For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    जन्म के बाद अस्पताल में बदल गयी रानी मुखर्जी को उनकी मां के ऐसे ढूंढ निकाला था, जानिए यहां

    |

    बॉलीवुड में 25 सालों का समय बीता चुकी रानी मुखर्जी आज किसी पहचान की मोहताज नहीं है। अपने 25 सालों के सफर के दौरान रानी ने अपने आपको एक वर्सेटाइल एक्टर के तौर पर हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित किया। कई फिल्मों के लिए अवॉर्ड्स जीत चुकी रानी मुखर्जी का जन्म डायरेक्टर-प्रोड्यूसर राम मुखर्जी और कृष्णा मुखर्जी के घर हुआ था। रानी ने अपना एक्टिंग कॅरियर बांग्ला फिल्म 'बियेर फुल' से 1997 में शुरू किया था। उसी साल रानी ने फिल्म 'राजा की आएगी बारात' से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। रानी अपनी निजी जिंदगी के बारे में ज्यादा बात करना पसंद नहीं करती हैं। लेकिन उन्होंने अपने जन्म के समय के एक ऐसे वाकये के बारे में बताया जिसे सुनकर लोग अपने दांतो तले उंगली दबाने के मजबूर हो गये।

    आइए आपको भी रानी मुखर्जी की जिंदगी से जुड़ी इस दिलचस्प घटना के बारे में बताते हैं :

    अपनी अलग आवाज से फिल्म इंडस्ट्री में बनाई खास जगह :

    अपनी अलग आवाज से फिल्म इंडस्ट्री में बनाई खास जगह :

    अपने डेब्यू फिल्म से ही रानी मुखर्जी ने अपनी खास जगह बना ली थी। अपने एक्टिंग स्किल के साथ-साथ रानी की सबसे अलग आवाज ने उन्हें खास पहचान दिलाई थी। अपने 25 सालों के फिल्मी कॅरियर में रानी मुखर्जी ने कई फिल्मों जैसे 'हैलो ब्रदर', 'कुछ कुछ होता है', 'वीरजारा', 'पहेली', 'चलते चलते', 'कभी अलविदा ना कहना', 'नो वन किल्ड जेसिका','ब्लैक' और 'मर्दानी' में काम किया जिसने बॉक्स ऑफिस पर काफी अच्छा प्रदर्शन किया। 'वीरजारा', 'ब्लैक' और 'मर्दानी' जैसी फिल्मों में रानी ने अपनी गजब की एक्टिंग से ना सिर्फ दर्शकों का दिल जीता बल्कि समीक्षक भी रानी की तारीफ किये बिना नहीं रह सकें। अपने फिल्मी कॅरियर में रानी मुखर्जी ने तीनों खान शाहरुख खान, आमिर खान और सलमान खान के साथ-साथ बिग बी अमिताभ बच्चन और छोटे नवाब सैफ अली खान के साथ स्क्रीन शेयर किया है।

    एक फिल्मी परिवार की रानी ने दूसरी फिल्मी परिवार से जोड़ा रिश्ता :

    एक फिल्मी परिवार की रानी ने दूसरी फिल्मी परिवार से जोड़ा रिश्ता :

    रानी मुखर्जी का जन्म एक फिल्मी परिवार में होने की वजह से बचपन से ही उनको घर में फिल्मी माहौल ही मिला है। रानी मुखर्जी साल 2014 में हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के एक बड़े घराने में आदित्य चोपड़ा संग शादी के बंधन में बंध गयी। लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो दोनों की लव स्टोरी 12 साल पहले ही शुरू हो चुकी थी। रानी मुखर्जी का नाम आदित्य चोपड़ा के साथ साल 2000 में ही जुड़ने लगा था लेकिन दोनों ने कभी भी इस बात को स्वीकार नहीं किया था। पहले से शादीशुदा आदित्य चोपड़ा के साथ रानी मुखर्जी की इस दोस्ती से आदित्य के माता-पिता खुश नहीं थे। कहा जाता है कि आदित्य ने अपनी पहली पत्नी को तलाक देने के बाद रानी मुखर्जी के घर जाकर उनके पेरेंट्स से रानी को डेट करने की परमिशन मांगी थी। रानी ने जब आदित्य चोपड़ा से शादी की तो इसकी कानों कान खबर किसी को नहीं मिली थी। यशराज फिल्म्स की तरफ से एक ऑफिशियल स्टेटमेंट जारी करते हुए कहा गया था 21 अप्रैल को रानी ने परिवार के सदस्यों और कुछ करीबियों की उपस्थिति में आदित्य चोपड़ा के साथ इटली में शादी कर ली।

    जन्म के बाद अस्पताल में दूसरे बच्चे से बदल गयी थी रानी :

    जन्म के बाद अस्पताल में दूसरे बच्चे से बदल गयी थी रानी :

    सिमी ग्रेवाल के टॉक शो के दौरान रानी ने अपने जन्म के समय का एक दिलचस्प किस्सा बताया था। रानी मुखर्जी ने बताया कि जन्म के बाद एक दिन अस्पताल में उनकी मां उनके अंकल से कुछ बात कर रही थी और उसी समय नर्स नवजात रानी के कपड़े बदलने के लिए उसे लेकर गयी थी। कपड़े बदलने के बाद जब रानी को उनकी मां कृष्णा मुखर्जी के पास लौटाया तो बेटी को देखकर उनकी मां चीख पड़ी। रानी की मां कृष्णा मुखर्जी लगातार बोल रही थी कि यह मेरी बेटी नहीं है। हालांकि रानी के अंकल कृष्णा को समझाने की कोशिश करते हुए बोल रहे थे कि जन्म के बाद सारे बच्चे एक जैसे ही दिख रहे हैं। यह उनकी (कृष्णा मुखर्जी) ही बेटी रानी है। लेकिन कृष्णा मुखर्जी अपनी बात पर अड़ी रही और लगातार बोले जा रही थी कि यह मेरी बेटी नहीं है। जाओ जाकर मेरी बेटी को ढूंढकर लाओ। मेरी बेटी की आंखों का रंग हल्का है।

    पंजाबी परिवार के पास मिली रानी :

    पंजाबी परिवार के पास मिली रानी :

    इस किस्से के बारे में बताते हुए कृष्णा मुखर्जी ने रानी को बचपन में बताया कि अस्पताल में खोयी रानी आखिरकार एक पंजाबी परिवार में उनकी मां को मिली थी। अस्पताल में जब कृष्णा मुखर्जी लगातार रानी को ढूंढ कर लाने की बात कह रही थी, उस समय नर्स भी कृष्णा को जोर देकर यह बोल रही थी,'यहीं आपकी बेटी है'। इस बात से नाराज कृष्णा मुखर्जी ने कहा कि वह अपनी बेटी को खुद ढूंढकर लाएंगी। इसके बाद उसी हालत में कृष्णा मुखर्जी अस्पताल के हर कमरे में अपनी बेटी को ढूंढने लगी। आखिरकार उन्हें रानी एक पंजाबी परिवार के पास मिली। इस परिवार में पहले से ही 7 बेटियां थी। कृष्णा मुखर्जी ने रानी की आंखों के रंग से अपनी बेटी को पहचाना। रानी बताती है कि उनकी मां आज भी उनको चिढ़ाती हैं कि वह असल में पंजाबी परिवार से ही हैं। गलती से वह मुखर्जी परिवार में आ गयी।

    English summary
    Rani Mukherji told about such a sentence at the time of her birth, hearing which people were forced to press their fingers under their teeth. Newborn Rani Mukherji had changed in the hospital. To find Rani Mukherji, her mother had gone round the entire hospital in the same condition. Eventually, in a special way, Rani Mukerji was found by her mother.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X