For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    श्रीदेवी की मौत के पहले आखिरी 2 घंटे, बोनी कपूर ने दिया था एक एक हिसाब

    |

    श्रीदेवी की मौत को 24 फरवरी 2020 को दो साल पूरे हो जाएंगे। आज भी उन्हें याद कर हर कोई सहम जाता है। क्योंकि उनकी जाने की याद शायद इतनी दर्दनाक थी कि हर किसी के दिल में एक गहरी टीस छोड़ गई। श्रीदेवी की मौत के बाद पहली बार बोनी कपूर ने अपने करीबी दोस्त कोमल नाहटा से बात की थी और उस रात की पूरी कहानी बताई थी।

    ये कहानी जब भी पढ़ो, दिल को दुखा देती है। कोमल ने इसे अपने ब्लॉग पर लिखा था और बताया था कि इस दौरान बोनी बस फूट फूटकर रोते रहे। आखिर उनकी दुनिया खत्म हो चुकी थी।

    श्रीदेवी की मौत डूबने से हुई थी। वो पहले डूबीं और फिर बेहोश हुईं या फिर पहले नींद में चली गईं और डूब गईं, या फिर पहले बेहोश हुईं और फिर डूब गईं शायद ये कोई कभी नहीं जान पाएगा। लेकिन उन्हें शायद आखिरी सांस में संघर्ष करने का मौका भी नहीं मिला। क्योंकि अगर ऐसा होता तो टब के बाहर, हाथ पैर चलाने के कारण कुछ पानी तो गिरा होता।

    पढ़िए कोमल नाहटा के इस ब्लॉग के कुछ हिस्से जो आपकी आंखें नम कर देंगे -

    बोल दिया झूठ

    बोल दिया झूठ

    24 की सुबह मैंने उससे बात की, एक इमोशनल बोनी कपूर ने बताया। उसने मुझे बताया, पापा (श्रीदेवी बोनी को इसी नाम से बुलाती थीं), मैं तुम्हें मिस कर रही हूं। मैंने भी उसे बताया कि मैं भी उसे मिस कर रहा हूं। लेकिन मैंने उसे ये नहीं बताया कि मैं शाम को उसके साथ दुबई में होऊंगा।

    जान्हवी ने भरी हामी

    जान्हवी ने भरी हामी

    जान्हवी ने भी मेरे दुबई वाले आईडिया को अच्छा बताया क्योंकि वो डर रही थी क्योंकि उसकी मां कभी अकेली कहीं नहीं रही है। और वो अपना पासपोर्ट या कोई ज़रूरी कागज़ात इधर उधर ना कर दे।

    कभी अकेली नहीं रही

    कभी अकेली नहीं रही

    बोनी ने बताया कि पिछले 24 सालों में केवल दो बार वो साथ नहीं रहे थे। एक बार श्रीदेवी न्यूजर्सी गई थीं और दूसरी बार वानकूवर। दोनों ही बार उन्हें कहीं अपनी उपस्थिति देनी थी। हालांकि मैं उसके साथ नहीं था लेकिन मैंने अपने एक दोस्त की पत्नी को उसके साथ भेजा था। ये कहते हुए बोनी की आंखें भर आई थीं। दुबई में वो पहली बार, विदेश में दो दिन के लिए अकेली थी - 22 तारीख और 23 तारीख।

    तय था पूरा प्लान

    तय था पूरा प्लान

    बोनी ने अपने लिए, 24 तारीख को 3 बजे दोपहर की फ्लाईट बुक की। जब श्रीदेवी ने उन्हें कॉल किया तब वो मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लाउंज एरिया में बैठे थे। चूंकि वो अपनी जान को सरप्राइज़ देना चाहते थे तो उन्होंने कहा कि अगले कुछ घंटे वो एक मीटिंग में रहेंगे और उनका फोन बंद रहेगा, तो वो घबराएं नहीं। बोनी ने वादा किया कि वो जल्दी से जल्दी मीटिंग से फ्री होकर श्रीदेवी को कॉल करेंगे।

    बहुत ही प्यारा सरप्राइज़

    बहुत ही प्यारा सरप्राइज़

    बोनी का प्लान था कि वो शाम को जुमेरा अमीरात टावर होटल में श्रीदेवी को सरप्राइज़ देंगे। बोनी, दुबई के इस होटल में 6.20 पर पहुंचे। जब वो होटल में अपने चेक इन की फॉरमैलिटी पूरी कर रहे थे और श्रीदेवी के कमरे की डुप्लिकेट चाभी ले रहे थे उन्होंने होटल स्टाफ को उनका सामान देर से लाने को कहा। क्योंकि बोनी श्रीदेवी को सरप्राइज़ देना चाहते थे और उनका रिएक्शन देखना चाहते थे।

    मिलते ही गले लगे

    मिलते ही गले लगे

    बोनी ने जैसे ही कमरा खोला श्रीदेवी ने उन्हें ज़ोर से गले लगा लिया और वो दोनों किसी युवा प्रेमी जोड़े की तरह मिले। लेकिन श्रीदेवी ने बताया कि उन्हें लग ही रहा था कि बोनी उन्हें लेने दुबई आ ही जाएंगे। बोनी ने रोते हुए बताया, हम गले लगे, एक दूसरे को किस किया और करीब आधा घंटा तक बातें की।

    रोमांटिक डिनर का प्लान

    रोमांटिक डिनर का प्लान

    इसके बाद बोनी उठे और बाथरूम जाकर फ्रेश हुए। फिर उन्होंने श्रीदेवी को एक रोमांटिक डिनर पर चलने को कहा। उन्होंने श्रीदेवी को सलाह दी कि शॉपिंग रविवार को कर ली जाएगी। फिर दोनों ने तय किया कि वापसी के टिकट बदलकर 25 की रात के कर लिए जाएंगे और 25 का दिन शॉपिंग में निकाल लिया जाएगा।

    तैयार होने गईं श्रीदेवी

    तैयार होने गईं श्रीदेवी

    श्रीदेवी तब तक आराम करने के मूड में थीं। इसके बाद वो उठीं और अपने रोमांटिक डिनर के लिए तैयार होने जाने लगीं। बोनी ने बताया कि वो लिविंग रूम में चले गए और श्रीदेवी मास्टर बेडरूम के बाथरूम में नहाने और तैयार होने के लिए चली गईं।

    देर होने लगी

    देर होने लगी

    लिविंग रूम में बोनी टीवी देखने लगे। टीवी पर पाकिस्तान सुपर लीग मैच के हाईलाइट्स आ रहे थे। 15 - 20 मिनट टीवी देखने के बाद वो थोड़े परेशान होने लगे क्योंकि वो शनिवार की शाम थी और रेस्त्रां में भीड़ होने लगेगी। पहले ही 8 बज चुके थे।

    आवाज़ देने गए

    आवाज़ देने गए

    बोनी ने लिविंग रूम से ही श्रीदेवी को आवाज़ लगाई। फिर दोबारा आवाज़ लगाई। इसके बाद उन्होंने टीवी का वॉल्यूम कम किया लेकिन श्रीदेवी का कोई जवाब नहीं आया। वो उठे और बेडरूम की तरफ गए। उन्होंने बाथरूम का दरवाज़ा खटखटाया और श्रीदेवी को आवाज़ लगाई। अंदर से नल की आवाज़ आ रही थी।

    हो चुकी थी अनहोनी

    हो चुकी थी अनहोनी

    बोनी ने दो बार आवाज़ लगाई - जान, जान, लेकिन फिर भी कोई जवाब नहीं मिला। बोनी घबरा गए और दरवाज़ा ढकेला जो कि अंदर से बंद नहीं था। बोनी घबराकर अंदर पहुंचे लेकिन सामने जो देखने वाले थे उसके लिए बिल्कुल तैयार नहीं थे। टब पानी से लबालब भरा था और श्रीदेवी उसमें पूरी तरह से डूबी हुई थीं। उन्होंने श्रीदेवी को उठाने की कोशिश की लेकिन उनका मन किसी अनहोनी की आशंका से और घबरा चुका था।

    सब कुछ खत्म

    सब कुछ खत्म

    श्रीदेवी डूब चुकी थीं। बोनी की दुनिया उनकी आंखों के सामने थरथराते हुए ढह गई। वो खुद गम में डूब गए क्योंकि उनकी दुनिया अब कहीं और किसी दुनिया में जा चुकी थी। दो घंटे पहले वो अपनी पत्नी को सरप्राइज़ देना चाहते थे लेकिन अब उन्हें ज़िंदगी का सबसे बड़ा सदमा लग चुका था। सब कुछ इतना जल्दी हुआ।

    सबको लगा धक्का

    सबको लगा धक्का

    श्रीदेवी जो अपने डिनर के लिए तैयार होने गई थीं, शायद किसी और दुनिया में जाने के लिए तैयार होने लगी थीं। उनके पति, उनका परिवार, उनके फैन्स कोई भी इस बात के लिए तैयार ही नहीं था जो हो चुकी थी।

    अलविदा कह गईं श्रीदेवी

    अलविदा कह गईं श्रीदेवी

    ये राज़ श्रीदेवी के साथ ही चला गया कि आखिर उन आखिरी 15 - 20 मिनटों में हुआ क्या? लेकिन इस बात से उनके परिवार और करीबियों को शायद फर्क भी नहीं पड़ता। फर्क पड़ता था तो बस इतना कि श्रीदेवी, करोड़ों दिलों पर राज करने वाली, खूबसूरत और ज़िंदादिल श्रीदेवी अब दिवंगत श्रीदेवी हो चुकी थीं।

    English summary
    Boney Kapoor narrated friend Komal Nahta each and everything that happened at the evening Sridevi died. Komal reproduced the same on his blog.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X