»   » REVIEW: अक्षय कुमार की 'एयरलिफ्ट'.. धमाकेदार एक्शन, इमोशन और देशभक्ति

REVIEW: अक्षय कुमार की 'एयरलिफ्ट'.. धमाकेदार एक्शन, इमोशन और देशभक्ति

Posted By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

[समीक्षा]

Rating:
3.5/5

'इंसान की ना, फिदरत ही ऐसी होती.. चोट लगती है न, तो आदमी मां मां ही चिल्लाता है सबसे पहले'.. यह डॉयलोग है फिल्म 'एयरलिफ्ट' की, जो देश भर के सिनेमाघरों में 22 जनवरी को रिलीज हो चुकी है। राजा कृष्ण मैनन के निर्देशन में बनी इस फिल्म का दर्शकों को बेसब्री से इंतजार था।

नोट- कुछ फिल्में Must Watch होतीं हैं, एयरलिफ्ट उन फिल्मों में है..


'एयरलिफ्ट' में देशभक्ति है, परिवार है, एक्शन, इमोशन.. सब कुछ है। फिल्म की कहानी सच्ची घटना पर आधारित है। एयरलिफ्ट 1990 के गल्फ वॉर को दिखाती है, जब कुवैत से 1,70,000 हिंदुस्तानियों को वहां से बचाकर देश की धरती पर लाया गया था। यह भारत के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि थी।


5 कारण : भूल होगी 'एयरलिफ्ट' न देखना


अक्षय कुमार फिल्म में बिजनेसमैन रंजीत कातयाल का किरदार निभा रहे हैं जो कुवैत में रहते हैं। जबकि निमरत रंजीत दयाल की पत्नी अमृता के किरदार में हैं। किस तरह सद्दाम हुसैन के शासन के दौरान यह बिजनेसमैन फंसे भारतीयों को वहां से निकलने में उनकी मदद करता है.. इसकी कहानी है एयरलिफ्ट।


फिल्म में कई ट्विस्ट एंड टर्न्स हैं। अक्षय कुमार यानि की रंजीत कातयाल किस तरह इतनी गंभीर स्थिति से निपट पाते हैं, यह देखने के लिए आपको सिनेमाघर तक जाना पड़ेगा।


यहां पढ़ें फिल्म का पूरा रिव्यू-


कहानी

कहानी

फिल्म की कहानी कुवैत में रहने वाले भारतीय मूल के बिजनेसमैन रंजीत कातयाल (अक्षय कुमार) की है। रंजीत अपनी पत्नी अमृता कातयाल (निम्रत कौर) और बच्ची के साथ कुवैत में रहते हैं और काफी नामी बिजनेसमैन हैं। रंजीत उन भारतीय मूल के लोगों में से है जिन्हें भारत वापस आने में कोई दिलचस्पी नहीं है।


जंग का मैदान

जंग का मैदान

लेकिन अचानक ही इराक और कुवैत के बीच जंग छिड़ जाती है जिसकी वजह से वहां मौजूद भारतीयों को युद्ध के दौरान भारत वापस भेजे जाने की कवायद शुरू हो जाती है। इस स्थिति में रंजीत कटियाल अपनी पहुंच का फायदा उठाता है और वहां मौजूद 1 लाख 70 हजार भारतीयों को देश वापसी कराने में मदद करता है। इस दौरान कई घटनाएं भी घटती हैं जिसे जानने के लिए आपको थिएटर तक जाना होगा।


एक्टिंग

एक्टिंग

अक्षय कुमार ने फिल्म में जबरदस्त परर्फोमेंस दिया है। उन्होंने अपने किरदार रंजीत दयाल के साथ पूरा न्याय किया। पूरी फिल्म में वे दमदार दिखे हैं। खासकर इंटेंस और इमोशनल सीन्स के दौरान। वहीं निमरत कौर ने भी अपने किरदार के साथ पूरा न्याय किया है। लेकिन फिल्म में वे काफी कम देर के लिए दिखीं हैं। दर्शक शायद उन्हें स्क्रीन पर और देखना चाहते थे। पूरब कोहली और इनामुलहक (फिल्म के विलेन) ने भी काफी दमदार रोल निभाया। यानि की एक्टिंग के मामले में फिल्म काफी तगड़ी है।


निर्देशन

निर्देशन

निर्देशन के मामले में फिल्म में थोड़ी कमी रही गयी। फिल्म की स्क्रीनप्ले काफी अच्छी है, लेकिन एडिटिंग थोड़ी कमजोर है। फिल्म के निर्देशन में निर्देशक की अनुभव की कमी झलकती है। कुल मिलाकर फिल्म थोड़ी छोटी है, रियल है और दमदार एक्टिंग के लिए जरूर देखी जा सकती है।


म्यूजिक

म्यूजिक

म्यूजिक के मामले में भी फिल्म ठीक ठाक ही हैं। हालांकि फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर काफी तगड़ा है। खैर, एयरलिफ्ट जैसी फिल्म दर्शक गाने सुनने के लिए जाते भी नहीं हैं।


सिनेमेटोग्राफी

सिनेमेटोग्राफी

फिल्म की सिनेमेटोग्राफी को भी काफी तारीफ मिल रही है। प्रिया सेठ ने वॉर सीन्स का काफी अच्छे से फिल्माया है। तकनीकी तौर पर फिल्म काफी अच्छी बनी है।


क्यों देंखे-

क्यों देंखे-

यदि आप अक्षय कुमार के फैन हैं, तो यह फिल्म आपको कतई नहीं छोड़नी चाहिए। वहीं, इस फिल्म को साल की पहली बेहतरीन फिल्म भी मान सकते हैं। लिहाजा, देर मत कीजिए.. 26 जनवरी के मौके पर यह फिल्म एक उम्दा च्वॉइस है।


English summary
Read here, Raja Krishna Menon's Airlift movie review, featuring Akshay Kumar and Nimrat Kaur.
Please Wait while comments are loading...