For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    Review..कमजोर कहानी और सस्पेंस के नाम पर बोर करती है अक्सर 2

    By Madhuri
    |
    Aksar 2 Movie Review: Zareen Khan | Gautam Rode | Abhinav Shukla | Mohit Madaan | FilmiBeat

    Rating:
    1.0/5
    Star Cast: जरीन खान, गौतम रोडे, अभिनव शुक्ला, श्रीसंत, सोफिया हयात
    Director: अनंत महादेवन

    प्रोड्यूसर: भौमिक गोंडालिया
    लेखक: अनंत महादेवन
    क्या है खास: कुछ भी नहीं
    क्या है बुरा: परफॉर्मेंस, कहानी, म्यूजिक
    आइकॉनिक मोमेंट: कुछ कैरेक्टर अक्सर 2 में ऐसे घिसे पिटे डायलॉग बोलते हैं कि आपके पास सिर पीटने के अलावा कोई चारा नहीं होगा।

    विशेष फिल्म्स की खास बात ये है कि उनका एक बंधा दर्शक वर्ग है जो कहानियों के लिए उनकी फिल्में कम और बोल्ड हीरोइनों के लिए ज़्यादा देखता है। इसलिए कोई फर्क नहीं पड़ता कि फिल्म कैसी है।

    हालांकि विशेष फिल्म्स की खासियत है टीसीरीज़ के गाने जो फिल्म की जान होते हैं लेकिन अक्सर 2 में ऐसा कुछ नहीं है। फिल्म हर कोई नहीं देखेगा और जिसे देखनी है, उसके पास अपने कारण हैं।

    प्लॉट

    प्लॉट

    फिल्म की शुरूआत बारिश के साथ होती है (क्योंकि ये एक सस्पेंस और थ्रिलर फिल्म है)। आप एक मिडिल एज की महिला को देखते हैं जो सड़कों पर दौड़ रही है और एक गाड़ी से टकरा जाती है। वो छाता हवा में दिखाती है और फिल्म में क्रेडिट की शुरूआत होती है। पूरी फिल्म में एक शब्द 'Will' आपको बार-बार सुनाई देगा लेकिन असर में इसमें कुछ भी मजेदार नहीं है। फिल्म की कहानी
    मॉरिशस है कि जहां डॉली खंबटा (लिलेट दुबे) एक करोड़पति महिला है। वो अपने Financial Manager पैट (गौतम रोडे) से एक गर्वनेस हायर करने को कहती है।

    प्लॉट

    प्लॉट

    बीच इसके बाद कई तरह के हॉट मोमेंट्स आते हैं। किसी तरह पैट मिसेज खांबटा को शीना को हायर करने के लिए राजी कर लेता है। इसके बाद फिल्म में जो भी होगा वो आपको पहले से पता होगा। नौकरी के बदले पैट रॉय से फेवर मांगने लगता है और मना करने पर नौकरी से निकालने की धमकी देता है।शीना को उसकी बात माननी पड़ती है क्योंकि उसका ब्वॉयफ्रेंड रिकी (अभिनव शुक्ला) हालत से गुजर रहा है।

    डायरेक्शन

    डायरेक्शन

    एक इंटरव्यू में डायरेक्टर अनंत महादेवन ने अक्सर को पुराने फैशन का सस्पेंस थ्रिलर फिल्म बोला था लेकिन असल में ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। फिल्म में ऐसे डायलॉग है जैसे "वॉच योर बैक..इसी पर शाबाशी मिलती है और खंजर भी है।" और "जो थे वो भी चले गए..जो हैं वो भी चले जाएंगे।" कई मौको पर फिल्म का नैरेशन पूरी तरह आपको बोर करती है।फिल्म में कई कन्फ्यूजन हैं जिसे महादेवन और बढ़ा देते हैं।

     परफॉर्मेंस

    परफॉर्मेंस

    जरीन खान ने फिल्म में काफी टाइट ड्रेस में नजर आई हैं और कई जगह तो आप भी हैरत में पड़ जाएंगे।फिल्म में कई जगह आपको लगेगा जैसे उन्हें वाकई मेकओवर की जरुरत है। गौतम रोडे भी फिल्म में कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए हैं तो वहीं अभिनव शुक्ला अपने स्क्रीन टाइम में लिप लॉक करते और बॉडी फ्लॉन्ट करते नजर आए हैं। आपको कई बार लिलेट दुबे को अजीब से विग में देखकर दुखी हो जाएंगे। और हां फिल्म में श्रीसंत भी है जिन्हें देखकर लगता है कि वो शायद नींद में चल रहे हैं।

    तकनीकी पक्ष

    तकनीकी पक्ष

    अक्सर 2 में एक चीज जो अच्छी है वो है फिल्म का लोकेशन जो वेकेशन के लिए परफेक्ट है। लेकिन ये भी फिल्म को बचाने में कामयाब नहीं होती है। एडिटिंग फिल्म की और अच्छी हो सकती है।

    म्यूजिक

    म्यूजिक

    फिल्म का म्यूजिक आपको शायद सबसे ज्यादा निराश करता है।फिल्म का कोई गाना आपको याद नहीं रहेगा जैसे इमरान हाशमी-उदिता गोस्वामी-डीनो मारियो स्टारर के साथ था। तब अक्सर चार्टबस्टर पर टॉप पर लगातार रही थी।

    Verdict

    Verdict

    फिल्म के क्लाइमैक्स में एक कैरेक्टर दूसरे कहता है कि "शायद हम दोनों की हैप्पी एंडिंग हो।" लेकिन बदकिस्मती से ये दर्शकों के साथ ऐसा नहीं होता।

    English summary
    Aksar 2 movie review story plot and rating.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X