For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    बर्थेडे ब्वॉय मनोज कुमार का ऑप्रेशन सफल, फैंस खुश

    |

    अभिनेता मनोज कुमार का अब से थोड़ी देर पहले मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में गॉल ब्लैडर का सफल ऑप्रेशन हो गया है। सूत्रों के हवाले से खबर है कि मनोज कुमार का यह ऑप्रेशन पूरे एक घंटे तक चला। अब मनोज कुमार पूरी तरह से सही है और डॉक्टरों ने उन्हें आराम करने की सलाह दी है।

    अगर सबकुछ ठीक रहा तो उन्हें दो दिन के अंदर ही अस्पताल से छुट्टी मिल सकती है। मनोज कुमार के बारे अच्छी खबर आते ही उनके फैंस काफी खुश हो गये हैं, उनके चाहने वाले उनके लिए ऊपर वाले से लगातार दुआ मांग रहे थे।

    मालूम हो कि आज मनोज कुमार का जन्मदिन भी है। आज वह अपने जीवन के 75 वें बसंत को पार कर गये हैं। पिछली बार अपने अभिन्न मित्र राजेश खन्ना और दारा सिंह के चले जाने की वजह से मनोज कुमार ने अपना जन्मदिन नहीं मनाया था।

    जबकि इस बार उन्होंने प्राण साहब की मौत की वजह से अपना जन्मदिन नहीं मनाने की सोची थी लेकिन कुदरत की लीला देखिये उन्हें अपने जन्मदिन वाले दिन ऑप्रेशन का सामना करना पड़ा।

    आईये तस्वीरों के जरिये जानते हैं भारत के महान कलाकार मनोज कुमार के बारे में जिन्हें दुनिया भारत कुमार कहती है।

    हैप्पी बर्थडे मनोज कुमार

    हैप्पी बर्थडे मनोज कुमार

    पूरे देश में मि. भारत के नाम से जाने वाले मनोज कुमार का आज जन्मदिन है। उन का जन्म 24 जुलाई 1937 को मौजूदा पाकिस्तान के अबोटाबाद में हुआ था। उनका असली नाम हरिकिशन गिरि गोस्वामी है।

    देश के बंटवारे के बाद उनका परिवार राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में बस गया था। हमारी टीम की ओर से भी मनोज कुमार को उनके जन्म दिन की बहुत बधाई।

    1957 में पहली फिल्म में किया काम

    1957 में पहली फिल्म में किया काम

    मनोज कुमार ने वर्ष 1957 में बनी फिल्म फैशन के जरिए बड़े पर्दे पर कदम रखा। उनकी पहली हिट फिल्म हरियाली और रास्ता (1962) थी।

    उन्होंने वो कौन थी, हिमालय की गोद में, गुमनाम, दो बदन, पत्थर के सनम, यादगार, शोर, सन्यासी, दस नम्बरी और क्लर्क जैसी अच्छी फिल्मों में काम किया। उनकी आखिरी फिल्म मैदान ए जंग (1995) थी।

    बहुमुखी प्रतिभा के धनी मनोज कुमार

    बहुमुखी प्रतिभा के धनी मनोज कुमार

    उनके अभनिय में इतना दम था कि लोगों को लगता था कि पर्दे पर कोई सच में भारत माता का सपूत खड़ा है जिसके लिए अपने देश से बढ़कर कुछ नहीं है।

    बहुमुखी प्रतिभा के धनी मनोज कुमार को अपनी फिल्म शहीद के लिए सर्वश्रेष्ठ कहानीकार का राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया था। मनोज ने अपने कॅरियर में शहीद, उपकार, पूरब और पश्चिम और क्रांति जैसी देशभक्ति पर आधारित अनेक बेजोड़ फिल्मों में काम किया।

    'उपकार' ने रचा इतिहास

    'उपकार' ने रचा इतिहास

    शहीद के दो साल बाद उन्होंने बतौर निर्देशक अपनी पहली फिल्म उपकार का निर्माण किया। उसमें मनोज ने भारत नाम के किसान युवक का किरदार निभाया था, इस फिल्म में बदलते भरत की तस्वीर थी जिसे जिसने देख बस उन्ही का होकर रह गया।

    उपकार को सर्वश्रेष्ठ फिल्म, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक, सर्वश्रेष्ठ कथा और सर्वश्रेष्ठ संवाद श्रेणी में फिल्मफेयर पुरस्कार मिला था।फिल्म को द्वितीय सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार तथा सर्वश्रेष्ठ संवाद का बीएफजेए अवार्ड भी दिया गया।

    वर्ष 1992 में पद्मश्री पुरस्कार

    वर्ष 1992 में पद्मश्री पुरस्कार

    मनोज कुमार को वर्ष 1972 में फिल्म बेईमान के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और वर्ष 1975 में रोटी कपड़ा और मकान के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का फिल्मफेयर अवार्ड दिया गया था। बाद में वर्ष 1992 में उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा गया।

    English summary
    Finally Birthday Boy Actor Manoj Kumar's gall bladder Surgery Successful, Fans are Happy About This.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X