For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    मसाबा मसाबा रिव्यू- फुल इंटरटेनमेंट है नेटफ्लिक्स की ये सीरिज, दिल जीत लेंगी नीना गुप्ता और मसाबा

    |
    Rating:
    3.5/5

    निर्देशक- सोनम नायर

    स्टारकास्ट- मसाबा गुप्ता, नीना गुप्ता, नील भूपलम, रिताशा राठौर, सत्यदीप मिश्रा और अन्य

    प्लेटफॉर्म- नेटफ्लिक्स

    6 एपिसोड / 30 मिनट

    नेटफ्लिक्स पर स्ट्रीम हो रही वेब सीरिज 'मसाबा मसाबा' चर्चित फैशन डिजाइनर मसाबा गुप्ता की जिंदगी की कहानी है, जो कि अभिनेत्री नीना गुप्ता की बेटी हैं। इस सीरिज के द्वारा मसाबा ने दर्शकों को अपनी जिंदगी में झांकने का मौका दिया है। और यकीनन यह काफी दिलचस्प है। मसाबा की प्रोफेशनल लाइफ से लेकर पर्सनल जिंदगी के कुछ पन्नों को निर्देशक ने काफी मनोरंजक तरीके से दिखाया है। यह सीरिज लेखन के स्तर पर दिल जीत लेती है।

    छह एपिसोड के इस सीरिज को बॉयोपिक नहीं कहा गया है, लिहाजा रचनात्मक स्तर पर भी छूट ली गई है। वास्तविक जीवन की मां- बेटी नीना गुप्ता और मसाबा ने पहली बार स्क्रीन शेयर किया है। उनके बीच के दृश्य, संवाद काफी सहज मालूम पड़ते हैं। कहना गलत नहीं होगा कि फैशन डिजाइनल मसाबा एक बेहतरीन अदाकारा भी हैं।

    यह सीरिज इतनी वास्तविकता के इतने करीब दिखती है कि इसकी एक-एक बात से आप जुड़ते चले जाते हैं। दोस्तों के साथ वक्त गुजारना हो, करियर में कुछ कर गुजरने की चाह रखना, स्वतंत्र रहना हो या जिंदगी पर हावी होती सोशल मीडिया हो.. 'मसाबा मसाबा' सिंपल, सीधे - सपाट तरीके से बात रखती है।

    शानदार शुरुआत

    शानदार शुरुआत

    एक चर्चित फैशन डिजाइनर और उनकी वेटेरन एक्ट्रेस मां, जो कि 60 साल की उम्र में भी करियर को नई दशा और दिशा देने की चाह में लगी हुईं हैं। उनमें अभिनय करने की.. कभी ना खत्म होने वाली आग है। हर स्ट्रगल कर रहे कलाकार की तरह उनकी जिंदगी का यह किस्सा भी देखने लायक है।

    कहानी की शुरुआत होती है एक 'ब्लाइंड आइटम से', जिसमें मसाबा और विनय (सत्यदीप मिश्रा) की शादी शुदा जिंदगी खत्म होने की ओर इशारा किया जाता है। रियल लाइफ में मसाबा अपने पति मधु मंटेना से अलग हो चुकी हैं, जो कि एक निर्माता हैं। मसाबा पर इस तलाक का क्या प्रभाव रहा, मानसिक, व्यवसायिक और आर्थिक स्तर पर.. यह सीरिज में दिखाया गया है। अच्छी बात है कि ये बातें कहीं से ही नकारात्मक प्रभाव नहीं छोड़ती हैं। मसाबा और नीना गुप्ता की मजबूती और जिंदादिली सराहनीय है। फैशन डिजाइनर्स अक्सर बीहाइंड द सीन होते हैं.. ऐसे में मसाबा की प्रोफेशनल जिंदगी दर्शकों को आकर्षिक कर सकती है।

    लेखन और निर्देशन

    लेखन और निर्देशन

    यह वेब सीरिज सोनम नायर द्वारा लिखित और निर्देशित है। खास बात है कि इस सीरिज को काफी sensationalize भी बनाया जा सकता था। लेकिन सोनम ने इसे हल्के फुल्के अंदाज में पेश किया है और उनकी ईमानदारी दृश्यों में उभरकर आती है। कुछ-एक दृश्यों को छोड़कर कहीं भी ओवर द टॉप ड्रामा नहीं डाला गया है। भावनात्मक दृश्यों को बेहतरीन पिरोया गया है। मसाबा की जिंदगी उतार- चढ़ाव से भरपूर है, लेकिन शायद इसे ही असल जिंदगी कहते हैं। एक दृश्य में अपनी दोस्त से मसाबा कहती हैं- 'ड्रामा भी जरूरी है, बिना ड्रामा के जिंदगी एक दिन में बोर लगने लगेगी..'। निर्देशक ने मसाबा और नीना गुप्ता के पैशन और सकारात्मकता को बेहतरीन दिखाया है।

    अभिनय

    अभिनय

    मसाबा ने अपने अभिनय से प्रभावित किया है। जिंदगी की उतार- चढ़ाव उनके हाव भाव में दिखती है। अपनी मां नीना गुप्ता के साथ मसाबा की कैमिस्ट्री जबरदस्त दिखी है। दोनों में गजब की सहजता है। 60 वर्षीय एक संघर्षरत एक्ट्रेस के किरदार में नीना गुप्ता बेहतरीन लगी हैं। वहीं, नील भूपलम, रिताशा राठौर, सत्यदीप मिश्रा जैसे कलाकार अपने किरदारों में बेहतरीन दिखे हैं। शो में कई सारे सेलेब्स के कैमियो भी हैं, जिनमें फराह खान, पूजा बेदी, कियारा आडवाणी जैसे कलाकार हैं।

    एपिसोड्स

    एपिसोड्स

    इस वेब सीरिज में कुल 6 एपिसोड हैं। हर एपिसोड के साथ मसाबा की जिंदगी का एक अलग पहलू दिखता है, जो कि दिलचस्पी जगाए रखता है। मसाबा का डिवोर्स, क्रिएटिविटी पर सवाल, मां के साथ संबंध, दोस्तों का साथ.. इस वेब सीरिज में काफी कुछ परोसा गया है।

    अच्छी बातें

    अच्छी बातें

    शो की खासियत है कि इसमें रियलिटी को रियल रखने की कोशिश की गई है, उसमें जबरदस्ती का मसाला नहीं डाला गया है। लिहाजा, इसकी सच्चाई से दर्शक जुड़ पाते हैं। आजकल दिखाए जा रहे अनगिनत क्राइम आधारित वेब सीरिज के बीच यह हल्की फुल्की सीरिज चेहरे पर मुस्कान लाती है। लेखन, संवाद और अभिनय इस सीरिज के मजबूत पक्ष हैं।

    और क्या बेहतर हो सकता था

    और क्या बेहतर हो सकता था

    चूंकि मसाबा एक जानी मानी और बेहद सफल डिजाइनर हैं, दर्शक उनके सफर को भी देखना चाहेंगे कि वह उस ऊंचाई तक किस तरह पहुंची, जिसे सीरिज में जोड़ा नहीं गया है। मसाबा ब्राण्ड के पीछे की कहानी यहां अनछुई है। उम्मीद है सीज़न 2 में निर्देशक यह दिखाना चाहें। वहीं, सीरिज के अभिनेताओं के किरदारों को थोड़ा और तराशा जा सकता था। स्मरण साहू और नील भूपलम ध्यान आकर्षित करते हैं।

    देखें या ना देखे

    देखें या ना देखे

    जरूर देंखे। यह आधे- आधे घंटे के 6 एपिसोड की छोटी सी सीरिज है। इस वीकेंड इसे आप आराम से binge watch कर सकते हैं। यह नेटफ्लिक्स पर उपलब्ध है।

    English summary
    Masaba Masaba Review: Neena Gupta and Masaba Gupta shines throughout in this Netflix series full of fashion and drama. It's a binge-worthy series.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X