For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    Exclusive: मां बनने के बाद भी अनुष्का शर्मा- करीना कपूर खान रोल मॉडल्स हैं - गुल पनाग

    |

    पायलट, फॉर्मूला कार रेस,वीओ आर्टिस्ट, मिस इंडिया और एक्ट्रेस, अपने नाम के आगे इतनी काबिलियत जोड़ना हर किसी के बस की बात नहीं है। गुल पनाग ने ये कर दिखाया है। गुल पनाग को सुपर वुमन कहा जाता है। अपने आप को किसी सीमा में ना बांधते हुए गुल पनाग ने हर मोड़ पर अपनी जिंदगी की गाड़ी को सफल तरीके से हरी झंडी के पार पहुंचाया है। द फैमिली मैन, डोर,अब तक छप्पन के साथ, साल 2003 से 2021 तक गुल पनाग लगातार बिना थमे काम कर रही हैं।

    इस वक्त गुल पनाग सुपरस्टार नागार्जुन के साथ एक खास फिल्म पर काम कर रही हैं। लेकिन जब हाल ही में गुल पनाग ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखकर बुरे वक्त के बारे में एक लंबा पोस्ट लिखा। तो इस पोस्ट पर चर्चा शुरू हो गई। साल 2011 में गुल पनाग ने शादी की। वो एक बेटे की मां भी हैं। Filmibeat फिल्मी बीट हिंदी से खास बातचीत में गुल पनाग ने राजनीति से दूरी, मां बनने के बाद बॉलीवुड में संघर्ष, फिर से चुनाव लड़ने और कोविड 19 महामारी पर अपने विचारों को ठोस तरीके से रखा है।

    एक्ट्रेस, मां- पत्नी और राजनीति में आप खुद को कहां खड़ा देखती हैं?

    एक्ट्रेस, मां- पत्नी और राजनीति में आप खुद को कहां खड़ा देखती हैं?

    मुझे लगता हैं कि हम इंसान शुरुआत से ही बहुमुखी हैं पर बदलते समय के साथ हमने एक चीज़ पर अपना ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया। वास्तव में जो चीज हमें जानवरों से अलग करती है, वह यह है कि हम बहुमुखी हैं, कि हम बहुत कुछ करने में सक्षम हैं। इसलिए मैं नई चीजों की कोशिश नहीं कर रही हूं, नई चीजों को आजमाने के लिए, मैं मौलिक रूप से मानती हूं कि मैं और भी बहुत कुछ करने में सक्षम हूं। मुझे अपनी पूरी क्षमता से जीवन जीना है| और मुझे नहीं लगता कि यह मुश्किल है, कोई भी इसे तब तक कर सकता है जब तक एक अनुशासित है।

    हिंदी सिनेमा में साल 2003 से 2021 तक अपने सफर को कैसे जज करती हैं??

    हिंदी सिनेमा में साल 2003 से 2021 तक अपने सफर को कैसे जज करती हैं??

    2003 में मेरी पहली फिल्म रिलीज हुई । इसके बाद मेरी यात्रा संतोषजनक रही है।मैं अपने अभिनय को हमेशा बरकरार रखना चाहती हूं। मेरे करियर के कारण मुझे जो मौक़े मिले हैं में उसके लिए बहुत ही शुक्रगुजार हूं। चाहे मेरी फ़िल्में जैसेधूप, 6 फ़ीट अंडर, हेलो, पाताल लोक, फ़ैमिली मैन आदि हो।। ओटीटी के कारण काफ़ी विभिन्न किरदार मिल रहे हैं और में बहुत व्यस्त भी हूं, जल्द हीनागार्जुन सर के साथ भी एक प्रोजेक्ट आ रहा है। मुझे अपने मर्ज़ी की राह चुनने का मौका और खुशी दोनों दे रहा है। हाल ही में फ़ैमिली मैन में सलोनी का किरदार निभाना मेरे लिए बहुत ही ख़ास रहा क्यूंकि इसे निभाने के लिए पूरी तरह तैयार थी। मेरा परिवार भी आर्म्ड फ़ॉर्सेज़ से हैं, सो यह भूमिका निभाना मेरे लिए प्राकृतिक था । जो हाव भाव, इस किरदार के लिए ज़रूरी था। ऐसे ही ख़ास था मेरे लिए फिल्म डोर में ज़ीनत बनना। हर महिला इन दो किरदारों में खुद को देखना चाहेगी। मेरे लिए भी यह सबसे ख़ास हैं ।

    क्या आप ये मानती हैं कि मां बनने के बाद एक्ट्रेसेस के लिए बॉलीवुड की सोच बदल जाती है?

    क्या आप ये मानती हैं कि मां बनने के बाद एक्ट्रेसेस के लिए बॉलीवुड की सोच बदल जाती है?

    देखिए, सिनमा एक विज़ूअल माध्यम है और इसलिए यह स्वाभाविक है की युवा वर्ग इसका एक अहम हिस्सा हैं, दुनिया भर में । साथ ही, कई लोगों ने दर्शाया है की मां बन जाने के बावजूद, आप अपना काम बरकरार रख सकते हैं, चाहे वो अनुष्का शर्मा हों या करीना कपूर। यह भावी पीढ़ियों के लिए रोल माडल्ज़ हैं । एक ज़माना था जब शादी और बच्चे हो जाने के बाद, महिलाओं की एक छवि बन जाती थी, लेकिन सोशल मीडिया के आगमन से अब वह दूरी कम हो गयी है । अब लोग चाहते हैं की फिल्मी सितारे भी उनकी ही तरह सामान्य लोग हों और वैसा ही जीवन व्यतीत करें।

    क्या वजह है कि आप राजनीति क्षेत्र में नहीं दिख रही हैं?

    क्या वजह है कि आप राजनीति क्षेत्र में नहीं दिख रही हैं?

    राजनीति केवल चुनाव लड़ने के बारे में नहीं है, राजनीति जागरूक होने के बारे में है। चुनाव लड़ने वाले लोगों के साथ जुड़ना राजनीति का सिर्फ एक पहलू है। मैंने दूसरा चुनाव नहीं लड़ा क्योंकि मेरा बेटा बहुत छोटा है लेकिन मैं जरूरआगे लडूंगी। अगर आप अपने देश का भविष्य बदलना चाहते हैं तो आपको उसमें भूमिका निभानी होगी और मेरे लिए चुनाव लड़ना, वही भूमिका है।

    हाल ही में आपका इंस्टाग्राम पोस्ट आपके कठिन समय के बारे में है?

    हाल ही में आपका इंस्टाग्राम पोस्ट आपके कठिन समय के बारे में है?

    मुझे लगता है कि हर किसी के पास कठिन समय होता है तो लोग मेरी ओर देखते हैं और वे कहते हैं, आप इतने प्रेरक हैं कि आप वह सब कुछ करते हैं। सपने देखना एक बात है और दूसरी बात यह स्वीकार करना कि उन सपनों को प्राप्त करने के लिए, आपके पास हमेशा अच्छे दिन होंगे और बुरे दिन भी होंगे और आपके पास बुरे दिनों से निपटने की क्षमता होनी चाहिए। अगर आपको अपने लक्ष्यों को प्राप्त करना है। एक बुरा दिन आपको निराश नहीं कर सकता| मुझे लगता है कि हर कोई कुछ भी कर सकता है, एक बुरा दिन आपकी क्षमताओं का प्रतिनिधित्व नहीं करता है।

    अपने आप को ऊपर उठाने और आगे बढ़ने की क्षमता, इससे कहीं अधिक है, शायद हम सभी इसका श्रेय देते हैं। इसलिए हमारे पास कठिन समय है और मुझे भी कठिनाइयां हैं, लेकिन मुझे पता है कि वे बीत जाएंगे, और, और मेरे पास कठिनाइयों से निपटने के लिए तंत्र हैं, और कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन हैं, आपके पास हमेशा कठिनाई के दिन होते हैं, आपको बस रवैया रखना होगा उन कठिनाइयों से निपटने के लिए |

    अच्छा, तो इस बीच कोरोना महामारी आपके लिए क्या सीख लेकर आया?

    अच्छा, तो इस बीच कोरोना महामारी आपके लिए क्या सीख लेकर आया?

    कोरोना ने मुझे यह एहसास कराया है कि जीवन में जो कुछ भी मायने रखता है वह आपके घर की दीवारों के भीतर है, जीवन में सबसे कीमती आपका परिवार हैं, और जब तक आप उनके साथ हैं, और कुछ भी वास्तव में मायने नहीं रखता। COVID-19 ने हमें जीवन का मूल्य भी सिखाया है। हमें यह भी बताया गया है कि अब समय आ गया है कि हम सरकार को अधिक जवाबदेह ठहराएं। न केवल एक सरकार बल्कि हमारी सरकारें सामान्य रूप से, स्वास्थ्य देखभाल की स्थिति में सुधार करने की आवश्यकता है | यह समझने के लिए, अन्यथा आप जानते हैं, कुछ लोग जो बीमार हैं, वे स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं तक पहुंच की कमी का खामियाजा महसूस करते हैं, लेकिन इस प्रकार सभी के पास स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंच की कमी थी, और हर कोई एक ही नाव में सवार थे । मुझे एहसास हुआ कि खुश रहने के लिए हमें बहुत कम चाहिए।

    आप फिलहाल किस प्रोजेक्ट पर काम कर रही हैं? किसे प्रेरणा मानती हैं?

    आप फिलहाल किस प्रोजेक्ट पर काम कर रही हैं? किसे प्रेरणा मानती हैं?

    एक फिल्म है जिसे मैंने समाप्त कर दिया है जो कि मनीष गुप्ता द्वारा निर्देशित एक कानूनी ड्रामा है जो रणवीर शौरी और विनय पाठक के साथ है| एक और फ़िल्म है जोनागार्जुन सर के साथ है जो स्तिथि सामान्य होते ही फिर शूटिंग फिर शुरू होगी।मुझे लगता है कि किसी एक व्यक्ति से प्रेरित हो पाना थोड़ा मुश्किल है। मुझे लगता है कि अलग-अलग तरह के लोग अलग-अलग कारणों से प्रेरणा देते हैं। जैसे आमिर और शाहरुख़ खान ने जिस तरह अपने करियर को ढाला, वो बहुत प्रेरणादायक है।

    English summary
    Exclusive Gul Panag talk about coming back in politics, covid 19 and working mother in Bollywood, here read
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X