»   » ये है मोहब्बतें-उफ्फ..बस एक डांट और सब ठीक है...कहानी पूरी फिल्मी है!

ये है मोहब्बतें-उफ्फ..बस एक डांट और सब ठीक है...कहानी पूरी फिल्मी है!

Written By: Shweta
Subscribe to Filmibeat Hindi

ऐसे ही ये है मोहब्बतें टॉप पर नहीं रहती है। किसी सीरियल में एक विलेन होते हैं यहां तो हमें जितने स्टार हैं उससे ज्यादा विलेन ही दिखने लगे हैं। अब देखिए सुरज और नीधी पहले से कम थे जो शगुन भी धीरे अपने आपको अलग महसूस करने लगी है और धीरे धीरे पुरानी शगुन होती जा रही है।

शगुन को अच्छा नहीं लग रहा की रमन और इशिता एक दूसरे के साथ धीरे धीरे काफी खुशी खुशी रहने लगे हैं। और ये देखकर भला शगुन क्यों खुश होगी । अब वो धीरे धीरे पीहू को हथियार तो बनाने ही लगी है और उसे ये लगने लगा है कि इशिता के आते ही सब उसे भुल गए। 

[PICS: ये हैं टीवी की क्यूट एक्ट्रेस.. नज़र नहीं हटेगी!...!!]

इधर घर में इशिता फिर कुछ ऐसा करती है की सब उसकी तारीफ करते नहीं थकते। उसे उस बड़े कदम का क्रेडिट दिया जाता है। आखिरकार वो इशिता है अपनी एक डांट से वो सालों पुरानी दुश्मनी खत्म करवा देती है लेकिन बस वही है की एक डांट रूही पर कुछ असर नहीं दिखा रहा।

इधर संतोषी चाहती है की इशिता हमेशा के लिए भल्ला परिवार में रहे, ये जानकर इशिता और रमन का क्या रिएक्शन होगा। आगे की स्लाइड पर देखिए फिलहाल क्या कुछ हो रहा है ये है मोहब्बतें में।

ये सिर्फ इशिता कर सकती है

ये सिर्फ इशिता कर सकती है

अब रमन को डांटना तो सब के बस की बात नहीं होती। इशिता ही कर सकती है वो भी सिर्फ डांटना नहीं हाथ बांध के क्लास लगाना और माफी मंगवाना।

शगुन का गुस्सा

शगुन का गुस्सा

शगुन के सामने इशिता इतना कुछ कर देती है तो जाहिर है उसे गुस्सा तो आएगा ही। वो ना तो गुस्सा दिखा ही पाती है और ना कंट्रोल ही कर पाती है।

सीधे रोमी के पास

सीधे रोमी के पास

इशिता रमन के हाथ बांधकर इशिता सीधे उसे रोमी के पास लेकर जाती है। बेचारा रमन भी चुपचाप चला जाता है।

शगुन का आइडिया

शगुन का आइडिया

शगुन देखती है की इशिता की सब इतनी तारीफ कर रहे हैं क्योंकी वो सबकुछ ठीक करने में इतनी मेहनत कर रही है इसलिए शगुन भी कुछ करना चाहती है और करती क्या है रूही और पीहू की बॉन्डिंग अच्छी हो इसलिए पीहू को प्रोजेक्ट करने के लिए पीहू के पास भेज देती है।

लेकिन सब उल्टा

लेकिन सब उल्टा

लेकिन वैसा होता नहीं जैसा शगुन सोचती है उलटे रूही को उसका प्लान पता चल जाता है और वो शगुन को समझाती है की वो फिर से कुछ ऐसा ना करे की पीहू को दुख हो जब रूही चली जाए। शगुन के किए कराए पर पानी फिर जाता है।

रमन-रोमी का सॉरी

रमन-रोमी का सॉरी

अब रमन तो रमन निकला वो किसी सॉरी बोल दे यही बहुत बड़ी बात है।रमन कितनी भी कोशिश कर ले वो सॉरी नहीं बोल पाता ।

आखिरकार...

आखिरकार...

ये सीन तो वाकई हजम नहीं हुआ। अब देखिए रमन को करेले के जूस से ज्यादा आसान सॉरी पीना लगा और उसने सॉरी बोल दिया। भला कैसे हजम होगा।

रूही और आदि

रूही और आदि

रूही आदि को सलाह देती है की वो ज्यादा इशिता पर भरोसा ना करे। वो खिड़की से नीचे देखती है और कि इशिता आ रही है और आदि को बोलती है की इशिता रोमी को लेकर नहीं आ पाई।

लेकिन हुआ उल्टा

लेकिन हुआ उल्टा

कॉल बेल की आवाज सुनकर रूही जानबुझकर दरवाजा खोलने जाती है की इशिता खाली हाथ लौटी लेकिन दरवाजा खोलते ही रोमी को सामने देखकर पूरी तरह शॉक्ड हो जाती है और वहां से चली भी जाती है।

आगे क्या

आगे क्या

आगे अब रोमी परिवार के साथ रहने तो आ गया लेकिन आगे रूही को मनाना और नीधी को मजा चखाना बस यही सिलसिला चलता रहेगा। लेकिन इतने कम दिनो में सब कैसे ये सब करेंगे और सब इशिता को यही बोलते हैं की उसे वापस नहीं जाना चाहिए आखिर वो क्या करेगी।

English summary
Ishita Finally unites whole family in fact Romi also came to Bhalla family but Ruhi is not at all happy with this, What she will do now
Please Wait while comments are loading...