»   » अमिताभ-धनुष की शमिताभ का फिल्म रिव्यू

अमिताभ-धनुष की शमिताभ का फिल्म रिव्यू

Posted By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

Shamitabh Review-E-Fillum: अमिताभ बच्चन और धनुष की फिल्म शमिताभ पर्दे पर आ गई है। फिल्म देख कर आप जब सिनेमा हॉल से बाहर निकलेंगे तो आपके जहन में कई डाॅयलॉग होंगे, जिनमें यह डॉयलॉग भी जरूर होगा- "पानी को चढ़ने के लिए चाहिए विह्स्की.. विह्स्की को जरुरत नहीं किसी की.." अमिताभ बच्चन के इस डायलॉग में ही शमिताभ फिल्म का पूरा सार छुपा है। और सच पूछिए तो आज हम फिल्म रिव्यू नहीं रिव्यू-ए-फिल्लम परोस रहे हैं। और इसकी फिल्म का मस्त गीत इश्क-ए-फिल्लम है जो बिग बी ने गाया है।

समझने वाले को तो इशारा ही काफी है। फिल्म में अमिताभ बच्चन के किरदार ने कम ही समय में अपना जादू चला दिया और दर्शकों को प्रभावित कर बैठा। वहीं धनुष अपनी दूसरी फिल्म में अपना जादू बरकरार रख पाने में असफल रहे।

फिल्म की कहानी

फिल्म की कहानी दानिष (धनुष) और अमिताभ सिन्हा के इर्द गिर्द घूमती है। दानिष एक छोटे शहर का लड़का है, जो गूंगा है। अपनी मां के मरने के बाद दानिष मुंबई शहर आकर एक बड़ा स्टार बनना चाहता है। अक्षरा एक असिस्टेंट डायरेक्टर है जो कि दानिष के अंदर एक सुरस्टार की सारी क्वालिटी देखती है और उसे कामयाब बनाने के लिए एक ऐसी टेक्नॉलॉजी का सहारा लेती हो जिसके द्वारा दानिष अपने सामने बोल रहे किसी इंसान की आवाज में बोल सकता है।

फिर अक्षरा की मुलाकात होती है अमिताभ सिन्ह (अमिताभ बच्चन) से जो एक शराबी है। अक्षरा अमिताभ और दानिष को एक दूसरे से मिलवाती है और अमिताभ की आवाज दानिष के मुंह से बोलवाकर वो दानिष को सुपस्टार बना देती है। लेकिन फिर अमिताभ को दानिष से ईर्ष्या होने लगती है और दानिष व अमिताभ अपने अपने अहंकार के चलते अलग हो जाते हैं।

हालांकि जब दोनों को ये एहसास होता है कि एक दूसरे के बिना वो कुछ नहीं हैं तो फिर से वो एक होते हैं। फिल्म के बारे में और विस्तार से जानने के लिए आगे पढ़ें स्लाइडर में।

कहानी

कहानी

शमिताभ की कहानी बेहद अलग और मनोरंजक है। इतने अलग विषय को लेकर फिल्म बनाने का साहस सिने जगत के कुछ ही निर्देशक कर सकते हैं जिनमें आर बाल्की एक हैं। इससे पहले भी उन्होंने पा और चीनी कम जैसी हटकर विषयों पर आधारित फिल्में बनाई थीं और दर्शकों को काफी एंटरटेन भी किया था।

निर्देशन

निर्देशन

आर बाल्की का अमिताभ बच्चन प्रेम शमिताभ में पूरी तरह से नज़र आया है। अमिताभ बच्चन का किरदार और उनके अंदर के एक बेहतरीन अभिनेता को सिल्वर स्क्रीन पर दिखाने के लिए आर बाल्की ने अपनी जी तोड़ कोशिश की है।

अभिनय

अभिनय

शमिताभ फिल्म के किरादर बेहद खूबसूरत और दिल को छू लेने वाले हैं। अमिताभ बच्चन के अभिनय के बारे में तो कहना ही क्या, हमेशा की तरह वो अपने किरदार में बेस्ट लगे हैं। यूं तो धनुष ने भी अपने किरदार दानिष के साथ पूरा न्याय करने की कोशिश की है लेकिन कहीं ना कहीं अमिताभ के किरदार के आगे धनुष थोड़ा सा फीके पड़ गये। अक्षरा ने अपनी पहली ही फिल्म में बेहतरीन अभिनय से खुद की अभिनय क्षमता को साबित किया लेकिन उनका किरदार किसी किसी मोड़ पर थोड़ा नीरस सा महसूस हुआ।

संगीत

संगीत

शमिताभ का संगीत इतना खास नहीं है कि लोग फिल्म के गाने गुनगुनाते हुए बाहर आएं। हालांकि अमिताभ की आवाज में पिडली सी बातें गाना जरुर दर्शकों की जुबां पर चढ़ा है। इसके अलावा बाकी गाने फिल्म की कहानी के दौरान बेमानी से महसूस होते हैं।

देखें या नहीं

देखें या नहीं

अमिताभ बच्चन के फैंस का तो फिल्म देखना बनता है। भले ही अमिताभ का फिल्म में बहुत बड़ा किरदार नहीं है लेकिन इसके बावजूद अपने किरदार में अमिताभ ने जो जादू डाला है वो देखने के बाद तो आप शमिताभ की तारीफ करते नहीं थकेंगे। धनुष और अक्षरा भी अपने अपने हिस्से में बेहतरीन दिखे हैं। कुल मिलाकर फिल्म देखने लायक है।

English summary
Amitabh Bachchan and Dhanush starer Shamitabh movie releasing today on box office. Movie has Amitabh Bachchan in a very small but interesting role.
Please Wait while comments are loading...

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi