»   » Review: ना हंसाती है..ना रूलाती है लेकिन टाइमपास है 'राजा नटवरलाल'

Review: ना हंसाती है..ना रूलाती है लेकिन टाइमपास है 'राजा नटवरलाल'

By: अंकुर शर्मा
Subscribe to Filmibeat Hindi

फिल्म: 'राजा नटवरलाल'
निर्माता: रॉनी स्क्रूवाला, सिद्धार्थ रॉय कपूर
निर्देशक: कुणाल देशमुख
कलाकार: इमरान हाशमी, हुमैमा मलिक, परेश रावल, दीपक तिजोरी,केके मेनन, कुणाल देशमुख
रेटिंग: 2.5/ 5

आज पर्दे पर कुणाल देशमुख की फिल्म 'राजा नटवरलाल' ने  दस्तक दे दी है। फिल्म का प्रमोशन जोर-शोर से किया गया है जिसकी वजह से वो दर्शकवर्ग, जो कि इमरान हाशमी को पसंद करता है को इस फिल्म का बेसब्री से इंतजार था। वैसे भी आज छुट्टी का दिन है इसलिए उम्मीद की जा सकती है कि फिल्म को अच्छी ओपनिंग मिलेगी। फिलहाल फिल्म में वो सारे मसाले हैं जिनकी वजह से फिल्में चलती हैं। कुल मिलाकर फिल्म रोमांच और मनोरंजन की कहानी कहती है।

हालांकि कहीं-कहीं फिल्म में कुछ ऐसी चीजें घटित हो जाती हैं जिनके कारण आप सोच में पड़ जायेंगे कि आखिर यह कैसे हो गया है जिसके लिए जिम्मेदार डायरेक्टर कुणाल देशमुख हैं जिन्हें इस विषय पर ध्यान देने की जरूरत है। अभिनय की बात करें तो इमरान हाशमी ने फिल्म में बढ़िया काम किया है तो वहीं परेश रावल तो फिल्म की जान है।

जबकि खलनायक के रूप में केके मेनन और लंबे अरसे बाद पर्दे पर नजर आये दीपक तिजोरी का काम औसत है। नवोदित पाकिस्तान तारिका हुमैमा मलिक को हुस्न के जलवों को बिखेरने के लिए रखा गया था तो उन्होंने वो काम बखूबी ही किया है। मैडम ने इंटिमेट और किसिंग सीन देने में बिल्कुल भी परहेज नहीं किया और जबरदस्त बोल्डनेस दिखायी है लेकिन उन्हें यह बात गांठ बांध लेनी चाहिए कि अगर बॉलीवुड में कदम जमाने हैं तो कुछ एक्टिंग भी आनी चाहिए। फिलहाल तो वो ठीक-ठाक ही फिल्म में लगी हैं।

Pics: फिल्म 'राजा नटवरलाल'

गाने फिल्म के औसत है, सिर्फ एक-दो गाने ही हैं जिन्हें आप पिक्चरहॉल के बाद गुनगुनायेंगे, हां फिल्म के कुछ संवादों पर आप जरूर मुस्कुरायेंगे। कुल मिलाकर इस बार के लांग विकेंड पर आपके सामने एक मसाला टाइप फिल्म है जिसे कि आप अच्छा टाइमपास मान सकते हैं।

कहानी: फिल्म एक ठग राजा (इमरान हाशमी) और उसके जिगरी दोस्‍त राघव (दीपक तिजोरी) की दोस्ती से शुरू होती है। दोनों एक-दूसरे से बेहद प्यार करते हैं और साथ में छोटी-मोटी चोरी करते हैं लेकिन एक दिन बड़ा हाथ मारने के चक्कर में राजा के दोस्त राघव का मर्डर हो जाता है जिसके पीछे हाथ होता है बड़े माफिया और क्रिमिनल वर्दा यादव (के के मेनन) का। जिसके कारण राजा उससे बदला लेने की ठानता है लेकिन वो अकेला है तभी उसकी मुलाकात होती है उससे बड़े ठग योगी (परेश रावल) से जो उसे तरकीबें बताता है वर्दा से निपटने में।

Video: फिल्म 'राजा नटवरलाल' के गाने

इसी बीच में राजा की प्रेमिका जिया (हुमैमा मलिक) जो कि एक बार डांसर है, वो भी राजा की लड़ाई में उसकी मदद करती है। अब देखते हैं कि राजा सच में योगी की तरकीबों से वर्दा से निपट पाता है या नहीं या फिर लोगों को ठगते-ठगते वो भी ठगा जाता है। अगर इसका उत्तर चाहते हैं तो जरूर देखने जाईये फिल्म 'राजा नटवरलाल' ।

आईये डालते हैं एक नजर फिल्म 'राजा नटवरलाल' की कुछ तस्वीरों पर...

'राजा नटवरलाल' में इमरान हाशमी

'राजा नटवरलाल' में इमरान हाशमी

फिल्म 'राजा नटवरलाल' में इमरान हाशमी अपनी पुरानी इमेज में ही बंधे दिखायी पड़े हैं। इसलिए सिद्धार्थ राय कपूर का यह कहना कि यह फिल्म इमरान की इमेज बदले देगी सरासर गलत है। वैसे फिल्म में इमरान ने अभिनय अच्छा किया।

नयापन नहीं

नयापन नहीं

फिल्म 'राजा नटवरलाल' में नयापन नहीं है लेकिन फिर भी फिल्म लोगों को बांधकर रखती है। फिल्म के कुछ सींस आपको जरूर याद रहेंगे।

कमजोर संगीत

कमजोर संगीत

आमतौर पर इमरान की फिल्म के गाने काफी लोकप्रिय होते हैं लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ है। फिल्म में संगीत कमजोर है। सिर्फ एक-दो गाने ही हैं जिन्हें आप पिक्चरहॉल के बाद गुनगुनायेंगे।

हुमैमा-परेश रावल-केके मेनन

हुमैमा-परेश रावल-केके मेनन

फिल्म में पाकिस्तानी हुमैमा ने औसत ही काम किया है जबकि परेश रावल का अभिनय आप भूल नहीं पायेंगे जबकि केके मेनन भी ठीक-ठाक ही नजर आये हैं।

क्यों देखें और क्यों ना देखें?

क्यों देखें और क्यों ना देखें?

अगर अमिताभ बच्चन की फिल्म नटवरलाल से आप इमरान की राजा नटवरलाल को कंपेयर कर रहे हैं तो फिल्म ना देखें क्योंकि दोनों ही फिल्मों में जमीन आसमान का अंतर है। लेकिन अगर आप इमरान हाशमी के फैन हैं तो फिल्म एक बार जरूर देखें।

English summary
Raja Natwarlal as a whole is different from our expectations but This is a good watch for its actors’ performance and its witty dialogues.
Please Wait while comments are loading...