For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    11Years: दो सुपरस्टार्स की ब्लॉकबस्टर फिल्म, दशकों बाद भी नहीं भूले लोग, दिलचस्प किस्से

    |

    बॉलीवुड में यूं तो फिल्में कई बनती हैं। कई हिट होती हैं कई फ्लॉप लेकिन कुछ ही ऐसी फिल्में होती हैं जिन्हें सालों बाद भी याद करके आपके चहरे पर एक स्माइल आ जाती है। ऐसी ही एक फिल्म थी 11 साल पहले आज के ही दिन रिलीज हुई 'जब वी मेट'.. इस फिल्म में शाहिद कपूर और करीना कपूर नजर आए थे। जिसके बाद से अभिमन्यू और गीत आज कर ऑडिएंस के दिलों पर राज कर रहे हैं।

    [अजय देवगन करेंगे 3 तगड़े Dhamake, ताबड़तोड़ एक्शन वाली फिल्में, बुक कर लिया 2019-20]

    दरअसल, ये फिल्म ही कुछ ऐसी थी कि हर किसी को पसंद तो आनी ही थी। फिल्म देखकर ऐसा लगा जैसे रियल लाइफ करीना को ही परदे पर लाया गया हो तो शाहिद कपूर के गुड लुक्स को आज भी लड़कियां भूली नहीं है। इम्तियाज अली की जब वी मेट बेहतरीन फिल्मों में से एक है। फिल्म तो खैर आपने ना जानें कितनी बार देख रखी होगी। फिल्म का एक एक डायलॉग चाहे 'भटिंडा की सीखणी हूं मैं' हो या फिर 'मुफ्त मुफ्त मुफ्त' तो वैसे ही बातचीत में लोग बोलते रहते हैं वो भी बिल्कुल गीत के स्टाइल में।

    वैसे आपको बता दें कि हम आज फिल्म के डायलॉग के बारे में बात बिल्कुल भी नहीं कर रहे क्योंकि फिल्म के नाम के साथ ही लोगों के दिमाग कई डायलोग एक साथ आ ही जाते हैं। हम आपको बताने जा रहे हैं फिल्म से जुड़ी कुछ मजेदार बातें। कुछ पढ़कर आप हंस पड़ेंगे तो कुछ पढ़कर हैरान रह जाएंगे।

    शाहिद नहीं थे पसंद

    शाहिद नहीं थे पसंद

    इम्तियाज अली की फिल्म के लिए शाहिद कपूर पहली पसंद नहीं थे क्योंकि उन्हें एक ऐसा एक्टर चाहिए था जो सीरियस स्क्रीन पर दिख सके। कई मीटिंग के बाद आखिरकार जब उन्होंने एहसास हुआ कि शाहिद के अंदर भी मैच्योरिटी और सीरियसनेस है तब जाकर उन्होंने शाहिद का नाम फाइनल किया था।

    होटल है डिसेंट

    होटल है डिसेंट

    जी हां जहां गीत और आदित्य (शाहिद और करीना) होटल में रूकने जाते हैं वो वाकई में बेहद डिसेंट होटल है जहां फैमिली अधिक दिखते हैं लेकिन सीन से मिलाने के लिए फिल्म को थोड़ा Shady लुक दिया गया।

    करीना पर था विश्वास

    करीना पर था विश्वास

    भले शाहिद के बारे में इम्तियाज अली ने 100 बार सोचा हो लेकिन करीना कपूर के लिए वो बिल्कुल कॉन्फिडेंट थे कि करीना को छोड़कर कोई और एक्ट्रेस इस रोल के साथ न्याय कर ही नहीं सकती थी।

    ट्रेन आया लाइमलाइट में

    ट्रेन आया लाइमलाइट में

    जी हां फिल्म के प्रमोशन के लिए ट्रेन को चुना गया थ। फिल्म के पोस्टर और शाहिद करीना की तस्वीरों से पूरी तरह सजा दिया गया था । खुद शाहिद करीना भी ट्रेन पर लोगों से मिले थे। आखिर फिल्म में ट्रेन का भी तो खास रोल था ।

    हुआ ब्रेकअप

    हुआ ब्रेकअप

    जब शाहिद और करीना कपूर ने फिल्म साइन की थी तब दोनों एक दूसरे के साथ थे लेकिन इस फिल्म की शूटिंग के दौरान ही दोनों का ब्रेकअप हुआ था। हालांकि पर्सनल रिश्तों को साइड दोनों ने फिल्म को शानदार तरीके से खत्म भी किया।

    मौजा ही मौजा

    मौजा ही मौजा

    फिल्म का सबसे पॉपुलर गाना मौजा ही मौजा असल में असमी का पॉपुलर गाना 'रूदाली ये रोद दे..रूदाली ये रूद' पर बेस्ड है।

    ये शॉकिंग है

    ये शॉकिंग है

    फिल्म का कॉन्सेप्ट असल में इम्तियाज अली के दिमाग में काफी समय से था और मजेदार बात ये है कि फिल्म बनाने के सालों पहले उनके दिमाग में इस रोल के बॉबी देओल और आएशा टाकिया का नाम आया था। आएशा टाकिया तो हम फिर भी समझ सकते हैं लेकिन बॉबी देओल..

    जब वी मेट नहीं

    जब वी मेट नहीं

    फिल्म का नाम असल में पंजाब मेल और फिर इश्क वाया भटिंडा रखा गया था लेकिन काफी सोचने के बाद फिल्म का नाम बदलकर जब वी मेट किया गया।

    English summary
    Kareena Kapoor and Shahid Kapoor film Jab We Met clocks 11 years know interesting facts.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X