की ज़िंदगी बदलने में अहम किरदार निभाती हैं क्योंकि एसिड अटैक ने उनकी ज़िंदगी बदल दी थी। लक्ष्मी अग्रवाल एक टीवी होस्ट रह चुकी हैं।

    भारत में एसिड के बिकने के खिलाफ बोलने वाली शायद पहली एसिड अटैक पीड़िता हैं। 2005 में 15 साल की उम्र में नदीम खान नाम के एक लड़के ने लक्ष्मी को प्रपोज़ किया था और रिजेक्ट किए जाने पर उन पर तेज़ाब फेंक दिया था। इसके बाद लक्ष्मी ने एसिड अटैक के खिलाफ अपनी जंग शुरू की।

    लक्ष्मी पर एसिड फेंकने वाला उनकी दोस्त का भाई था जो उनसे शादी करना चाहता था। लक्ष्मी बताती हैं कि वो एक किताब की दुकान पर काम करती थीं जहां पहली बार उस आदमी ने मेसेज किया - लक्ष्मी I love You. मैं तुमसे शादी करना चाहता हूं। लक्ष्मी ने कोई जवाब नहीं दिया।

    इसके बाद उस आदमी ने फिर मेसेज किया - मुझे अभी जवाब चाहिए। कुछ दिन बाद उसने कॉल किया और कहा कि लक्ष्मी मुझे पता है कि तुम कुछ करना चाहती हो और अपने माता पिता का नाम रोशन करना चाहती हो। लक्ष्मी ने इस बार जवाब दिया हां। उस आदमी ने चलो ठीक है कह कर फोन रख दिया।

    वो भयानक दिन

    वो भयानक दिन

    लक्ष्मी का जन्म एक मिडिल क्लास परिवार में हुआ था और वो बड़े होकर सिंगर बनने के सपने देखती थीं। नदीम खान, 32 साल का एक आदमी था जो उनसे शादी करना चाहता था और उनकी ना सुनना बर्दाश्त नहीं कर पाया। 2005 में किताब की दुकान से बस स्टॉप की तरफ जाती लक्ष्मी पर नदीम खान ने तेज़ाब फेंक दिया।

    सड़क पर पड़ी रहीं

    सड़क पर पड़ी रहीं

    तेज़ाब डाले जाने के बाद लक्ष्मी, दिल्ली की तुग़लक रोड पर सड़क पर ही पड़ी रहीं। फिर एक टैक्सी ड्राईवर की नज़र उन पर पड़ी और वो उन्हें सफदरगंज अस्पताल ले गया जहां उनका इलाज किया गया।

    समाज ने जीने नहीं दिया

    समाज ने जीने नहीं दिया

    लक्ष्मी ने बताया कि जब वो अस्पताल पहुंची थीं तो उन पर कम से कम 20 बाल्टी पानी डाला गया। इसके बाद उनका इलाज हुआ। समाज के लोग उनके परिवार को सलाह देते थे कि उन्हें मारने का इंजेक्शन दे दिया जाए। एक समय पर लक्ष्मी खुद भी सुसाइड करना चाहती थीं।

    शुरू किया करियर

    शुरू किया करियर

    लक्ष्मी ने अपना करियर, एसिड अटैक पर रोक के कैंपेन के साथ शुरू किया। धीरे धीरे वो पूरी दुनिया में एसिड अटैक पीड़िताओं के लिए एक आवाज़ बन गईं और ऐसी महिलाओं का चेहरा बनीं।

    किया समाज के लिए काम

    किया समाज के लिए काम

    एसिड की रोकथाम के लिए अपने काम के चलते लक्ष्मी को कई अवार्ड्स मिले। वहीं उन्होंने अपने फाउंडेशन के ज़रिए कई एसिड अटैक पीड़िताओं को जीवन में वापस आत्मविश्वास दिलाने और आत्मनिर्भर बनाने का काम किया। बाद में लक्ष्मी ने शीरोज़ नाम का कैफे खोला और एसिड अटैक पीड़िताओं को नौकरी दी।

    जब आया फैसला

    जब आया फैसला

    2013 में लक्ष्मी के कोर्ट केस पर फैसला आना था। उन पर तेज़ाब डालने वाले नदीम के माथे पर एक शिकन भी नहीं थी। उसने जज को कहा कि वो अभी भी मुझसे शादी करने को तैयार है। लक्ष्मी ने जज को जवाब दिया कि उसने मेरा चेहरा बदल दिया है, दिल नहीं बदल सकता।

    जीवन की अलग दिशा

    जीवन की अलग दिशा

    2014 में लक्ष्मी न्यू एक्सप्रेस नाम के चैनल में उड़ान नाम का एक टीवी शो होस्ट करने लगीं। इसी दौरान उनकी मुलाकात सोशल एक्टिविस्ट आलोक दीक्षित के साथ हुई और दोनों साथ रहने लगे।

    मिला एक साथी

    मिला एक साथी

    आलोक और लक्ष्मी ने शादी ना करने का फैसला किया और लिव इन रिलेशनशिप में रहने लगे। दोनों ने फैसला किया था कि दोनों मरते दम तक साथ रहेंगे लेकिन दोनों शादी ना करके समाज को चैलेंज करना चाहते थे।

    नहीं की शादी

    नहीं की शादी

    आलोक चाहते थे कि लक्ष्मी को शादी पर उनके लुक पर कमेंट ना किया जाए क्योंकि शादी में सबसे ज़्यादा अहम एक दुल्हन होती है और लोग इसकी साज सज्जा पर टिप्पणी करते हैं। इसलिए दोनों के परिवारों ने उनके रिश्ते को ऐसे ही स्वीकार किया। लेकिन 2015 में दोनों अलग हो गए। दोनों की एक बेटी है।

    लोग बनाते हैं चेहरा

    लोग बनाते हैं चेहरा

    लक्ष्मी ने बताया कि दीपिका पादुकोण ने जब से उनका किरदार निभाया है तब से दुनिया भर से मेकअप आर्टिस्ट उनका चेहरा रिक्रिएट कर उन्हें तस्वीरें भेजते हैं। लक्ष्मी का मानना है कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि एक एसिड अटैक पीड़िता का चेहरा भी लोग रिक्रिएट करेंगे। इसके लिए वो सिर्फ मेघना गुलज़ार की शुक्रगुज़ार हैं।

    English summary
    Deepika Padukone will be seen playing Laxmi Agarwal in Chhapaak and we bring you the real story of the acid attack victim. Laxmi was attacked by acid at the age of 15 for rejecting a marriage proposal by a 34 year old man.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X