»   » Pics: जब हीरो-हिरोईनों से ज्यादा सहकलाकारों के लिए बजी तालियां

Pics: जब हीरो-हिरोईनों से ज्यादा सहकलाकारों के लिए बजी तालियां

Posted By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

बॉलीवुड भी काफी अजीब है, कब यहां कौन किसका दिल चुरा ले कहा नहीं जा सकता है। कभी-कभी फिल्म में हीरो-हिरोईन कोई और होता है लेकिन लोगों का दिल फिल्म के सहकलाकारों पर आ जाता है। अक्सर हम फिल्मों में देखते हैं कि सहकलाकारों को हीरो-हीरोईन से ज्यादा तवज्जो नहीं दी जाती है लेकिन कहा जाता है कि प्रतिभा किसी से छुपी नहीं रह सकती है और सफलता किसी की बपौती नहीं है इसलिए कभी -कभी सेकंड लीड खेलने वाले हीरो-हिरोईन से ज्यादा तालियां बटोर ले जाते हैं।

Pics: शाहरूख ने तो दम तोड़ा लेकिन दर्शकों ने दिल जोड़ा

संक्षेप में कहें तो बहुत सारे हीरो-हिरोईन ऐसे हैं जिन्होंने अपने छोटे से किरदार में अपनी एक्टिंग का ऐसा रंग भरा कि लोग उनके मुरीद बन बैठे। इसका सबसे खूबसूरत उदाहरण है अभिनेता सन्नी देओल। जिन्होंने राजकुमार संतोषी की सुपरहिट फिल्म 'दामिनी' में इंटरवल के बाद एंट्री मारी थी। लेकिन आधी फिल्म गुजर जाने के बाद भी उन्होंने अपने छोटे से किरदार में ऐसा ऱंग भरा कि उनका वो किरदार अमर हो गया और उन्हें नेशनल सपोरटिंग अभिनेता का अवार्ड भी दिलवा गया। सन्नी की वजह से लोग फिल्म के हीरो ऋषि कपूर को भी फिल्म में भूल गये और फिल्म दामिनी केवल मिनाक्षी शेषाद्री और सन्नी देओल की बनकर रह गयी।

हिट सपोर्टिंग एक्टर का दूसरा उत्कृष्ट उदाहरण है फिल्म दीवाना, जिसमें भी लीड हीरो में ऋषि कपूर थे। फिल्म में शाहरूख खान की एंट्री इंटरवल के बाद होती है लेकिन जब होती है ना  तोलोग ऋषि कपूर की भूल जाते हैं। सत्तर-अस्सी के दशक में लोकप्रिय कलाकार सपोर्टिंग रोल प्ले नहीं करते थे लेकिन अब सूरत बदल चुकी है। अमिताभ बच्चन, रितिक रोशन और शाहरूख खान भी अब फिल्मों में सपोर्टिंग किरदार प्ले करते दिख जाते हैं और इन्होंने कई सपोर्टिंग अवार्ड भी अपने नाम किये हैं।

आईये डालते हैं ऐसे ही बेहतरीन सपोर्टिंग एक्टर-एक्ट्रेस पर एक नजर जिन्होंने चुराया लोगों का दिल...

करिश्मा कपूर ( दिल तो पागल है)

करिश्मा कपूर ( दिल तो पागल है)

इस फिल्म में शाहरूख खान और माधुरी दीक्षित लीड रोल में थे लेकिन करिश्मा अपने जबरदस्त अभिनय से लोगों का दिल जीतने में सफल रही।

शाहरूख खान ( दिवाना)

शाहरूख खान ( दिवाना)

फिल्म में शाहरूख खान की एंट्री इंटरवल के बाद होती है लेकिन जब होती है ना लोग ऋषि कपूर की भूल जाते हैं।

विवेक ओबरॉय ( ओंकारा-कंपनी)

विवेक ओबरॉय ( ओंकारा-कंपनी)

इन दोनों ही फिल्मों में विवेक ओबरॉय ने सपोर्टिंग रोल किया था लेकिन यकीन मानिए दोनों ही फिल्मों में विवेक के हिस्से में सबसे ज्याजा तालियां आयीं।

रितिक रोशन ( कभी खुशी कभी गम )

रितिक रोशन ( कभी खुशी कभी गम )

इस फिल्म में रितिक ने शाहरूख के छोटे भाई का किरदार प्ले करके लोगों को अपना मुरीद बना लिया था। इस फिल्म के लिए रितिक को बहुत सारे पुरस्कारों से नवाजा गया है।

रानी मुखर्जी ( कुछ कुछ होता है)

रानी मुखर्जी ( कुछ कुछ होता है)

इस फिल्म में रानी ने सपोर्टिंग रोल किया था लेकिन लोग उन्हें ही रीयल एक्ट्रेस मान बैठे थे।

शिल्पा शेट्टी ( लाइफ इन मैट्रो-परदेशी बाबू)

शिल्पा शेट्टी ( लाइफ इन मैट्रो-परदेशी बाबू)

इन दोनों ही फिल्मों के यादगार अभिनय के लिेए शिल्पा को याद किया जाता है।

मनोज बाजपेई ( सत्या)

मनोज बाजपेई ( सत्या)

इस क्लासिक सिनेमा के अहम हिस्सा थे मनोज बाजेपयी जिन्होंने अपने छोटे से किरदार भिखू महात्रे से लोगों को अपना दिवाना बना लिया था।

जैकी श्राफ ( परिंदा)

जैकी श्राफ ( परिंदा)

फिल्म परिंदा में जैकी ने भी अपने छोटे से किरदार से लोगों को अपना फैन बनाया था।

English summary
There are many Bollywood stars who have stolen the show with their supporting roles.Here is a look at the supporting actors who stole the show from main lead on-screen.
Please Wait while comments are loading...

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi