For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    ALERT: जब आप KHAN या कपूर नहीं हैं तो चल जाती है तलवार!

    |

    क्या आपने अपनी बेटी को मारा है? सोचिए चलते फिरते, उठते बैठते, हर नज़र, हर ज़ुबान आपसे यही सवाल पूछे। आप दोषी हैं, या नहीं हैं लोग मान चुके हों कि आप ही अपनी बेटी के कातिल। ऐसे एक मां बाप की भावनाओं की कहानी बयान करती है मेघना गुलज़ार और विशाल भारद्वाज की फिल्म तलवार।

    फिल्म नोएडा के आरूषि तलवार - हेमराज हत्याकांड पर बनी है जिसके लिए आरूषि के माता पिता नुपुर तलवार और राजेश तलवार को दोषी करार दिया गया है। किसी ने उनका पक्ष ना सुना, ना समझा और इसलिए मेघना गुलज़ार तलवार लेकर आई हैं। जानिए क्यों हर एक को ज़रूर देखनी चाहिए ये फिल्म -

    कहानी नहीं, किस्सा

    कहानी नहीं, किस्सा

    फिल्म कहानी नहीं है...क्योंकि इस हादसे की इतनी कहानियां हैं कि पूछिए मत। फिल्म एक किस्सा है, हादसे के बाद का, जो नुपुर और राजेश के साथ घटा!

    सच का दूसरा पहलू

    सच का दूसरा पहलू

    फिल्म में सच का दूसरा पहलू दिखाया गया है जो पूरे केस के दौरान ना मीडिया ने दिखाया ना ही उसे दिखाने दिया गया

    माता - पिता का दर्द

    माता - पिता का दर्द

    राजेश और नुपुर ने आरूषि की हत्या की या नहीं की, इस बात को कोई नहीं जानता लेकिन जिस तरह से उन्हें हत्यारा बना दिया गया...बिना उनकी बात सुने...फिल्म उस पक्ष को उजागर करती है।

    नहीं है फैसला

    नहीं है फैसला

    फिल्म कोई गुत्थी नहीं सुलझाती बल्कि फिल्म केवल तब से आज तक जो कुछ भी परिवार के साथ हुआ उसका सीधा सीधा ब्यौरा रखती है।

    स्टारकास्ट

    स्टारकास्ट

    फिल्म की स्टार कास्ट बेहतरीन है। कोंकणा सेन शर्मा और नीरज कवि, आरूषि के माता पिता के किरदार में हैं और इरफान खान सीबीआई ऑफिसर बने हैं।

    दोनों पक्षों का सच

    दोनों पक्षों का सच

    फिल्म काफी रिसर्च के बाद बनाई गई है, इसमें सीबीआई और राजेश - नुपुर दोनों पक्षों का सच सामने लाने की कोशिश की गई है।

    म्यूज़िक

    म्यूज़िक

    फिल्म में विशाल भारद्वाज के गीत हैं, जो आपको अंदर तक परेशान करने वाले हैं।

    हर किसी के लिए ज़रूरी है

    हर किसी के लिए ज़रूरी है

    फिल्म एक उच्च मध्य वर्ग की कहानी है, एक सच्ची घटना पर जहां अचानक एक माता पिता को पूरे देश ने अपनी बेटी का कातिल ठहरा दिया...क्योंकि वो अपनी बेटी की मौत पर रोए नहीं थे।

    एक तरफा था केस

    एक तरफा था केस

    जब से इस केस की शुरूआत हुई ये एक तरफा केस था जहां साफ था कि राजेश और नुपुर ही कातिल हैं। अविरूक सेन की किताब पढ़ कर और फिल्म देखकर शायद आपका नज़रिया बदले।

    आरूषि के लिए

    आरूषि के लिए

    ये फिल्म उस 14 साल की बच्ची के लिए देखिए जिसकी मौत के बाद ही उसके रेप से लेकर अपने नौकर तक के अवैध संबंधों की कहानियां बनाई गईं और सुनाई गई...उस लड़की के साथ क्या वाकई इंसाफ होगा?

    English summary
    Talvar Film preview in hindi - Konkona Sen Sharma, Neeraj Kabi,Irrfan khan.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X