»   » शादी के साइड इफेक्ट्स- कुंवारों के लिए एंटरटेनिंग, मैरिड के लिए आपबीती!

शादी के साइड इफेक्ट्स- कुंवारों के लिए एंटरटेनिंग, मैरिड के लिए आपबीती!

Posted By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

आज की पीढ़ी शादी के नाम से ही डर जाती है। उसे अपनी आजादी और मनमानी करने की छूट से दूर होने की बात सोचकर ही पसीने आने लगते हैं। ये साइड इफेक्ट्स शादी के बाद के साइड इफेक्ट्स की सोच सोचकर महसूस होते हैं। फरहान अख्तर और विद्या बालन की फिल्म शादी के साइड इफेक्टस में शादी के बाद होने वाली साइड इफेक्ट्स को बहुत ही बारीकी और दिल से दिखाने की कोशिश की गयी है।

जहां तक एक्टिंग की बात है तो विद्या बालन और फरहान अख्तर जैसे बेहतरीन एक्टर्स से जैसी उम्मीद से उससे भी कहीं ज्यादा बढ़कर दोनों ने अपने किरदारों के लिए कर दिखाया है। प्यार, झगड़ा, रुठना-मनाना, शादी के बाद के इन सभी एहसासों को परदे पर उतारने में विद्या और फरहान का जवाब नहीं। शायद दोनों शादी शुदा हैं इसलिए भी शादी के साइड इफेक्ट्स को इन एक्टर्स ने सिर्फ निभाया नहीं बल्कि परदे पर जीकर दिखाया है।

विद्या के लिए शादी का सबसे बड़ा साइड इफेक्ट है अपने माता पिता का घर छोड़ना!

शादी के साइड इफेक्टस की कहानी है सिद्धार्थ (फरहान अख्तर) और तृषा (विद्या बालन) की कहानी। सिद्धार्थ जो कि बचपन में अपने माता पिता के तलाक को बहुत करीब से देख कर डर चुका है वो अपनी और तृषा की शादी को बेहतरीन बनाने के लिए कुछ आइडिया खोजता है और उन्हें लागू करके तृषा को हर समय खुश रखने की कोशिश करता है ताकि वो अपनी शादी शुदा जिंदगी में शांति ला सके। लेकिन शादी के इन साइड इफेक्ट्स से बचने के लिए सिद्धार्थ के ये तरीके भी काम नहीं करते और पिता बनने के फैसला लेने के बाद सिद्धार्थ अपनी शादी शुदा जिंदगी में शांति बनाए रखने में नाकामयाब हो जाता है। अपनी परेशानी के चलते सिद्धार्थ अपनी शादी शुदा जिंदगी से भागने की कोशिश करता है और अपने लिए एक अलग दुनिया खोजता है जहां वो अपने हिसाब से अपनी ख्वाहिशों के साथ रह सके।

लेकिन यही गलती सिद्धार्थ को तृषा से दूर कर देती है। अब क्या सिद्धार्थ को वक्त रहते अपनी शादी-शुदा जिंदगी को बचाने का मौका मिलता है, क्या दोबारा तृषा और सिद्धार्थ की शादी पटरी पर आती है। ये जानने के लिए तो आपको शादी के साइड इफेक्ट्स फिल्म देखने जाना होगा। लेकिन इतना जरुर कहा जा सकता है कि जो लोग शादी शुदा नहीं हैं उनके लिये शादी के साइड इफेक्टस काफी मजेदार और एंटरटेनिंग होगी। पर शादी शुदा लोगों के लिए ये आपबीती से कम नहीं। फिल्म का पहला भाग बहुत ही रफ्तार में और रोमांचिक मोड़ से होता हुआ निकलता है। लेकिन दूसरे भाग में कहानी थोड़ी सी ट्रैक से हटकर धीमी गति पकड़ती महसूस हुई। आइये देखते हैं शादी के साइड इफेक्ट्स के किरदारों की एक झलक-

अनुज- शादी के साइड इफेक्ट्स से बचने की कोशिश करता पति

अनुज- शादी के साइड इफेक्ट्स से बचने की कोशिश करता पति

सिद्धार्थएक ऐसा पति है जिसने अपनी शादी को साइड इफेक्ट्स यानी झगड़ों से बचाने के लिए एक नियम बनाया है कि अपनी गलती पर भी सॉरी बोलो और पत्नी की गलती पर भी सॉरी बोलो। लेकिन ये नियम उसे इन साइड इफेक्टस से नहीं बचा पाता।

तृषा- मां और पत्नी के बीच फंसी औरत

तृषा- मां और पत्नी के बीच फंसी औरत

मां बनने के बाद अपने पति को अपना वक्त ना दे सकने की वजह से तृषा अपनी शादी शुदा जिंदगी को मुसीबत में डाल देती है। सिद्धार्थ तृषा से दूर हो जाता है और अपने घर से दूर अपनी एक दुनिया बनाता है। लेकिन तृषा भी इतनी आसानी से अपनी शादी को टूटने नहीं देती।

राम कपूर- अपने बच्चे और पत्नी को खुश करने के लिए भटका हुआ पति

राम कपूर- अपने बच्चे और पत्नी को खुश करने के लिए भटका हुआ पति

तृषा की बड़ी बहन के पति का किरदार निभाया है राम कपूर ने। राम कपूर की पत्नी के किरदार में उनकी रियल लाइफ पत्नी गौतमी कपूर हैं। राम कपूर शादी के साइड इफेक्टस से बचने के लिए घर से बाहर अपनी एक दुनिया बसाई है और अपने परिवार को खुश रखने के लिए वो खुद को खुश रखने में विश्वास रखते हैं।

वीर दास- शादी को आफत समझता एक्टर

वीर दास- शादी को आफत समझता एक्टर

वीर दास ने एक ऐसे स्ट्रगलिंग एक्टर का किरदार निभाया है। जब सिद्धार्थ अपने घर से दूर बाहर अपनी दुनिया ढूढ रहा होता है तो वीर दास उसका साथी बनता है। वीर दास को लगता है कि उसे किसी की जरुरत नहीं। शादी के साइड इफेक्ट्स से बेहतर है अकेला रहना।

पूरब कोहली- तृषा के अकेलेपन का साथी और पड़ोसी

पूरब कोहली- तृषा के अकेलेपन का साथी और पड़ोसी

जब सिद्धार्थ घर से बाहर ज्यादा वक्त बिताता है तो तृषा को अपने पड़ोसी पूरब कोहली में एक दोस्त मिलता है। जिसके साथ तृषा अपना समय बिताती है और जिसके साथ वो अपनी शादी के इन साइड इफेक्टस से खुद को बचाती है।

English summary
Farhaan Akhtar and Vidya Blaan starring movie Shaadi Ke Side Effects shows how after marriage life changes and to continue marriage becomes a task for husband and wife. Farhaan and Vidya very well played the characters of a husband and wife who try their best to keep their marriage and love alive.
Please Wait while comments are loading...