For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    कंगना रनौत vs शिवसेना विवाद पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की प्रतिक्रिया- 'खामोशी को कमजोरी ना समझें'

    By Filmibeat Desk
    |

    अभिनेत्री कंगना रनौत और शिवसेना के बीच चल रहा लंबा तनाव अभी भी जारी है। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के साथ मुलाकात कर कंगना फिलहाल मुंबई से वापस मनाली जा चुकी हैं। राज्यपाल के सामने कंगना ने पिछले दिनों उनके दफ्तर पर चले बीएमसी के बुल्डोजर से लेकर ताजा घटनाक्रम के बारे में जानकारी रखी। कंगना ने कहा, 'मैंने राज्यपाल से मेरे साथ हुए अन्याय के बारे में बात की।'

    वहीं, इधर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपनी चुप्पी तोड़ी। उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस के जरीए राज्य के नाम संबोधन जारी किया, जिसमें बिना किसी का लिए कहा कि उनकी खामोशी को कमजोरी ना समझा जाए। मैं चुप हूं, इसका मतलब ये नहीं कि मेरे पास जवाब नहीं है।

    पिछले कई दिनों से कंगना रनौत और शिवसेना के बीच सोशल मीडिया पर तनातनी देखने को मिल रही है। यह मुद्दा तब राजनीतिक बन गया, जब कंगना रनौत ने मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से कर दी। सोशल मीडिया पर शिवसेना नेता संजय राउत और कंगना के बीच जमकर बहस हुई। उसके बाद अचानक ही मुंबई स्थित कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ कर दी गई।

    भड़क गईं कंगना

    भड़क गईं कंगना

    ऑफिस टूटने को लेकर कंगना रनौत बुरी तरह भड़क गईं और फिर उन्होंने महाराष्ट्र के राज्यपाल से भी मुलाकात की।

    मुंबई आने से पहले कंगना रनौत को सरकार की तरफ से Y सिक्योरिटी दी गई है। जिस पर काफी सवाल भी उठाए जा रहे हैं।

    महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश

    महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश

    सारे विवादों पर उद्धव ठाकरे ने कहा, इस तरह के राजनीतिक तूफ़ान आते रहेंगे और वे उनका सामना करने में सक्षम हैं। उन्होंने कहा, महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है।

    मुख्यमंत्री पद की गरिमा का पालन

    मुख्यमंत्री पद की गरिमा का पालन

    उद्धव ने कहा, कुछ लोगों को लग सकता है कि कोरोना खत्म हो गया है और उन्हें फिर राजनीति शुरू करनी चाहिए। मैं राजनीति पर बात नहीं करूंगा, लेकिन महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश है। मैं चुप हूं क्योंकि मैं मुख्यमंत्री पद की गरिमा का पालन कर रहा हूं।

    कंगना ने दिया था जवाब

    कंगना ने दिया था जवाब

    9 सितंबर को जब बीएमसी ने कंगना के दफ़्तर पर कार्रवाई की, तो कंगना ने सीधे तौर पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के ख़िलाफ़ बयानबाज़ी की थी। उन्होंने उद्धव ठाकरे पर बयान देते हुए कहा, 'आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा..'

    इज्ज़त तुम्हें ख़ुद कमानी पड़ती है

    इज्ज़त तुम्हें ख़ुद कमानी पड़ती है

    बाद में कंगना बीएमसी की कार्रवाई के ख़िलाफ़ बॉम्बे हाई कोर्ट गईं जिसके बाद कार्रवाई पर रोक लगा दी गई। इसके बाद कंगना ने उद्धव ठाकरे को लेकर कहा, 'तुम्हारे पिताजी के अच्छे कर्म तुम्हें दौलत तो दे सकते हैं। मगर इज्ज़त तुम्हें ख़ुद कमानी पड़ती है। तुम कुछ नहीं हो, सिर्फ़ वंशवाद का एक नमूना हो।'

    जाते जाते कंगना रनौत ने कहा

    जाते जाते कंगना रनौत ने कहा

    "मैं कोई नेता नहीं हूं और न ही राजनीति से कोई लेना-देना है। आज अचानक से मेरे साथ अभद्र व्यवहार हुआ है। राज्यपाल साहब ने बेटी की तरह सुना और मुझे उम्मीद है कि न्याय मिलेगा।"

    नेपोटिज्म और बॉलीवुड में खेमेबाजी को लेकर जॉन अब्राहम ने कही बड़ी बात

    English summary
    Maharashtra CM Uddhav Thackeray breaks silence on Kangana Ranaut controversy and said, my silence doesn’t mean that I don’t have answers.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X