For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    #HEART का खेल: सलमान ने खेला पर शाहरूख ने जीता!

    |

    [#WorldHeartDay] आज ट्विटर पर HEART DAY मन रहा है और दिल का बॉलीवुड से तो दिल का रिश्ता है। दिल से, दिल है तुम्हारा, दिल ही दिल में....दिल क्या करे, दिल विल प्यार व्यार। कुल मिलाकर मतलब समझ गए ना...दिल नहीं तो धड़कन नहीं....धड़कन नहीं तो....खैर ज़्यादा फिल्मी हो गया।

    बॉलीवुड फिल्मों में एक चीज़ और कॉमन है दिल की बीमारियां, दिल का दौरा। जब दुल्हन मंडप से भाग जाए, या दहेज़ की डिमांड हो जाए तो लड़की के पापा को दिल का दौरा ज़रूर पड़ता था। लेकिन शाहरूख, सलमान और अजय देवगन ने तो दिल की बीमारियों के साथ जो खेला है...आप खुद ही तय करिए -

    हेलो ब्रदर

    हेलो ब्रदर

    जिन्हें नहीं याद हो उन्हें याद दिला दे कि इस फिल्म में अरबाज़ खान को गोली लग जाती है....वो भी सीधा दिल में......

    हीरो का दिल...भाई का दिल

    हीरो का दिल...भाई का दिल

    फिर अरबाज़ खान का होता है ट्रांसप्लांट और उन्हें मिलता है हीरो यानि कि सलमान भाई का दिल! [फिल्म में उनका नाम हीरो था!!!]

    प्यार तो होना ही था

    प्यार तो होना ही था

    अजय देवगन इस फिल्म में शातिर चोर बने होते हैं जिन्हें पुलिस ढूंढने में लगी हैं लेकिन फिर भी काजोल को उनसे प्यार हो जाता है.....

    दिल में HOLE!!!

    दिल में HOLE!!!

    अजय देवगन की बहन के दिल में छेद होता है और इसके इलाज के लिए अजय को चोर बनना पड़ता है....प्यार तो होना ही था <3

    दिल ने जिसे अपना कहा

    दिल ने जिसे अपना कहा

    यहां भी कहानी कुछ हेलो ब्रदर जैसी ही है। प्रीती ज़िंटा से सलमान बहुत प्यार करते हैं, वो उनकी बीवी बनते ही मर जाती हैं!!!

    भूमिका के दिल में सलमान

    भूमिका के दिल में सलमान

    वहीं प्रीती की दिल भूमिका में लगा दिया जाता है और प्यार मरता नहीं भले ही दिल धड़कना छोड़ दे...इसलिए भूमिका को सलमान से प्यार हो जाता है क्योंकि दिल तो प्रीती का है जो सलमान के लिए धड़कता है....ufffffffff

    हार्टलेस

    हार्टलेस

    ये एक शेखर सुमन की फिल्म थी जिसमें उनके बेटे अध्ययन सुमन ने एक्टिंग की थी...या नहीं की थी...इससे ज़्यादा आपको जानने में दिलचस्पी नहीं होगी....हम ये जानते हैं। Cool

    इकलौती अच्छी फिल्म

    इकलौती अच्छी फिल्म

    दिल के मामले में हीरो तो शाहरूख खान ही निकले। क्योंकि अब तक दिल वाली दिक्कत पर इकलौती अच्छी फिल्म है कल हो ना हो।

    दिल ही तो नहीं है....

    दिल ही तो नहीं है....

    शाहरूख के पास इस फिल्म में सब कुछ होता है...सिवाय एक दिल के....Ouchhhhh!

    प्लीज़ मत जाओ!

    प्लीज़ मत जाओ!

    इस फिल्म के एंड में कुछ हो ना हो....शाहरूख सबकी आंखें नम कर के गए थे!

    तगड़ा rUMOR

    तगड़ा rUMOR

    वैसे अगर आप नहीं जानते तो जानिए अभी--->[शाहरूख की वजह से हो सकते थे देश में दंगे!!!]

    English summary
    Bollywood films and their heart connection is bizarre.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X