»   » REVIEW - साल की पहली शानदार फिल्म है कालाकांदी..खतरनाक और फूहड़

REVIEW - साल की पहली शानदार फिल्म है कालाकांदी..खतरनाक और फूहड़

Posted By: Vinod Dsouza
Subscribe to Filmibeat Hindi
Kaalakaandi Celeb Review: Kareena Kapoor, Aditya Roy, Soha Ali, Shruti Hassan talk | FilmiBeat
Rating:
3.0/5

कास्ट - सैफ अली खान, शहनाज ट्रेजरवाला, कुणाल रॉय कपूर, शोभिता धुपलिपाला, विजय राज, दीपक डोबरियाल
डायरेक्टर-अक्षत वर्मा
प्रो़ड्यूसर-रोहित खट्टर, अशी दुआ सारा
लेखक- अक्षत वर्मा
क्या है खास-जब सैफ अली खान एक ट्रांसजेंडर प्रोस्टिट्यूट को उसकी "Australia, down south, Cape of Good Hope" दिखान को कहते हैं।
क्या है बुरा- फिल्म का दूसरा हाफ पहले हाफ जितना मजेदार नहीं है।
आइकॉनिक मोमेंट- जब सैफ अली खान और एक ट्रांसजेंडर प्रोस्टिट्यूट को एक बड़े पेट वाला पुलिस पकड़ने की कोशिश करता है जो मुश्किल से 100 मीटर चल पाता है।

प्लॉट

प्लॉट

सैफ अली खान , एक सिंपल इंसान जो शराब, सिगरेट, पार्टी तक नहीं करता लेकिन जिंदगी में सबसे बड़ा झटका उन्हें तब मिलता है जब उनके डॉक्टर उन्हें बोलते हैं कि वो कैंसर के आखिरी स्टेज से जूझ रहे हैं और 6 महीने से अधिक नहीं जिंदा रह सकते हैं और अगले ही दिन उनके भाई की शादी होती है।


अपनी बीमार जिंदगी से तंग सैफ अली खान पहली बार कुछ अजीब चीजों का अनुभव करते हैं। रात भर मस्ती, पार्टी, ड्रिंक और ट्रांसजेंडर प्रोस्टिट्यूट के साथ घूमते हैं और देखने की कोशिश करते हैं
कि उनके कपड़ो के अंदर क्या है। खुद भी ट्रांसजेंडर की तरह तैयार होता है।
वहीं दूसरी ओर शहरी कपल कुणाल रॉय कपूर और शोभिता धुलिपाला अपनी पढ़ाई के लिए न्यूयॉर्क जाने की तैयारी करता है लेकिन उनकी मुलाकात अपनी दोस्त शेनाज ट्रेजरवाला से होती है जो अपने जन्मदिन के एक दिन पहले अपने टॉय बॉय उर्फ सेक्स स्लेव के साथ पार्टी करती है लेकिन ड्रग्स के रेड में पकड़े जाते हैं।

एक तरफ दो गैंगस्टर विजय राज और दीपक डोबरियाल अपनी ही बॉस को धोखा देना चाहते हैं और पूरी मुंबई पर राज करना चाहते हैं। इन सबके बाद क्या सैफ ट्रांसजेंडर के कपड़ों के अंदर क्या होता है ये देख पाएंगे या फिर वो अपनी जिदंगी खो देंगे (उनके अनुसार)? इन सब बातों को जानने के लिए आपको सिनेमाघरों का रूख करना पड़ेगा।

डायरेक्शन

डायरेक्शन

अक्षत वर्मा ने देल्ही बेली के बाद मुंबई की नाइट लाइफ जिसमें कई अजीबोगरीब, खतरनाक और मजेदार चीजें दिखाई है। अक्षत ने बखूबी दिखाया है कि उनके कैसे यहां के रहने वाले वाइल्ड और क्रेजी होते हैं।कई सीन बहुत ही अच्छी तरह से कनेक्ट किए हैं जैसे कई सीन को आप बिल्कुल भी नहीं पचा पाएंगे तो वहीं दूसरे सीन में आपको महसूस होगा कि ये सच है। डायरेक्टर ने शहरी मिजाज को बखूबी पकड़ा है।

परफॉर्मेंस

परफॉर्मेंस

सैफ अली खान ने इस फिल्म पर बखूबी अपना पकड़ बनाया है । उन्होंने दिखा दिया कि कैसे एक अच्छा इंसान खतरनाक बन जाता है। उनके मजेदार वन लाइनर्स भी आपको शॉक दे सकते हैं।सैफ अली खान ने शॉक वैल्यू बनाए रखी है और एक शानदार परफॉर्मेंस दी है। फिल्म के बाकी कलाकार शेनाज ट्रेजरवाला, कुणाल रॉय कपूर, शोभिता धुलिपाला, विजय राज, दीपक डोबरियाल ने भी बहुत ही अच्छा काम किया है और शॉक वैल्यू को बनाए रखा है जो फिल्म की यूएसपी है।

तकनीकी पक्ष

तकनीकी पक्ष

मुंबई की नाइट लाइफ और सिटी लाइफ को दिखाने में और अधिक काम करने की जरुरत है और अक्षत वर्मा ने फिल्म में मेट्र लाइफ को दिखाने की कोशिश की है। बेस्ट नाइट क्लब, हॉट गर्ल, कैजुअल सेक्स,ड्रिंकिंग को दिखाया है। आपको एहसास होगा कि उन्होंने फिल्म में अपनी खुद की एक सिटी दिखाई है।

म्यूजिक

म्यूजिक

फिल्म में एक आइटम नंबर छोड़ कर म्यूजिक पर अधिक फोकस नहीं किया गया है और ये आइटम नंबर भी सैफ अली खान के ड्रग्स लेने के बाद के व्यवहार के कारण म्यूजिक सेंकेंड्री

Verdict

Verdict

अगर आपको मस्ती करना पसंद है और अंधेरा होने के बाद मुंबई में क्या होता है ये देखना चाहते हैं तो कालाकांदी को आप इंज्वॉय करेंगे।

English summary
kaalakaandi movie review plot and rating.

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

X