For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर टीवी स्टार्स का हल्ला बोल, आखिर किसकी होगी सरकार !

    By Prachi Dixit
    |

    भारत के सबसे बड़े पर्व का आगाज हो चुका है। जी हां, ये ऐसा पर्व है जो कि हमारे समाज की सबसे बड़ी जरूरत है। जिससे हम और हमारी जिंदगी जुड़ी हुई है। हम बात कर रहे हैं लोकसभा चुनाव 2019 की। जिस पर भारत का भविष्य यानी कि हम सब का आने वाला कल निर्भर करता है।

    इस चुनाव की सबसे खास बात ये है कि इस बार खुले तौर पर चुनाव को लेकर एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में हलचल शुरू हो गई है। कुछ लोग किसी पार्टी के खिलाफ वोट देने के लिए अपील कर रहे हैं तो वहीं कई लोग अपना जन्मदिन अपने किसी खास उम्मीदवार के लिए प्रचार कर बिता रहे हैं।

    इस बीच टीवी के कई ऐसे टॅाप स्टार्स हैं जो कि चुनाव से आने वाले कल और आज पर प्रकाश डाल रहे हैं। जो कि हल्ला बोल कर उस जरूरत पर ध्यान केंद्रीत करने की कोशिश कर रहे हैं जो कि चुनाव की अहमियत को उजाकर करता है। चलिए फिर जानते हैं कि आपके पसंदीदा टीवी स्टार्स का इस पर क्या कहना है...

    वादों का खेल- टीना दत्ता

    वादों का खेल- टीना दत्ता

    मेरा मानना ​​है कि चुनाव और कुछ नहीं बल्कि बढ़ा चढ़ाकर कर किए गए वादों का खेल बन गया हैं जो दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा हैं। सोशल मीडिया के जरिए ये और बढ़ गया है। मैं बस एक शांतिपूर्ण माहौल वाला देश चाहती हूं और ऐसी जगह जहां लोगों को रहने के लिए रोटी, कपड़ा और मकान मिल सके।

    बदलाव के लिए वोट- जैस्मीन भसीन

    बदलाव के लिए वोट- जैस्मीन भसीन

    मेरा मानना ​​है कि देश में बदलाव हो रहे हैं, लेकिन इसमें समय लगेगा। सभी को वोट देना चाहिए क्योंकि मेरा मानना ​​है कि हर वोट मायने रखता है। तभी हम बदलाव ला सकते हैं।बदलाव के लिए वोट कीजिए।

    देखिए हमने किया क्या है- शशांक व्यास

    देखिए हमने किया क्या है- शशांक व्यास

    मुझे लगता है कि उन्हें केवल इस बारे में बात नहीं करनी चाहिए कि वे क्या करना चाहते हैं, इसके बजाय उन्हें पहले करना चाहिए और उसके बाद दिखाना चाहिए कि देखिए हमने क्या किया है। देश के विभिन्न क्षेत्रों में कई शौचालय हैं लेकिन उनका रखरखाव बिल्कुल नहीं है।

    व्यक्तिगत लाभ के लिए नहीं- शरद मल्होत्रा

    व्यक्तिगत लाभ के लिए नहीं- शरद मल्होत्रा

    सरकार जनता की है, जनता के लिए है और जनता द्वारा है इसलिए सत्ता में आने वाले किसी भी राजनेता को जनता के लिए काम करना चाहिए, न कि अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए। जनता की समस्याएं उसका एजेंडा होना चाहिए। सरकार को हमेशा यह देखना चाहिए कि उसके मानक पूरे हो रहे हैं या नहीं।

    वोट देने नहीं जाते लेकिन क्यों- मोहम्मद नाजिम

    वोट देने नहीं जाते लेकिन क्यों- मोहम्मद नाजिम

    मुझे लगता है कि 'हर वोट मायने रखता है' अब एक कहावत बन गई है। अधिकांश लोग वोट देने भी नहीं जाते क्योंकि वे जानते हैं कि राजनेता द्वारा किया गया कुछ भी उनके फायदे के लिए नहीं होगा।मध्यम वर्ग की स्थिति की राजनेताओं ने हमेशा ही अनदेखी की है।अमीर वर्ग या तो गरीब वर्ग के लोग ही लाभान्वित होते हैं।

    मतदान ने अपना महत्व खो दिया -कृष्ण भारद्वाज

    मतदान ने अपना महत्व खो दिया -कृष्ण भारद्वाज

    मुझे लगता है कि हमें राजनेताओं से कुछ भी उम्मीद नहीं करनी चाहिए क्योंकि अगर हमारी अपेक्षाएं पूरी नहीं होती हैं, तो हम उन्हें दोषी मानते हैं। जब भी कोई नया राजनेता अपने दावों के साथ आता है, हम उस पर भरोसा करते हैं और उसे अपना वोट देते हैं। मेरा मानना ​​है कि मतदान के हमारे अधिकार ने वास्तविक दुनिया में अपना महत्व खो दिया है।

    कोई आपको मतदान करने से रोक नहीं सकता -रोहित पुरोहित

    कोई आपको मतदान करने से रोक नहीं सकता -रोहित पुरोहित

    मैं राजनेताओं से देश में स्थायी परिवर्तन लाने की अपेक्षा करता हूं। मैं हर साल मतदान करता हूं। मेरा मानना ​​है कि सभी को मतदान करना चाहिए क्योंकि वोट देना नागरिक का अधिकार है और कोई भी आपको मतदान करने से नहीं रोक सकता है।

    आतंकवाद से लड़ने- डेलनाज ईरानी

    आतंकवाद से लड़ने- डेलनाज ईरानी

    मैं एक सुरक्षित और शिक्षित भारत चाहती हूं। मैं राजनीतिज्ञों से भ्रष्टाचार, आतंकवाद से लड़ने और एकजुट होकर देश में सकारात्मक बदलाव लाने की उम्मीद करती हूं।

    मतदान एक सामुदायिक गतिविधि नहीं -सुमित कौल

    मतदान एक सामुदायिक गतिविधि नहीं -सुमित कौल

    मतदान एक सामुदायिक गतिविधि नहीं है और इसे समूहों में नहीं किया जाना चाहिए।यह बात समझने की ज़रूरत है।प्रत्येक व्यक्ति को एक उचित अध्ययन के बाद अपना मतदान करना चाहिए। पूर्व प्रतिनिधि और मौजूदा प्रतिनिधि द्वारा कार्यकाल के दौरान किए गए प्रदर्शन के आधार पर उनका चुनाव करना चाहिए।

    सभी दल एक दूसरे का सम्मान करें-समीर ओंकार

    सभी दल एक दूसरे का सम्मान करें-समीर ओंकार

    मैं बस इतना चाहता हूं कि सभी दल मिलकर काम करें। यदि सभी मुद्दों में नहीं, तो कम से कम कुछ क्षेत्रों और एजेंडों में तो ज़रूर। मैं सिर्फ अपने देश में एक सकारात्मक राजनीतिक माहौल देखना चाहता हूं और यह तभी संभव है जब सभी दल एक-दूसरे का सम्मान करना शुरू कर दें।

    English summary
    List Of Television Stars views on Lok sabha Election 2019, here read full news
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X