»   » शौकीन्स फिल्म रिव्यू- कुछ खट्टी कुछ मीठी

शौकीन्स फिल्म रिव्यू- कुछ खट्टी कुछ मीठी

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

पिछले कुछ समय से हमारे हिंदी सिनेमा की कुछ पुरानी क्लासिक फिल्मों के रीमेक बनाने का दौर सा शुरु हुआ है। हाल ही में रेखा की खूबसूरत, चश्मे बद्दूर जैसी सुपरहिट फिल्मों के रीमेक बने जिन्हें नये रुप में देख दर्शक भी काफी काफी खुश हुए। इन फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर भी अच्छी कमाई की। वहीं हिम्मतवाला जैसी हिट फिल्म के रीमेक ने बॉक्स ऑफिस पर कुछ ही दिनों में दम तोड़ दिया।

लेकिन इसके बावजूद फिल्मों के रीमेक का सिलसिला अभी तक जारी है। इन फिल्मों के रीमेक के जरिये निर्देशक इनकी सफलता को बॉक्स ऑफिस पर कैश कराने की कोशिश करते हैं। कुछ यही कोशिश की है केतन मेहता ने अपनी हाल ही में रिलीज फिल्म द शौकीन्स फिल्म के जरिये। द शौकीन्स फिल्म 1982 में रिलीज हुई बासु चैटर्जी की फिल्म शौकीन की रीमेक है।

फिल्म की कहानी कुछ यूं है कि तीन बूढे आदमी लाली (अनुपम खेर) केडी (अन्नू कपूर) और पिंकी (पियूष मिश्रा) मिलकर अपनी बोरिंग व दुखी जिंदगी में कुछ मजेदार करने का फैसला करते हैं। वो मॉरीशस घूमने जाते हैं जहां पर उनकी मुलाकात होती है अहाना (लीजा हेडन) से। तीनों मिलकर अहाना को इंप्रेस करने की कोशिश करते हैं। जबकि अहाना का सपना कुछ और ही है वो एक्टर अक्षय कुमार की बहुत बड़ी फैन है और उससे मिलना चाहती हैं। अहाना की इस इच्छा को पूरा करने के लिए तीनों क्या करते हैं यही फिल्म की कहानी का सबसे मजेदार हिस्सा है।

कहानी

कहानी

द शौकीन्स फिल्म की कहानी बेहद मजेदार है। पुरानी फिल्म शौकीन से ये काफी हद तक मिलती जुलती है। हालांकि कहानी में कुछ नयापन लाने की पूरी कोशिश की गयी है लेकिन फिर भी जिन्होंने शौकीन देखी है उन्हें द शौकीन्स कहीं ना कहीं पुरानी फिल्म की कॉपी ही लगेगी।

निर्देशन

निर्देशन

अभिषेक शर्मा ने पूरी कोशिश की द शौकीन्स को पुरानी शौकीन से हटकर व बेहतर बनाने की। फिल्म के पहले भाग में अभिषेक की ये कोशिश पूरी भी होती दिखी लेकिन दूसरे भाग में फिल्म की कहानी काफी धीमी हो गयी और दर्शकों को बोर करने लगी। फिल्म को और बेहतर बनाया जा सकता था। खासतौर पर अक्षय कुमार पर शूट किये गये कुछ दृष्य बेहतर हो सकते थे।

अभिनय

अभिनय

अनुपम खेर, पियूष मिश्रा ने अपने किरदारों के साथ पूरा न्याय किया है। दोनों ही काफी क्यूट लगे हैं फिल्म में। इसके अलावा अन्नू कपूर ने काफी खूबसूरत तरीके से अपने किरदार को निभाया है। ये तीनों किरदार फिल्म के दौरान आपको सीट पर से उठने का मौका ही नहीं देगें। अक्षय कुमार काफी हैंडसम दिखे हैं लेकिन उनके दृश्य कुछ खास नहीं हैं। लीजा हेडन भी अपने किरदार से लोगों को इंप्रेस करने में नाकाम रहीं।

संगीत

संगीत

द शौकीन्स के गाने जैसे एल्कोहॉलिक, इश्क कुत्ता है और मनाली ट्रांस लोगों को बेहद भा रहे हैं लेकिन फिल्म में इन गानों को उचित जगह पर नहीं डाला गया। मेहरबान गाना बेहद खूबसूरती से शूट किया गया है।

देखें या नहीं

देखें या नहीं

जिन लोगों ने शौकीन देखी है उनके लिए द शौकीन्स मनोरंजक नहीं साबित होगी। फिल्म में कई दृष्य है जो कि काफी मनोरंजक है और हंसने पर मजबूर करते हैं। आज की जेनरेशन को फिल्म पसंद आ सकती है।

English summary
The Shaukeens movie is a story of three elderly friends Anupakm Kher, Annu Kapoor and Piyush Mishra. Its story of their search of excitement and happiness in life.
Please Wait while comments are loading...