For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    दिलीप कुमार और मधुबाला की दुख भरी प्रेम कहानी: गुलाबी फूल से शुरू और कोर्ट केस - थप्पड़ पर खत्म

    |

    मधुबाला और दिलीप कुमार की जोड़ी भारतीय सिनेमा की सबसे आईकॉनिक जोड़ियों में से एक रही है। दोनों ने कई फिल्मों में साथ काम किया और उनकी तीसरी फिल्म तराना के साथ दिलीप कुमार और मधुबाला का ऑन स्क्रीन रोमांस, ऑफ स्क्रीन रोमांस में तब्दील हो गया था।

    जब दिलीप कुमार और मधुबाला एक साथ फिल्म नया दौर में काम कर रहे थे और मधुबाला ने अपना कॉन्ट्रैक्ट तोड़ते हुए फिल्म छोड़ दी। इसके बाद बी आर चोपड़ा ने एक पोस्टर जारी किया और उस पर हीरोइन के नाम पर मधुबाला लिखवा कर उसे काटा और उसके आगे वैजयंती माला लिखवाया।

    इसका जवाब देते हुए मधुबाला ने भी अपनी आने वाली फिल्मों का एक पोस्टर जारी किया जिसमें नया दौर का नाम लिखवाया और फिर उसे कटवा दिया। दोनों के बीच की इस लड़ाई में फंस गए थे फिल्म के हीरो दिलीप कुमार। ये तब की तस्वीर है मधुबाला और दिलीप कुमार फिल्म नया दौर की शूटिंग कर रहे थे। तस्वीर को पिछले साल एक फैन ने अपने ट्विटर पर पोस्ट किया था।

    50 के दशक में शुरू हुआ ये रोमांस लगभग 9 सालों तक चला और केवल एक शब्द के कारण टूट गया। वो शब्द था Sorry जो मधुबाला दिलीप कुमार के मुंह से सुनना चाहती थीं लेकिन दिलीप कुमार ने कभी कहा नहीं।

    मधुबाला ने की थी प्रेम कहानी की शुरूआत

    मधुबाला ने की थी प्रेम कहानी की शुरूआत

    दिलीप कुमार और मधुबाला की प्रेम कहानी की शुरूआत मधुबाला ने ही की थी। मधुबाला की आदत थी खुलकर अपने प्यार का इज़हार करने की। इसलिए उन्हें जो भी पसंद आता था उसे वो एक गुलाबी रंग का गुलाब भेजती थीं। जब उन्होंने दिलीप साहब को ये गुलाब भेजा तो एक शर्मीले से दिलीप कुमार को मधुबाला का ये बेबाक अंदाज़ भा गया।

    दिलीप कुमार ने भी दिल खोलकर कुबूल किया

    दिलीप कुमार ने भी दिल खोलकर कुबूल किया

    दिलीप कुमार ने अपनी ऑटोबायोग्राफी में दिल खोलकर मधुबाला के बारे में बात करते हुए बताया था मधुबाला में वो सब कुछ था जो वो अपनी साथी में चाहते थे। उसके साथ मैं कभी भी शर्मीला इंसान नहीं रह जाता था और दिल खोलकर जीता था। मधुबाला की एनर्जी इतनी ज़्यादा थी कि उनके साथ कोई भी ज़िंदगी बिताना चाहेगा। वो किसी में भी जान फूंक सकती थीं।

    9 साल का लंबा रोमांस

    9 साल का लंबा रोमांस

    मधुबाला और दिलीप कुमार तराना नाम की फिल्म के सेट पर एक दूसरे के करीब आ गए और उनका रिलेशनशिप 9 सालों तक चला। इस बीच, दिलीप कुमार ने मधुबाला का रिश्ता भी उनके घर भेजा। मधुबाला की बहन ने फिल्मफेयर को दिए एक इंटरव्यू में बताया कि दिलीप साहब की आपा एक चुन्नी लेकर आई थीं । दोनों की सगाई कर दी गई थी।

    पिता को नामंज़ूर था ये रिश्ता

    पिता को नामंज़ूर था ये रिश्ता

    लेकिन मधुबाला के पिता को ये रिश्ता बिल्कुल भी नहीं मंज़ूर था। दिलीप कुमार ने एक बार उनके पिता से बहस की जो मधुबाला को पसंद नहीं आई और वो चाहती थीं कि दिलीप कुमार उनके पिता से माफी मांगे। हालांकि, कुछ रिपोर्ट्स की मानें तो दोनों के रिश्तों में खटास आई थी एक कोर्ट केस के कारण।

    शूटिंग को लेकर हुई अनबन

    शूटिंग को लेकर हुई अनबन

    बात है उस समय की जब दिलीप कुमार और मधुबाला, फिल्म नया दौर की शूटिंग कर रहे थे। उस दौरान कुछ सीन ग्वालियर में शूट होने थे लेकिन उस वक्त ग्वालियर में एक और फिल्म की शूटिंग के दौरान कुछ गुंडों ने एक महिला पर अटैक किया और उसके कपड़े फाड़ दिए थे। इसलिए मधुबाला के पिता नहीं चाहते थे कि मधुबाला ऐसी ज़ोख़िम भरी जगह पर शूटिंग करने जाएं।

    कोर्ट तक पहुंच गया मामला

    कोर्ट तक पहुंच गया मामला

    मधुबाला ने फिल्म के प्रोड्यूसर बी आर चोपड़ा को साफ कहा कि वो लोकेशन बदल दें वरना वो फिल्म छोड़ देंगी। इस बात से बी आर चोपड़ा भी नाराज़ हुए। मधुबाला ने फिल्म छोड़ दी और बी आर चोपड़ा ने उन्हें कॉन्ट्रैक्ट तोड़ने के आरोप में कोर्ट में घसीट दिया। कोर्ट में इकलौते गवाह के रूप में मौजूद थे दिलीप कुमार।

    मधुबाला से मरते दम तक प्यार करूंगा

    मधुबाला से मरते दम तक प्यार करूंगा

    दिलीप कुमार ने कोर्ट में अपनी गवाही में कहा कि वो मधुबाला से बहुत प्यार करते हैं और मरते दम तक करते रहेंगे लेकिन उन्होंने बी आर चोपड़ा का साथ देते हुए कहा कि मधुबाला का कॉन्ट्रैक्ट तोड़ना गलत है और फिल्म की शूटिंग की जगह बदलने पर प्रोड्यूसर और फिल्म से जुड़े बाकी कलाकारों का काफी नुकसान होगा।

    पिता से थी दिक्कतें, नहीं मांगी माफी

    पिता से थी दिक्कतें, नहीं मांगी माफी

    दिलीप साहब का मानना था कि मधुबाला के पिता केवल ये नहीं चाहते थे कि मधुबाला, दिलीप साहब के साथ आउटडोर शूटिंग पर जाएं। उन्होंने मधुबाला को ये बात समझाने की काफी कोशिश भी की लेकिन मधुबाला इसे केवल दिलीप साहब की गलतफहमी बताती थीं और चाहती थीं कि दिलीप कुमार, मधुबाला के घर आकर उनके पिता से गले लगे और माफी मांग लें।

    टूट गया रिश्ता

    टूट गया रिश्ता

    दिलीप कुमार को ये कतई मंज़ूर नहीं था। उन्हें लगता था कि मधुबाला केवल अपने पिता के लिए एक बिज़नेस डील से ज़्यादा कुछ नहीं है जो अपनी बेटी को ग़ुलाम बनाकर रखता है और उस पर हुक़ुम चलाता है। इसलिए बेहतर था कि इस रिश्ते को खत्म कर दिया जाए क्योंकि जब तक मधुबाला अपने पिता का साथ नहीं छोड़तीं, वो दोनों खुश नहीं रह सकते थे।

    आखिरी फिल्म मुग़ले आज़म

    आखिरी फिल्म मुग़ले आज़म

    इसके बाद मुग़ले आज़म की शूटिंग खत्म होते होते दोनों के बीच बातचीत बिल्कुल बंद हो चुकी थी। एक सीन में दिलीप कुमार के किरदार सलीम को मधुबाला के किरदार अनारकली को एक थप्पड़ मारना था। सेट पर मौजूद लोगों की मानें तो वो थप्पड़ इतनी ज़ोर का था कि मधुबाला की आंखों में आंसू आ गए थे। 1966 में दिलीप कुमार की सायरा बानो से शादी की खबर ने मधुबाला को तोड़ दिया और उन्होंने अपने दिल को जोड़ने के लिए किशोर कुमार से शादी कर ली। हालांकि उस शादी में भी वो कभी खुश नहीं रह पाईं।

    English summary
    Dilip Kumar and Madhubala’s tragic love story started with a pink rose and ended with a court case and a hard slap on set. Read the most tragic real love story of Bollywood.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X