For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    INTERVIEW दंगल-रईस जैसी ''द खान'' फिल्मों में एक्ट्रेस उभरी हैं, शायद अब लोगों की सोच बदलें

    By Prachi Dixit
    |

    ऐसी अफवाह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमारी फिल्म में दिखाई देंगे। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। मित्रों हमारी फिल्म है। दोस्ती और अहसास की कहानी है। तकरीबन 10 साल बाद मैं अपना बॅालीवुड डेब्यू कर रही हूं।

    लगातार टीवी करने से हम मेकेनिकल हो जाते हैं। दिमाग से एक्टिंग करने लगते हैं। लेकिन मैंने हमेशा दिल से काम किया है। यह कहना है टीवी की खूबसूरत चंद्रकांता यानी कृतिका कामरा का।

    BIGG BOSS 12 की पहली फाइनल लिस्ट LEAK,7 स्टार्स एक साथ,फैंस के लिए सरप्राइज!

    2008 में कितनी मोहब्बत है ने कृतिका को रातों रात स्टार बना दिया। 2018 में जैकी भगनानी के साथ मित्रों से वह बड़े पर्दे पर खुद को साबित करने की कवायद में हैं।

    फिल्मीबीट से बातचीत के दौरान कृतिका ने टीवी एक्ट्रेस की बदलती हुई इमेज, खान की फिल्में और दर्शकों की बदलती हुई सोच से जुड़े कई सवालों का जवाब दिया। यहां पढ़ें एक दिलचस्प बातचीत।

    प्रधानमंत्री तो हम सबके हैं तो मित्रों भी हम सबका हुआ

    प्रधानमंत्री तो हम सबके हैं तो मित्रों भी हम सबका हुआ

    प्रधानमंत्री तो हम सबके हैं तो मित्रों भी हम सबका हुआ। वैसे ऐसा कुछ भी नहीं है। मित्रों हम सबकी कहानी है। हमारी फिल्म में मित्रों का मतलब दोस्ती है। अहसास है। टाइटल के अलावा एक और समानता है कि यह फिल्म अहमदाबाद में बेस्ड है। कुछ चीजें हैं जो कि पीएम से जुड़ी हुई है। कई लोगों को लगता है कि पीएम हमारी फिल्म में दिखाई देंगे। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है। सच कहूं तो इस फिल्म में किसी तरह की मिलावट नहीं है। डायलॅाग से लेकर फिल्म का हर सीन दर्शकों को अपना सा लगेगा। यह एक बेहद सच्ची और खूबसूरत फिल्म है। दोस्ती,परिवार,प्यार फुल आॅन कॅामेडी सबकुछ इस फिल्म का हिस्सा है।

    फिल्म मेकिंग से प्यार

    फिल्म मेकिंग से प्यार

    जब मैं मुंबई आयी थी तो मुझे फिल्म और टीवी में अंतर नहीं पता था। मेरे लिए सब एक बराबर था। हां, बस काम करना था। मुझे सिर्फ एक्टिंग से प्यार नहीं था। बल्कि फिल्म मेकिंग की पूरी प्रक्रिया से प्यार हो गया। यह तब हुआ जब मैं पहली बार शूटिंग करने के लिए सेट पर पहुंची थी। लाइटिंग से लेकर कैमरा हैंडलिंग तक मुझे हर चीज से प्यार हो गया । मेरी दिलचस्पी सिर्फ कैमरे के सामने खड़े होने में नहीं थी। मेरा हमेशा से मन रहता है यह जानने की आखिरकार डायरेक्टर ऐसे क्यों शॅार्ट लेते हैं। वह हर सीन के पीछे क्या सोचते हैं। कुलमिलाकर,हर वह छोटी बड़ी खूबी जो एक सीन को परफेक्ट बनाती है।

    बिग स्टूडियो की फिल्में आॅफर हुईं

    बिग स्टूडियो की फिल्में आॅफर हुईं

    10 साल बाद मैं बॅालीवुड डेब्यू कर रही हूं।मैंने कभी नहीं सोचा कि टीवी छोड़कर फिल्म कर लेती हूं।हालांकि कई बार ऐसा हुआ कि मेरा डेब्यू होने ही वाला था।लेकिन कुछ कारणों से ऐसा हो नहीं पाया। मुझे कई बार बिग स्टूडियो की फिल्में आॅफर हुईं। लेकिन वो फिल्में कभी फ्लोर पर तो कभी शुरू नहीं हो पायी। कई बार ऐसे किरदार का प्रस्ताव मिलता जो मैं करना नहीं चाहती। इस वजह से डेब्यू करने में मुझे लंबा समय लग गया। लेकिन अब मित्रों से डेब्यू करके मैें काफी खुश हूं।

    कहानी में आवाज होनी चाहिए..

    कहानी में आवाज होनी चाहिए..

    सच कहूं तो मैं ऐसा काम नहीं करना चाहती,जहां पर मेरा इस्तेमाल सामान की तरह हो। आप यह भी समझ सकते हैं कि टीवी ने मेरी आदत खराब कर दी है। टीवी पर हमेशा मैंने मैन लीड की भूमिका निभाई। मेरे लिए फिल्म में किरदार की जगह से ज्यादा किरदार की भूमिका मायने रखती है।मैं ऐसी फिल्मों का हिस्सा बनना चाहती हूं। जहां पर कहानी की आवाज हो। फिल्म के किरदार लाजवाब हो। मैं चाहती हूं कि लोग मुझे याद रखें।

    दंगल और रईस जैसी फिल्में हैं, जहां पर एक्ट्रेस

    दंगल और रईस जैसी फिल्में हैं, जहां पर एक्ट्रेस

    मुझे पता है कि किस तरह के मौके मेरे पास आ सकते हैं। मैं भी द खान की फिल्में करना चाहती हूं। कौन उनके साथ काम नहीं करना चाहेगा।बड़ी फिल्में जब अच्छा बिजनेस करती हैं तो सभी के लि रास्ते खुल जाते हैं। मैं भी बड़ी फिल्मों का हिस्सा बनना चाहती हूं। लेकिन यह काम मैं उस कीमत पर नहीं करना चाहती जहां स्किप्ट से मेरे किरदार का कोई जुड़ाव ना हो।दमदार किरदार ना हो।वहीं दंगल और रईस जैसी फिल्में हैं। जहां पर एक्ट्रेस उभर कर आयी हैं। उम्मीद है मुझे भी ऐसा मौका भविष्य में मिले। मेरा फोकस फिलहाल अच्छे फिल्ममेकर और स्क्रिप्ट पर है। अच्छी कहानी ही लंबे समय तक चलती है।

    टीवी स्टार्स के लिए लोगों की सोच बदल जाए

    टीवी स्टार्स के लिए लोगों की सोच बदल जाए

    इस साल मौनी रॅाय,राधिका मदान के साथ कई टीवी एक्ट्रेस बॅालीवुड में लांच हो रही हैं। ऐसा नहीं है कि यह सिर्फ इस साल अचानक हो रहा है। सबका अपना सफर और संघर्ष रहा है। किसी को भी यह मौका आसानी से नहीं मिला है। यह बात और है कि सबकी फिल्में इसी साल रिलीज हो रही हैं।उम्मीद है कि टीवी स्टार्स के लिए लोगों की सोच बदल जाए। हमें हमारे मीडियम से आंका नहीं जाए। अच्छा काम करने का मौका हम सबको भी मिले।

    मधुबाला की बायोपिक करना चाहती हूं..

    मधुबाला की बायोपिक करना चाहती हूं..

    हर एक्ट्रेस की तरह मेरी भी विश लिस्ट है। बायोपिक पर आप सवाल करें तो मैं मधुबाला की बायोपिक करना चाहती हूं। उनकी जिंदगी में कई लेयर हैं। अगर कभी मधुबाला जी की बायोपिक बनती है तो वह कई लोगों को मिल सकती है। लेकिन मुझे नहीं। इसकी वजह साफ है कि जब भी ये बायोपिक बनेगी तो लार्ज स्केल पर कास्टिंग होगी। मधुबाला जी की जिंदगी काफी दिलचस्प रही है। उनकी बायोपिक में भले ही मुझे कास्ट नहीं किया जाए,लेकिन बनती है तो देखने जरूर जाऊंगी।

    कंटेंट राजा है..

    कंटेंट राजा है..

    फिल्म के साथ मेरा फोकस टीवी पर भी रहेगा। टीवी मेरा घर है। मैं कभी टीवी से दूर नहीं जाऊंगी। वैसे भी अब टीवी,वेब और फिल्म के बीच की लाइन धुंधली होती जा रही है।दर्शकों की सोच अब केवल अच्छे कंटेंट की तरफ है। फिर चाहे वह वेब हो या फिल्म। मित्रों के बाद मैं सोच समझकर अपना आगे का रास्ता तय करूंगी।

    English summary
    In an interview Kritika Kamra talk about her Debut film mitro and big stars film
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X