For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    London Confidential Review: भारत बॉर्डर पर नया वायरस, चीन बना है मौनी रॉय की सीरीज का विलेन

    |

    वेब सीरीज-लंदन कॉन्फिडेंशियल

    कलाकार- मौनी रॉय, पूरब कोहली,कुलराज रंधावा।

    यहां देखिए- जी5 Zee5

    भारत-चीन सीमा विवाद और कोरोना चर्चित विषय का ढांचा तैयार कर लंदन कॉन्फिडेंशियल की कहानी खड़ी की गई है। जी5 की ये सीरीज को भारतीय इंटेलिजेंस टीम और चीनी खुफिया एजेंटों के बीच की आंख मिचोली को दिखाते हुए 1 घंटे 17 मिनट का वक्त मांगती है।कहानी शुरू होती है लंदन इंडियन इंटेलिजेंस में काम कर रहे हैं बीरेन से। जो कि चीनी एजेंटों द्वारा पकड़ा जाता है।

    बीरेन के पास सबूत हैं कि कोरोना के बीच चीन-भारत के सीमा पर एक और वायरस का अटैक होना वाला है। भारतीय इंटेलिजेंस को सावधानी से इसका काम करना है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो एक हल्की सी गलती चीन-भारत के बीच युद्ध को जन्म दे सकती है।

    सात दिन में लंदन में दुनिया के सभी वायरस विशेषज्ञों का सम्मेलन होना है। इसी से पहले भारतीय इंटेलिजेंस के अफसर की भूमिका में मौजूद मौनी रॅाय और पूरब कोहली को वो सबूत जुटाना है जो बीरेन के पास था। साथ ही खुद की एजेंसी में मौजूद किसी ऐसे शख्स की तलाश करनी है जो चीन की खुफिया एंजेंसी को खबर पहुंचा रहा है। मतलब देश के गद्दार को।

    चीन- भारत और नया वायरस- कहानी

    चीन- भारत और नया वायरस- कहानी

    कहानी में चीन- भारत और बॅार्डर के साथ कोरोना जैसे वर्तमान के ज्वलंत मुद्दों को दिखाने के बाद भी ठंडी रफ्तार से सीरीज आगे बढ़ती है। समलैंगिक, धोखा, एक्स्ट्रा मैरेटियल अफेयर को भी शामिल किया गया है। मौनी रॉय भारतीय खुफिया विभाग की अफसर उमा की भूमिका में गंभीर और स्क्रिप्ट पर खरी उतरती दिखती हैं।

    प्रेग्नेंट महिला और खतरों का खेल

    प्रेग्नेंट महिला और खतरों का खेल

    ( मौनी रॉय) प्रेग्नेंट महिला को खतरों से मोल लेता हुआ देख नारी शक्ति की बात को भी पूरी सीरीज में ऊपर उठा कर दिखाया गया है। मौनी अपनी भूमिका से इंसाफ करती हैं। हालांकि पूरब कोहली भी कहानी के बीच अपनी मौजूदगी दर्ज करवा लेते हैं। निराशा उनके फाइटिंग सीन को देख होती है, पुलिस अफसर को दिमाग से तेज और शरीर से कभी मजबूत तो कभी कमजोर दिखाया गया है। लेखन में महिला किरदार ऊपर उठाई गई हैं।

    लंदन में मौजूद भारतीय एंबेसी के सभी लोग शक के घेरे में हैं। एक के बाद एक की मौत से कहानी को सस्पेंस में बांधने की कवायद की गई है। स्क्रीनप्ले धीमा होने के नाते सस्पेंस भी चेहरे पर शून्य लेकर आता है।

    गंभीर किरदारों के बीच खोता लेखन और डायरेक्शन

    गंभीर किरदारों के बीच खोता लेखन और डायरेक्शन

    गंभीर किरदारों के बीच लेखन और डायरेक्शन में इस सीरीज को एक भारतीय खुफिया एंजेंसी पर बेस्ड मजबूत कहानी बनाने की केवल कोशिश भर की गई है। जब भी उमा( मौनी रॉय) स्क्रीन पर आती है तो अपने पेट में पल रहे बच्चे को संभालते हुए तो ये ख्याल जरूर आता है कि उनके इस काम को करने के पीछे का जज्बा क्या है? साफ कहें तो ये ख्याल भी आता है कि बिना प्रेग्नेंट दिखाए हुए भी कहानी वैसी ही दिखाई जा सकती है।

    लेखन- संगीत और निर्देशन का तालमेल

    लेखन- संगीत और निर्देशन का तालमेल

    भारतीय राजदूत नीरू यानी एक्ट्रेस कुलराज रंंधावा का किरदार शक और सस्पेंस से भरा दमदार है। उनका किरदार अंत में जाकर निराश भी करता है। अपने अपराध लेखन के लिए लोकप्रिय एस हुसैन जैदी की सोच के साथ निर्देशक कंवल सेठी का तालमेल चीन-भारत और सीमा जैसे गंभीर विषय को लंदन में सेट करने के तार को ढिला रखते हैं। कहानी के उतार-चढ़ाव के साथ बदले बैकग्राउंड स्कोर इसे जासूसी क्राइम का रूप देने की कोशिश करते हैं।

    क्यों देखें- गंभीर कोरोना महामारी के बीच नया वायरस। भारत-चीन युद्ध के मसाले से इस क्राइम-सस्पेंस सीरीज को पिरोया गया है। अपना मसाला चुनिए और दिलचस्पी अनुसार सीरीज को देखिए।

    English summary
    Mouni Roy and Purab kohli starrer Zee5 Web series london confidential review,here read
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X