For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    Birthday: आखिर सोनू सूद मजदूरों के भगवान कैसे बन गए? दरियादिली से जीता देश का दिल

    |

    सोनू सूद फिल्मों में सलमान खान व शाहरुख खान की तरह बेशक टॉप के सुपरस्टार न हों लेकिन वह असल जिंदगी में सबसे बड़े स्टार बन चुके हैं। जिन्हें लोगों ने भगवान की उपाधि दे दी है। सोनू सूद की दरियादिली और नेक दिल ने उन्हें मजदूरों का मसीहा यानी भगवान बनाया है। ये सिलसिला लॉकडाउन में शुरू हुआ। जब अभिनेता ने अपनी एक पहल से लोगों का नजरिया बदल दिया। देशभर में उनके उठाए नेक कदम की वजह से हजारों लोग चैन से सो सके, अपनी मां से मिल सके व कुछ को छत तक नसीब हो पाई।

    Sonu Sood के Engineer से Actor बनने की कहानी, पहली फिल्म में ऐसे मिला था रोल | FilmiBeat

    लॉकडाउन में न केवल सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों की मदद की। बल्कि उन्होंने हर जरूरतमंद की ओर मदद का हाथ बढ़ाया। उन्होंने बस से लेकर हवाई जहाज तक, घर से लेकर नौकरी तक...जरूरतमंदों को मदद मुहैया करवाई। आज वह न केवल भगवान बल्कि लोगों की नई उम्मीद बनकर उभरे हैं। सोशल मीडिया पर वायरल होने वाले हर मीम में सोनू सूद को भारत का रियल हीरो बताया जाता है। तमाम मीम्स में प्रशंसक कहते हैं, नेताओं की एक्टर ने छुट्टी कर डाली है।

    पैदल चलने वालों के लिए के दर्द को समझा

    पैदल चलने वालों के लिए के दर्द को समझा

    देश का एक तबका कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिए लॉकडाउन में घर में कैद था। वहीं बहुसंख्या में एक तबका वो भी था जिनके पास रहने को घर ही नहीं थी, खाने को रोटी नहीं थी...वह कोरोना से नहीं भूख के आगे लाचार थे। ऐसे प्रवासी मजदूर पैदल हजारों किलोमीटर का रास्ता तय कर अपने गांव लौटने लगे। जिस समय मीडिया इन मजूदरों की कवरेज करने में लगा था और नेता राजनेता बयानबाजी में लगे थे...उस समय सोनू सूद ने नई तरकीब खोजी और फिर बसों का इंतजार कर प्रवासी मजदूरों को छोड़ने का तय किया। उन्होंने न केवल उन्हें घर छोड़ने की मदद की बल्कि पूरे सम्मान से उन्हें गले लगाया।

    'पैदल क्यों जाओगे दोस्त? डीटेल भेजो'

    'पैदल क्यों जाओगे दोस्त? डीटेल भेजो'

    ऐसे ढेरों मैसेज और ट्वीट्स सोशल मीडिया पर मौजूद हैं जब लोगों ने दूसरे शहरों व कस्बों में फंसे होने के चलते सोनू सूद से मदद की गुहार लगाई। सभी का सोनू सूद ने जवाब दिया हो ये तो हम नहीं कह सकते लेकिन जितनों का मुमकिन था सोनू सूद ने जवाब भी दिया और मदद भी की। आज भी सोनू सूद के ट्विटर प्रोफाइल पर देख सकते हैं, जहां लिखा है...पैदल क्यों जाओगे दोस्त।

    साधन ही नहीं, खान पान की सुविधा भी

    साधन ही नहीं, खान पान की सुविधा भी

    सोनू सूद ने जरूरतमंद और लॉकडाउन में फंसे लोगों की मदद के लिए बसों, रेलवे, फ्लाइट की न केवल सुविधा की बल्कि खाने पीने का इंतजाम भी किया। साथ ही मास्क व सोशल डिस्टेसिंग का भी ध्यान रखा गया।

    खुद निकले कोरोना काल में निकले

    खुद निकले कोरोना काल में निकले

    लॉकडाउन और कोरोना के भय से जहां तमाम सितारे और लोग घरों में बंद थे वहीं सोनू सूद नियमों का पालन करते हुए सड़क पर उतरे। बस अड्ढे से लेकर रेलवे स्टेशन वह लोगों को रवाना करने पहुंचे। खुद लोगों की व्यवस्था का जायजा लेते नजर आए।

    मजेदार ट्वीट्स व जवाब

    मजेदार ट्वीट्स व जवाब

    सोनू सूद के इतने हिंदी जवाब व ट्वीट्स पहले कभी नहीं देखे होंगे। सोनू सूद ने जरूरतमंदो की मदद ही नहीं की बल्कि उनका दिल भी जीता। उन्होंने मजेदार अंदाज में लोगों का जवाब भी दिया।

    कब तक जारी रहेगा मदद का सिलसिला

    कब तक जारी रहेगा मदद का सिलसिला

    सोनू सूद ने इस सवाल पर कहा था कि मुझे पैदल चलने वालों को देखकर काफी कष्ट हुआ था। मैं दिल से लोगों को घर पहुंचाना चाहता था और उनकी मदद करना चाहता था। मैं तब तक मदद करने की कोशिश करूंगा जब तक कि हर मजदूर अपने परिवार से मिल नहीं लेता।

    उठने लगी मांगे- भारत रत्न तो किसी ने कहा सीएम बनाओ

    उठने लगी मांगे- भारत रत्न तो किसी ने कहा सीएम बनाओ

    सोनू सूद लगातार लोगों की मदद करते नजर आ रहे हैं। ऐसे में फैंस भी उन्हें लेकर कई मांगे उठा चुके हैं। जैसे लॉकडाउन में मांग उठी कि सोनू सूद को भारत रत्न से नवाजा जाना चाहिए तो फिर कुछ फैंस ने कहा कि महाराष्ट्र का सीएम बना देना चाहिए। इतना ही नहीं कुछ प्रशंसक का कहना है कि कोरोना की वैक्सीन का नाम भी सोनू सूद के नाम पर रखना चाहिए।

    पहले घर, अब नौकरी

    पहले घर, अब नौकरी

    जी हां, सोनू सूद ने लॉकडाउन में हजारों लोगों को घर पहुंचाने की मदद की। इसके अलावा भी सोनू सूद ने बच्चे की पढ़ाई के लिए फोन भेजा, किसी को टैक्टर तो एक बिहार की महिला को छत देने का आश्वासन दिया। इसके अलावा सोनू सूद ने सोशल मीडिया पर रोजगार देने की पहल भी शुरू की। लगातार वह लोगों की मदद करते नजर आ रहे हैं।

    राजनीति में आने की होने लगी बातें

    राजनीति में आने की होने लगी बातें

    सोनू सूद अपनी दरियादिली को लेकर इतना लोकप्रिय हुए कि गूगल सर्च में भी वह टॉप पर आ गए। इसके अलावा राजनीतिक गलियारों में भी हलचल तेज हो गई। कहा जाने लगा कि सोनू सूद किसी राजनीतिक पार्टी का दामन थाम सकते हैं। हालांकि बाद में एक्टर ने साफ किया कि उनका इस बारे में कोई प्लान नहीं है।

    आसान नहीं था

    आसान नहीं था "सोनू सूद" बनना

    सोनू सूद की दरियादिली तो आपने जान ली लेकिन क्या आप जानते हैं एक समय था जब सोनू सूद मुंबई चंद पैसे लेकर आए थे। वह 420 रुपये का लोकल ट्रेल का पास बनाकर रेल में सफर किया करते थे। पंजाब के रहने वाले सोनू सूद ने इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। उन्हें फिल्मों में आने के लिए खूब स्ट्रगल करना पड़ा। सोनू सूद ने तेलुगू फिल्म कल्लाजगार से डेब्यू किया। इसके दो साल बाद सोनू सूद को शहीद ए आजम में बॉलीवुड में मौका मिला। उनका नेक दिल और खूबसूरत शख्सियत आज उन्हें असल जिंदगी का हीरो साबित करती है।

    जूतों में ड्रग्स छिपा संजय दत्त ने फ्लाइट से किया था सफर, मां की आखिरी ख्वाहिश जो कभी पूरी नही सकी

    English summary
    Birthday sonu sood How actor turned Messiah of Migrants know his own struggle
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more
    X