For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    AR Rahman Birthday- एआर रहमान की सफलता के पीछे है उनकी मां का हाथ, बड़ा खुलासा!

    By Filmibeat Desk
    |

    नेशनल हिंदी सिनेमा के मशहूर और दिग्गज संगीतकार एआर रहमान अपना जन्मदिन 6 जनवरी को मनाते हैं। एआर रहमान भारत के उन कलाकारों में से एक हैं, जिन्होंने अपने संगीत से पूरी दुनिया में नाम कमाया है। उनका संगीत हमेशा से अलग माना जाता रहा है। एआर रहमान का जन्म 6 जनवरी, 1966 को तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में हुआ था। उनके पिता आरके शेखर मलयालम फिल्मों में म्यूजिक स्कोर कंपोजर थे।

    Chakda Xpress- अनुष्का शर्मा करेंगी धमाका, झूलन गोस्वामी बायोपिक से सामने आया दमदार टीजर!Chakda Xpress- अनुष्का शर्मा करेंगी धमाका, झूलन गोस्वामी बायोपिक से सामने आया दमदार टीजर!

    पूरी दुनिया में एआर रहमान के नाम से पहचान बनाने वाले, एआर रहमान का असली नाम दिलीप कुमार है। एआर रहमान ने धर्मांतरण कर अपना नाम बदला है, जो कई मौकों पर उनके लिए चर्चा का विषय भी रहा है।

    घर में शुरू से संगीत का माहौल होने के कारण एआर रहमान ने 4 साल की उम्र में पियानो बजाना शुरू कर दिया था, लेकिन किस्मत एआर रहमान को बचपन से संघर्ष के रास्ते पर ले आई। उनके पिता आरके शेखर का महज 43 साल की उम्र में निधन हो गया था।

    जिम्मेदारी एआर रहमान के कंधों पर

    जिम्मेदारी एआर रहमान के कंधों पर

    पिता के निधन के बाद घर की सारी जिम्मेदारी एआर रहमान के कंधों पर आ गई थी। ऐसे में एआर रहमान ने अपनी पढ़ाई करने के साथ अपने पिता के संगीत उपकरणों को किराए पर देना शुरू कर दिया था। रहमान की माँ ने उपकरणों को बेचने से इनकार कर दिया, क्योंकि उन्हें लगा कि ये उपकरण उनके बेटे के करियर के लिए उपयोगी होंगे।

    कीबोर्ड बजाना और संगीत उपकरण ठीक करना शामिल था

    कीबोर्ड बजाना और संगीत उपकरण ठीक करना शामिल था

    16 साल की उम्र तक, रहमान ने अपनी पढ़ाई को संगीत असाइनमेंट के साथ बैलेंस कर लिया था, जिसमें रिकॉर्डिंग सत्र के दौरान संगीतकारों की सहायता करना, कीबोर्ड बजाना और संगीत उपकरण ठीक करना शामिल था। एआर रहमान के दोस्त त्रिलोक नायर ने कृष्णा त्रिलोक को उनकी बुक नोट्स ऑफ ए ड्रीम में बताया था कि जब सीक्वेंसर भारत आया, तो वे प्रोग्रामिंग में भी एक विशेषज्ञ बन गए और वे एक ऐसे इंसान बने, जो कंप्यूटर से संगीत बनाना जानते थे।

    पढ़ाई के बारे में

    पढ़ाई के बारे में

    एस समय ऐसा आया, जब स्कूल और काम दोनों एक साथ चलाना एआर रहमान के लिए असंभव हो गया। एक दिन वे अपनी माँ के पास गए और उनसे कहा कि उन्हें दोनों में से किसी एक को चुनना होगा। इस पर एआर रहमान की माँ ने उन्हें कहा कि वे स्कूल छोड़ दें और संगीत पर ध्यान केंद्रित करें, पढ़ाई के बारे में बाद में देख सकते हैं।

    मणिरत्नम ने रहमान को अपनी फिल्म 'रोजा' में पहला ब्रेक दिया

    मणिरत्नम ने रहमान को अपनी फिल्म 'रोजा' में पहला ब्रेक दिया

    बॉलीवुड में मणिरत्नम ने रहमान को अपनी फिल्म 'रोजा' में पहला ब्रेक दिया था। यही वजह है कि वे मणिरत्नम की बहुत इज्जत करते हैं। उन्हें जानने वाले लोग बताते हैं कि मणिरत्नम ही ऐसे अकेले शख्स हैं,

     संगीत को नए आयामों तक पहुँचाया

    संगीत को नए आयामों तक पहुँचाया

    जो रहमान से कभी-भी अपनी मर्जी से मिल सकते हैं। एआर रहमान ने भारतीय सिनेमा में संगीत को नए आयामों तक पहुँचाया है।

    ऑस्कर अवार्ड

    ऑस्कर अवार्ड

    एआर रहमान अपने करियर में एक बार ऑस्कर अवार्ड, चार राष्ट्रीय फिल्म अवॉर्ड, दो एकेडमी अवॉर्ड, दो ग्रैमी अवॉर्ड, एक बाफ्टा अवॉर्ड और गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड हासिल कर चुके हैं। रहमान उर्फ दिलीप कुमार जन्म से हिंदू हैं, लेकिन बाद में उन्होंने इस्लाम कबूल लिया।

    English summary
    Birthday- His mother's hand is behind the success of AR Rahman, big disclosure! Read the details which is viral now.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X