For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    सलमान की एक NO..और ब्लॉकबस्टर हाथ मार गए शाहरुख..बड़ा धमाका !

    By Shivani Verma
    |

    बॉलीवुड में कुछ फिल्में ऐसी हैं जिन्हें कितनी बार भी देख लिया जाए उनसे कभी मन नहीं भरता। फिल्म की कहानी से लेकर डायलॉग तक लोगों को रटे रहते हैं। उन्हीं फिल्मों में से एक है शाहरुख खान ब्लॉकबस्टर फिल्म चक दे इंडिया। ये फिल्म ऐसी है जिसका एक एक डायलॉग लोगों को याद होगा।

    अाज इस फिल्म को रिलीज़ हुए पूरे 10 साल हो गए हैं। आज से ठीक 10 साल पहले यानी 10 अगस्त 2007 में ये फिल्म रिलीज़ हुई थी जिसने बॉक्स आफिस पर कई रिकॉर्ड्स तोड़े थे। वहीं शाहरुख खान की रोमांटिक छवि से बाहर निकलकर उनके इस लुक को लोगों ने बहुत पसंद किया था।

    आज की डेट में देखा जाए तो शाहरुख लोगों को या तो रोमांटिक शाहरुख डीडीएलजे, कुछ कुछ होता है टाइप्स पसंद आते हैं नहीं तो एकदम सिंसेयर शाहरुख चक दे इंडिया वाले टाइप्स।

    बहरहाल आपको बता दें कि चक दे इंडिया में पहले शाहरुख खान को नहीं बल्कि सलमान खान को लेने का विचार किया जा रहा था और इसके सलिए सलमान को अप्रोच भी किया गया था, लेकिन उन्होंने इसके लिए मना कर दिया।

    ये 'टॉयलेट' या खिलाड़ी अक्षय कुमार नहीं..90s के सबसे हैंडसम अक्षय हैं..तस्वीरें हैरान कर देंगी !

    वैसे कहना गलत नहीं होगा की जितने शानदार तरीके से इस रोल को शाहरूख खान ने निभाया कोई और स्टार निभा ही नहीं सकता था। आगे देखिए चक दे इंडिया के कुछ शानदार डायलॉग...

    70 मिनट

    70 मिनट

    और ये है फिल्म का सबसे फेमस डायलॉग-

    सत्तर मिनट.. सत्तर मिनट हैं तुम्हारे पास.... शायद तुम्हारी जिंदगी के सबसे खास 70 मिनट..

    वार सामने वाले के दिमाग पर करो!

    वार सामने वाले के दिमाग पर करो!

    वार करना है तो सामने वाले के गोल पर नहीं.. सामने वाले के दिमाग पर करो.... गोल खुद-ब- खुद हो जाएगा..

    इंडिया

    इंडिया

    सलमान खान को फिल्म के नाम में इंडिया शब्द से आपत्ति थी.. लेकिन शाहरfख का यह डॉयलोग काफी फेमस हुआ था-

    मुझे स्टेट्स नाम ना सुनाई देते हैं.. न दिखाई देते हैं.. सिर्फ एक ही मुल्क का नाम सुनाई देता है.. I-N-D-I-A

    तिरंगा

    तिरंगा

    ''पहली बार किसी गोरे को भारत का तिरंगा लहराते देख रहा हूं

    टीम

    टीम

    हर टीम में सिर्फ एक ही गुंडा हो सकता है.. और इस टीम का गुंडा मैं हूं..

    पीछे से नहीं....

    पीछे से नहीं....

    पीछे से नहीं.. मर्दों की तरह आगे से लड़ो.. वो क्या है, हमारी हॉकी में छक्के नहीं होते।

    इंडिया के लिए..

    इंडिया के लिए..

    इस टीम को सिर्फ वो प्लेयर्स चाहिए, जो पहले इंडिया के लिए खेल रहे हैं, इंडिया.. फिर अपनी टीम, अपनी साथियों के लिए.. और उसके बाद भी अगर थोड़ी बहुत जान बच जाती है तो अपने लिए..

    अपने ही देश में महमान

    अपने ही देश में महमान

    अपने ही देश में कोई महमान बनकर..खुश कैसे रह सकता है...!

    मार कर आएंगे

    मार कर आएंगे

    मार कर आएंगे...लेकिन हार कर नहीं आएंगे...

    English summary
    Shahrukh Khan starrer chak de India clocks 10 years.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X