»   » रणबीर ने फिल्म रिजेक्ट कर दी और तीन साल बाद मेरी LOTTERY लग गई

रणबीर ने फिल्म रिजेक्ट कर दी और तीन साल बाद मेरी LOTTERY लग गई

By Trisha Gaur
Subscribe to Filmibeat Hindi

बॉलीवुड में इस समय अगर शाहरूख - सलमान की केमिस्ट्री को कोई रिप्लेस कर सकता है तो वो हैं रणबीर कपूर और रणवीर सिंह। अब एक इंटरव्यू में रणवीर ने अपने स्टारडम में रणबीर कपूर के रोल पर बात की।

दरअसल, रणवीर सिंह की डेब्यू फिल्म बैंड बाजा बारात, पहले रणबीर कपूर को ऑफर हुई थी लेकिन रणबीर ने ये फिल्म रिजेक्ट कर दी। इसके बाद यशराज को फिल्म के लिए एक नया लड़का चाहिए था।

ranveer-singh-opens-up-on-band-baaja-baaraat-ranbir-kapoor-connection

रणवीर ने बताया कि मैं तीन साल से स्ट्रगल कर रहा था लेकिन मैंने अपना चेहरा बचाकर रखा था। ना ही मैंने मॉडलिंग की और ना ही कोई एड फिल्म। बस एक दिन मुझे यशराज से कॉल आया और फिर मेरी किस्मत बदल गई।

हालांकि इस शहर में मैंने जो कुछ भी पाया है वो अपनी मेहनत से पाया है। अगर आज मेरे पास स्टारडम है तो मैंने उसे हासिल करने के लिए बहुत ज़्यादा मेहनत की है।

ranveer-singh-opens-up-on-band-baaja-baaraat-ranbir-kapoor-connection

गौरतलब है कि बैंड बाजा बारात आने के पहले इतनी ज़्यादा चर्चा में नहीं थी लेकिन रणवीर अनुष्का ने हौले हौले सबको अपना दीवाना बना दिया। फिल्म में सब कुछ नया था स्टोरी, रोमांस, दोस्ती, एक्टर और डायरेक्टर।

फिल्म के रिलीज़ होते ही केवल इस फिल्म के ही चर्चे थे। इस एक फिल्म ने भारत का पूरा शादी सिस्टम बदल डाला। फिल्म के रिलीज़ होते ही ये तय हो गया था कि सुपरस्टार्स की गद्दी अब हिलने वाली है।

ranveer-singh-opens-up-on-band-baaja-baaraat-ranbir-kapoor-connection

इतना ही नहीं फिल्म में शादी को भी इतने ताज़ा अंदाज़ में परोसा गया कि लोगों का शादी करने और करवाने का भी मन कर गया। तो अनुष्का और रणवीर बड़े ऐंवई अंदाज़ में सिखा गए ये 10 बातें जो आपको भी गांठ बांध लेनी चाहिए

इंफ्लेशन हो या रिसेशन शादियां कभी नहीं रूकती

इंफ्लेशन हो या रिसेशन शादियां कभी नहीं रूकती

अगर आप बिज़नेसमैन हैं तो याद रखिए कि ये शादी का बिज़नेस सबसे बढ़िया है। भई दुनिया इधर की उधर हो जाए न तो लोग शादी करना छोड़ेंगे और न ही शादियों पर खर्च।

बिज़नेस नहीं बिन्नेस करो...अकल से

बिज़नेस नहीं बिन्नेस करो...अकल से

रणवीर और अनुष्का का बिज़नेस प्लान बहुत ही रॉकिंग था। बिल्कुल कम खर्च में बिन्नेस सेट कर के उसे अकल के साथ ऊंचाई पर पहु्चाना। इसलिए कहते हैं, एमबीए करने से कुछ नहीं होता बिन्नेस तो जुगाड़ टेक्नॉलॉजी से ही चलता है।

जिसके साथ व्यापार करो....

जिसके साथ व्यापार करो....

बिन्नेस का पहला उसूल है कि जिसके साथ व्यापार करो उससे कभी ना प्यार करो। ये रूल तोड़ा कि आप की ज़िंदगी में बवाल मचना तय है। हालांकि सेकंड हाफ में रूल टूट जाता है पर उसूल थोड़ा गलत था दरअसल...जिसके साथ प्यार करो उसके साथ व्यापार न करो!

ब्रेड पकौड़े की कसम

ब्रेड पकौड़े की कसम

भई वेटेज आदमी की ज़बान में होना चाहिए। इसलिए ब्रेड पकौड़े की कसम खाओ या पिज्ज़ा बर्गर की..किसी को की फर्क पैंदा ए। इसलिए रणवीर भी अनुष्का को ब्रेड पकौड़े की कसम खाकर पटा लेते हैं।

मार्केट वैल्यू बनी तो ही दुकान चली

मार्केट वैल्यू बनी तो ही दुकान चली

रणवीर अनुष्का एक बहुत बड़ी वेडिंग प्लानर को चैलेंज करते हैं कि मार्केट में मिलेंगे। तो भई अगर आप अपनी वैल्यू नहूीं बनाएंगे तो दुकान चलने का सवाल ही नहीं उठता... और एक बार चैलेंज कर दिया तो पूरा क

दारू और दोस्ती मिक्स नहीं करनी चाहिए

दारू और दोस्ती मिक्स नहीं करनी चाहिए

रणवीर और अनुष्का साथ में सेलिब्रेट करते हैं फिर दोनों में कुछ कुछ की जगह बहुत कुछ हो जाता है। हालांकि सारी गलती दारू की रहती है पर अनुष्का को रणवीर से प्यार हो जाता है..तो दारू में दोस्ती मिक्स करना बैड आइडिया है!

आधा इश्क...पूरा हो ही जाता है

आधा इश्क...पूरा हो ही जाता है

श्रुति को बिट्टू से आधा इश्क होता है पर एंड में जाकर वो पूरा हो ही जाता है। और इसके लिए कुछ ज़्यादा करने की ज़रूरत नहीं, बस प्यार को जाने मत दो, पकड़ कर रखो, इग्नोर करके ;)

पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ अलग

पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ अलग

श्रुति और बिट्टू ने ये भी सिखाया कि पर्सनल झगड़े को प्रोफेशन में नहीं लाना चाहिए। दोनों साथ में कितने सक्सेसफुल थे पर अलग होते ही बैंड बज गया। हालांकि दोनों ने पर्सनल ईगो हटाकर वापस बिल्कुल प्रोफेशनली काम किया। कुछ सीखा!

कभी कभी ऐंवई लुट जाओ

कभी कभी ऐंवई लुट जाओ

श्रुति और बिट्टू का बिंदासपन ही फिल्म की टीआरपी है और लाइफ की भी। आप भी कभी ऐंवई ऐंवई लुट कर देखो, बड़ा मज़ा आएगा। छोटे छोटे मूमेंट्स भी इंजॉय कर लेने चाहिए।

फेयरीटेल वेडिंग सड़क पर भी होती है

फेयरीटेल वेडिंग सड़क पर भी होती है

शादी करने के लिए अच्छा आइडिया और दिमाग चाहिए ताज होटल नहीं। सड़क पर ढाई लाख की शादी भी बिल्कुल फेयरीटेल वेडिंग का एहसास दे सकती है...हाइपर होने की ज़रूरत नहीं है।

BONUS POINT:दोस्त के साथ काम मतलब फन!

BONUS POINT:दोस्त के साथ काम मतलब फन!

रणवीर फिल्म के एंड में बोल ही देते हैं कि दोस्त के साथ काम करने में ही मौज होती है वरना सबकुछ फीका है। दोस्तों के साथ काम करने में काम काम या बोझ नहीं होता, सब कुछ मौज होती। ट्राई करके देख लीजिए।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary
    Ranveer Singh opens up on Band Baaja Baaraat and Ranbir Kapoor connection. The film was offered to Ranbir Kapoor who rejected it and later, Yashraj Films wanted a new boy for the role.

    रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more