»   » 'किरदार में दम हो तभी करुंगी खानों के साथ काम'- विद्या बालन

'किरदार में दम हो तभी करुंगी खानों के साथ काम'- विद्या बालन

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

बॉलीवुड में बहुत ही कम ऐसे एक्ट्रेसेस हैं जिन्होंने लगातार एक ही जैसे किरदार ना निभाकर खुद की एक अलग पहचान बनाई है। इन्हीं एक्ट्रेसेस में से एक हैं विद्या बालन। जिन्होंने पा, इश्किया, डर्टी पिक्चर, कहानी जैसी लीक से हटकर फिल्में देने के बाद अब इंडस्ट्री को पहली महिला जासूस देने का भी बीड़ा उठाया है। जी हां अपनी अगली फिल्म बॉबी जासूस में विद्या बालन एक महिला जासूस का किरदार निभाती नज़र आएंगी। चूंकि इंडस्ट्री में अभी तक महिला जासूसों को लेकर की भी फिल्म नहीं बनी है और ना ही महिला जासूसों पर कोई किताब ही लिखी गयी है इसिलए इस किरादर को निभाने के लिए विद्या ने काफी अलग अलग तरीकों से जानकारियां जुटाईं। हाल ही में वनइंडिया के साथ हुए इंटरव्यू के दौरान विद्या ने काफी दिलचस्प बातें हमारे साथ शेयर कीं-

महिला जासूस का किरदार निभाने के लिए कितनी मेहनत करनी पड़ी आपको। चूंकि महिला जासूसों पर अभी तक ना ही कोई नॉवेल बनी है और ना ही कोई फिल्म तो कितना मुश्किल था इस किरदार के लिए तैयारी करना?

कोई भी रिफरेंस नहीं था। जासूसों के लिए रिफरेंसेस थे लेकिन मैंने कोई भी रिफरेंस यूज नहीं किया। इतने सालों में अभी तक कई सारी फिल्में देखी हैं, किताबें पढ़ी हैं, तो बस उन्हें ही रिफरेंस के रुप में यूज किया। मै बस अपनी पुरानी यादों में गयी और वहां से जो कुछ भी मेरे दिमाग में था। बॉबी जासूस की जो लेखिका थीं संयुक्ता चावला शेख ने काफी रिसर्च की होगी क्योंकि उन्होंने कहानी में पूरी डीटेल डाल दी थीं। साथ ही निर्देशक के साथ मैंने काफी वक्त दिलाया उनके पास वो सारी जानकारियां थीं जिनकी मुझे जरुरत थी। मैंने इंटरनेट से कुछ डिटेक्टिव एजेंसियों के नंबर लेकर उन्हें फोन करके भी पता किया कि वो किसी केस को लेने से पहले किस तरह के सवाल पूछते हैं।

बॉबी जासूस के लिए 12 लुक्स किस आधार पर चुने गये?

हमने काफी वक्त बिताया फाइनल 12 लुक्स डिसाइड करने में। हर एक किरदार को दूसरे किरदार से अलग दिखाना था। सिर्फ दाढ़ी मूंछ लगाकर ही खुद को मर्द बनाकर नहीं बैठना था। बल्कि लुक ऐसा होना चाहिए था कि कोई पहचान ही ना सके। हर लुक अलग होना चाहिए था। इसलिए हमने पियून, मौलवी, ज्योतिष, भिखारी, चूड़ीवाला और कुछ फीमेल किरदारों के लुक चुने। किसी भी एक्टर के लिए ये एक बेहतरीन मौका था। एक ही फिल्म में मुझे कई सारे किरदार निभाने का मौका मिला।

महिला जासूसों पर अब तक कोई फिल्म नहीं बनी है। बॉबी जासूस को करते समय किसी तरह का रिस्क नहीं महसूस हुआ?

बॉबी जासूस में वो सारे एलिमेंट्स हैं जो कि आप अपने परिवार के साथ बैठकर देख सकते हैं इंज्वॉय कर सकते हैं। मैं अपने परिवार के साथ बैठकर ये फिल्म देख सकती हूं। बहूत ही साफ सुथरी और फैमिली एंटरटेनर फिल्म है बॉबी जासूस। वैसे भी मैं कभी भी रिस्क के बारे में नहीं सोचती कि किसी और ने नहीं किया तो कहीं मैं फेल ना हो जाऊं।

अली आपसे बहुत ही जूनियर कलाकार हैं। उन्हें लेकर की सवाल नहीं आया कि इनके साथ फिल्म करना सही होगा या नहीं, कैमिस्ट्री बनेगी या नहीं?

सच बोलूं तो बॉबी जासूस से पहले मैंने उनकी कोई फिल्म नहीं देखी थी। मुझे बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था कि वो कौन हैं। साहिल बाकी क्रू कास्टिंग से काफी खुश और संतुष्ट थे। अगर निर्देशक संतुष्ट है तो फिर मैं कभी भी कास्टिंग को लेकर नहीं सोचती। हमने काफी वर्कशॉप की जिनके दौरान अली, मैं और बाकी पूरी कास्ट के बीच एक अच्छा रिश्ता बन गया। हम सभी एक दूसरे को जानने लगे। हम एक दूसरे के साथ काम करने में काफी कंफरटेबल हो गये। एक्टिंग की बात करें तो अली एक बेहतरीन और गुड लुकिंग एक्टर है।

खुद से काफी यंग एक्टर के साथ रोमांस करने का एक्सपीरिंयस कैसा रहा, किसी तरह की झिझक महसूस हुई शूटिंग के दौरान?

(हंसते हुए) जब हम शूट के समय रोमांस करते हैं तो कुछ महसूस नहीं होता। और वैसे भी रोमांस करने की कोई उम्र थोड़े ना होती है। शूट करते समय सिर्फ ये ध्यान रहता है कि अपना शॉट ओके करना है बाकी फिर किसकी क्या उम्र है ये सब ध्यान नहीं रहता। मुझे कोई मुश्किल नहीं हुई।

क्या आपको जासूस किताबें पढ़ने का शौक था जो आपने बॉबी जासूस करने में उत्सुकता दिखाई?

जासूसी फिल्में बहुत ही रोमांचक होती हैं, मुझे बचपन से कोई जासूसी किताबें पढ़ने का शौक तो नहीं था लेकिन बॉबी जाससू की कहानी मुझे काफी पसंद आई क्योंकि ये सिर्फ एक रोमांचक जासूस कहानी नहीं है बल्कि इसमें काफी इमोशन भी हैं। बॉबी जासूस एक लड़की की भी कहानी है जो कि हैदराबाद के एक छोटे से गांव से है और जो अपने मोहल्ले की सबसे बड़ी जासूस बनना चाहती है। वो देश भर की सबसे बड़ी जासूस बनने का सपना नहीं रखती है। बाकी जासूसी फिल्मों की तरह बॉबी जासूस में भी थ्रिलर और रोमांचक पहलू हैं लेकिन इसमें जो लड़की है वो काफी मनोरंजक है। शॉर्ट में कहूं तो वो पटाखा है।

बॉबी जासूस में आपके अलग अलग किरदारों को देखकर आपके परिवार का क्या रिएक्शन था?

उन्हें यकीन नहीं था लेकिन उन्होंने जब पहली बार देखा तो वो काफी खुश हुए। हैदराबाद में मैं जब शूट कर रही थी तो सभी को ये पता था कि मैं बॉबी जासूस नाम की फिल्म कर रही हूं लेकिन उन्हें ये नहीं पता था कि क्या है बॉबी जासूस में। पहली बार जब बॉबी जासूस की तस्वीर अखबारों में छपी तो मेरे पिताजी ने सबसे पहले वो तस्वीर देखी और कहा कि कुछ है इस तस्वीर में। ये किसी जान पहचान वाली की तस्वीर है। तब उन्होंने जब ये पढ़ा की ये विद्या बालन की बॉबी जासूस की तस्वीर है तो वो काफी हैरान हुए और साथ ही खुश भी हुए। परिवार में सभी ने काफी तारीफ की।

बतौर ऐक्टर भी आपने दिया के साथ काम किया है और अब बतौर निर्माता दिया मिर्जा बॉबी जासूस से जुड़ी हैं। कैसा अनुभव रहा?

मैंने दिया के साथ बतौर एक्टर भी काम किया है। हालांकि जो भी फिल्में हमने साथ में की हैं उनमें हमारा साथ में कोई सीन नहीं था लेकिन सेट पर मुलाकात होती रहती थी। वो एक बहुत ही बेहतरीन इंसान हैं। हमारे बीच दोस्ती तो नहीं कह सकती लेकिन हमारे बीच काफी करीबी रिश्ता जरुर बन गया। बतौर निर्माता दिया काफी अच्छी हैं। मुझे यकीन ही नहीं होता कि दिया और साहिल की ये दूसरी फिल्म है बतौर निर्माता। निर्माता का काम होता है कि वो एक्टर मैनेजमेंट करे और दिया व साहिल दोनों ही इस मामले में काफी बेहतरीन हैं। हमने 50 दिनों में बॉबी जासूस की शूटिंग खत्म कर ली, हम करीब 45 दिनों तक अपने दोस्तों, परिवार से दूर थे लेकिन किसी के भी अंदर वो सोच नहीं थी कि यार कब खत्म हो रहा है। घर की याद आ रही है। हम सभी ने एक दूसरे के साथ काफी मजे किये।

बॉबी जासूस के 12 किरदारों में से सबसे मुश्किल और सबसे आसान किरदार कौन सा था?

बॉबी जासूस के 12 किरदारों में से सबसे मुश्किल और सबसे आसान किरदार कौन सा था?

सबसे मुश्किल था मौलवी का किरदार, इसे मुश्किल नहीं कहा जा सकता लेकिन हां थोड़ा चैलेंजिंग जरुर था। इस किरदार के रुप में मेरी नाक में कुछ लगाया गया था जिससे मेरी नाक थोड़ी मोटी दिखे और उसके साथ दौड़ पाना बहुत मुश्किल था। इसके अलावा दाढ़ी, मूंछ आदि कई सारी चीजें थीं जो कि मुझे पहननी पड़ी थीं। काफी सबसे मजेदार था ज्योतिष का किरदार।

आप इंडस्ट्री की उन एक्ट्रेसेस में से हैं जो कि हर बार अलग अलग तरह की फिल्में करती हैं। नये किरदार निभाती हैं, क्या आप स्टीरियोटाइप्स फिल्मों और किरदारों से खुद को अलग करना चाहती हैं?

आप इंडस्ट्री की उन एक्ट्रेसेस में से हैं जो कि हर बार अलग अलग तरह की फिल्में करती हैं। नये किरदार निभाती हैं, क्या आप स्टीरियोटाइप्स फिल्मों और किरदारों से खुद को अलग करना चाहती हैं?

मैं उन लोगों में से हूं जो कि बहुत ही जल्दी बोर हो जाते हैं। तो इसलिए मैं हमेशा ही कुछ अलग अलग किरदार निभाने की कोशिश करती हूं। मेरे लिए एक्टर वो है जो कि किसी अलग अलग किरदारों में दूसरों की जिदंगी जीता है और पिछले 7 सालों के बाद आज मुझे लग रहा है कि इंडस्ट्री में मुझे अलग अलग तरह की फिल्में, किरदार मिल रहे हैं। पा, इश्किया के बाद से ही ये बदलाव शुरु हुआ है। और मेरे पास जो भी ऑफर आते हैं उनमें से मैं बेस्ट चुनने की कोशिश करती हूं।

क्या आपको लगता है कि धीरे धीरे हमारी इंडस्ट्री में फिल्में और किरदार रियल होने लगे हैं?

क्या आपको लगता है कि धीरे धीरे हमारी इंडस्ट्री में फिल्में और किरदार रियल होने लगे हैं?

मुझे ये महसूस हो रहा है कि ये बदल रहा है। बदलाव कभी भी अचानक से नहीं होता, धीरे धीरे होता है। हालांकि अभी भी 95 प्रतिशत लोग वही पुराने घिसे पिटे आइडियास पर फिल्में बना रहे हैं, काम कर रहे हैं। लेकिन 5 प्रतिशत लोग हैं जो कि कुछ अलग कर रहे हैं। बॉबी जासूस की ही बात करें तो ऐसा नहीं है कि बॉबी एक जासूस है तो उसे बहुत ही तेज, स्टाइलिष और गंभीर होना चाहिए। वो एक असली लड़की है और वो ट्रेन भी नहीं है। वो शेरलॉक होम्स की तरह भी नहीं है। तो आजकल किरदार भी धीरे धीरे रियल और आम जिंदगी से जुड़ी हुए बनने लगे हैं।

बॉलीवुड की किस एक्ट्रेस में आपको वो लीक से हटकर काम करने का जुनून नज़र आता है?

बॉलीवुड की किस एक्ट्रेस में आपको वो लीक से हटकर काम करने का जुनून नज़र आता है?

मेरे हिसाब से कंगना उन एक्ट्रेसेस में से हैं जो कि लीक से हटकर काम करने की कोशिश कर रही हैं। हालांकि मैंने क्वीन फिल्म नहीं देखी लेकिन जितना सुना है उस हिसाब से क्वीन में उन्होंने बेहतरीन काम किया है। मुझे याद है कि करीब 6 साल पहले मैंने फैशन देखी थी और तभी से मुझे कंगना बेहद पसंद हैं। मुझे लगता है को काफी बोल्ड और हिम्मत वाली एक्ट्रेस हैं। उनके काम और फिल्मों को देख काफी खुशी होती है।

कंगना की बात चली है तो आपसे जानना चाहेंगे कि कंगना ने हमेशा इंडस्ट्री में महिला एक्टर्स की फीस मेल एक्टर्स के बराबार करने की मांग की है। तो क्या कुछ सुधार हुए हैं इस दिशा में?

कंगना की बात चली है तो आपसे जानना चाहेंगे कि कंगना ने हमेशा इंडस्ट्री में महिला एक्टर्स की फीस मेल एक्टर्स के बराबार करने की मांग की है। तो क्या कुछ सुधार हुए हैं इस दिशा में?

एक्ट्रेसेस की फीस में बदलाव हुए हैं लेकिन अगर आप एक्टर्स से कंपेयर करें तो अभी भी बहुत बड़ा गैप है। लेकिन मेरा मानना है कि हमें कंपेयर करना ही क्यों है। हमें अपना हक मिलेगा, हम काफी आगे बढ़ चुके हैं। एक्ट्रेसेस का भी किसी फिल्म की सफलता में उतना ही योगदान होता है और वो भी अच्छी फीस की हकदार हैं।

आपने कहा कि आप अमिताभ बच्चन की जासूसी करना चाहती हैं। वजह क्या है इसके पीछे?

आपने कहा कि आप अमिताभ बच्चन की जासूसी करना चाहती हैं। वजह क्या है इसके पीछे?

लोग मुझसे बार बार पूछते थे कि मैं किस बॉलीवुड एक्टर की जासूसी करना पसंद करुंगी। तो मैंने फैसला किया कि एक नाम चुन लेती हूं और हर बार यही बोलूंगी। और मुझे लगता है कि मिस्टर बच्चन से जुड़ी कई सारी ऐसी बाते हैं जो हमें नहीं पता। पिछले करीब 40 सालों से वो बॉलीवुड के सुपरस्टार हैं और अभी भी उनके नाम पर फिल्में चलती हैं। जब सरकार का प्रोमो आया था और उसमें सिर्फ अमिताभ बच्चन का हाथ दिखाया गया था तो वो हाथ देखकर ही मुझे पता चल गया कि ये अमिताभ जी हैं। तो हम उनके बारे में सबकुछ पता है लेकिन फिर भी बहुत कुछ नहीं पता।

सिद्धार्थ की जासूसी करना चाहेंगी आप?

सिद्धार्थ की जासूसी करना चाहेंगी आप?

मैं उनकी जासूसी नहीं करना चाहती लेकिन मुझे लगता कि मैं उन्हें काम करते हुए देखना चाहती हूं, कि जब वो कभी नाराज होते हैं तो कैसे होते हैं, लोगों के साथ कैसे बात करते हैं, और भी कई सारी बातें। हम दोनों वैसे तो एक ही घर में रहते हैं और एक दूसरे के बारे में हमें सबकुछ पता है लेकिन काम के दौरान वो कैसे होते हैं ये नहीं पता। वैसे तो उनके साथ के लोग मुझे सबकुछ बता ही देते हैं लेकिन मैं खुद ये सब देखना चाहती हूं।

पिछले कुछ समय में कई बार आपकी प्रेग्नेंसी की खबरें आईं। तो किस तरह से रिएक्ट करती हैं आप इन खबरों पर?

पिछले कुछ समय में कई बार आपकी प्रेग्नेंसी की खबरें आईं। तो किस तरह से रिएक्ट करती हैं आप इन खबरों पर?

मुझे बस हंसी ही आती है इन सब बातों पर। क्योंकि मैं उन्हें कैसे बताऊं कि मैं अभी मां नहीं बन सकती ये संभव ही नहीं है। मैं कोई सुपर वुमन तो हूं नहीं। हर महीने वो पूछते हैं कि क्या मैं प्रेग्नेंट हूं मैं इंकार करती हूं, फिर अगले महीने वही सवाल। तो अब तो मुझे इन सब बातों पर हंसी ही आती है।

प्रेग्नेंसी क्लॉस के बारे में आपका क्या कहना है?

प्रेग्नेंसी क्लॉस के बारे में आपका क्या कहना है?

प्रेग्नेंट क्लॉस में मुझे कोई बुराई नहीं लगती। ये बिल्कुल सही है। किसी भी और जॉब में आप अपना काम जारी रख सकती हैं लेकिन यहां पर आप प्रेग्नेंट होकर काम नहीं सकतीं। प्रेग्नेंसी को लेकर हर लड़की चाहती है कि वो रिलैक्स होकर इस अनुभव को महसूस करे। ऐसे में शूट पर दौड़भाग करना बिल्कुल भी गलत होगा। इसके अलावा आपका चेहरा, आपके लुक्स सबकुछ प्रेग्नेंसी के दौरान बदल जाते हैं।

बॉलीवुड में आज भी खान सबसे ऊपर हैं। लेकिन आपने कभी भी खानों के साथ काम नहीं किया। तो क्या हम कभी आपको खानों के साथ भी काम करते देख पाएंगे?

बॉलीवुड में आज भी खान सबसे ऊपर हैं। लेकिन आपने कभी भी खानों के साथ काम नहीं किया। तो क्या हम कभी आपको खानों के साथ भी काम करते देख पाएंगे?

सच तो ये है कि जब मुझे कोई ऐसे कहानी मिलेगी जिसमें खानों के होने के बावजूद मेरा किरदार जानदार होगा, कुछ दम होगा मेरे किरदार में तो मैं जरुर करुंगी। मैंने कभी अपने करियर में ये प्लान नहीं किया कि मुझे किस एक्टर के साथ काम करना है किसके साथ नहीं। मैं सिर्फ कहानी के आधार पर फिल्में करती हूं। मैं सिर्फ ये देखती हूं कि फिल्म में मैं हूं और मेरे क्या किरदार है। मुझे इससे फर्क नहीं पड़ता कि फिल्म में और कौन कौन है।

शादी के बाद एक्ट्रेसेस काफी बदलाव महसूस करती हैं। विद्या आपको क्या बदलाव सबसे ज्यादा लगता है?

शादी के बाद एक्ट्रेसेस काफी बदलाव महसूस करती हैं। विद्या आपको क्या बदलाव सबसे ज्यादा लगता है?

मैंने अभी तक कई बार ये बात कही है कि शादी के बाद मुझे कुछ खास बदलाव नहीं महसूस हो रहे हैं। मैं हमेशा ही अपने माता-पिता के साथ रही हूं और अब सिद्धार्थ के साथ। तो मुझे ये एहसास कभी नहीं हुआ कि किसी और इंसान के साथ रहने पर कैसा महसूस होता है। लेकिन हम दोनों लगभग एक जैसे हैं और हमें कभी भी एक दूसरे से कोई शिकायत नहीं होती। हम एक दूसरे को बदलने की कोशिश नहीं करते बल्कि एक दूसरे के काम को काफी रिस्पेक्ट देते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary
    Vidya Balan is playing women detective character in her upcoming movie Bobby Jasoos.Bobby Jasoos is a story of a girl who wants to become the big detective.Vidya Balan says to get reference she called up few detective agencies and other than that the writer of movie and director had all sort of information.

    रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more