»   » हमशक्ल्स फिल्म रिव्यू- ये पागल नहीं हैं भइया...

हमशक्ल्स फिल्म रिव्यू- ये पागल नहीं हैं भइया...

Posted By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

स्टार- 2.5
निर्माता- वाशु भगनानी
निर्देशक- साजिद खान
कलाकार- रितेश देशमुख, सैफ अली खान, राम कपूर, ईशा गुप्ता, तमन्ना भाटिया, बिपाशा बासु
संगीत-साजिद अली, वाजिद अली, हिमेश रेशमिया

साजिद खान की फिल्म हमशक्ल्स को लेकर लोगों ने काफी उम्मीदें लगा रखी हैं और आपकी इन उम्मीदों पर हम पूरी तरह से तो पानी नहीं फेरेंगे लेकिन अगर ये कहें कि हमशक्ल्स देखने जाएं मगर ज्यादा बड़ी उम्मीदों के साथ नहीं तो शायद ये गलत नहीं होगा। सैफ अली खान, रितेश देशमुख, राम कपूर जैसे बेहतरीन कलाकारों के होने के बावजूद हमशक्ल्स फिल्म इतनी भी मजेदार नहीं रही कि लोगों के ठहाके सिनेमाहॉल में गूंजते सुनाई दें। हालांकि सभी कलाकारों और फिल्म निर्देशक साजिद खान ने अपनी तरफ से कोई कमी नहीं रखी और उन सभी ट्रिक्स को आजमाया जिनके चलते अभी तक बॉक्स ऑफिस पर वो सफल रहे हैं।

कहानी- अशोक(सैफ अली खान) और कुमार (रितेश देशमुख) दोनों बहुत करीबी दोस्त हैं। अशोक एक बहुत बड़ी कंपनी का मालिक है और करोड़पति है। अशोक के पिता कोमा में हैं और उसके मामा (राम कपूर) चाहते हैं कि पूरी प्रॉपर्टी उन्हें मिल जाए। इसके लिए दो कंडीशन हैं कि या तो अशोक पागल हो जाए और या तो कोमा में चला जाए। मामा प्लान बनाकर अशोक और कुमार को पागलखाने पहुंचा देता है। दूसरी तरफ अशोक और कुमार के हमशक्ल्स भी उसी पागलखाने की जेल में बंद हैं। ईशा गुप्ता जो कि पागलखाने में डॉक्टर है वो समझ जाती है कि कोई अशोक के खिलाफ साजिश कर रहा है और वो अशोक को पागलखाने से छोड़ देती है।

लेकिन ट्विस्ट ये है कि पागलखान से जो बाहर जाते हैं वो कुमार और अशोक नहीं बल्कि उनके हमशक्ल्स हैं। मामा को ये पता चलता है और वो प्लान बनाकर अशोक व कुमार के हमशक्ल्स के जरिये सारी जायदाद अपने नाम कराने का प्लान करते हैं। लेकिन तभी अशोक और कुमार भी सब जानने के बाद बाहर निकलते हैं और उनकी मदद करता है मामा का हमशक्ल्स जो कि उसी पागलखाने में बंद है। इसी के बीच सबकी प्लानिंग प्लॉटिंग के दौरान ही कुछ ऐसी परिस्थितियां बनती हैं कि अशोक, कुमार और मामा के तीसरे हमशक्ल्स भी इस लड़ाई में कूद पड़ते हैं।

अभिनय

अभिनय

अभिनय की बात की जाए तो मानना पड़ेगा कि रितेश देशमुख को कॉमेडी के मामले में कोई टक्कर नहीं दे सकता। सैफ अली खान व राम कपूर ने भी कई सीन्स में बेहतरीन परफॉर्मेंस दी है लेकिन रितेश के सामने सभी फीके पड़ गये। बिपाशा बासु का कुछ खास किरदार नहीं था, तमन्ना को काफी हॉट व खूबसूरत दिखाया गया है। ईशा गुप्ता अपने छोटे से किरदार में एवरेज दिखी हैं।

निर्देशन

निर्देशन

साजिद खान का निर्देशन हमेशा की ही तरह बेहतरीन है। हालांकि हमशक्ल्स को अगर साजिद की पहली की फिल्मों हे बेबी, हाउसफुल से कंपेयर किया जाए तो हमशक्ल्स इनसे उन्नीस ही बैठती है। कई सीन्स हाउसफुल से कॉपी किये हुए लगे हालांकि इसे साजिद अपने सिगनेचर सीन्स कहते हैं लेकिन इतने सारे सिगनेचर सीन्स होना तो संभव नहीं है।

संगीत

संगीत

आजकल की फिल्मों में अगर संगीत बेहतरीन है तो फिल्म आधी तो बाजी पहली ही मार ली। लेकिन हमशक्ल्स का एक गाना कॉलर ट्यून ही किसी हद तक लोगों के बीच पॉपुलर हो पाया है।

कॉमेडी

कॉमेडी

साजिद खान की फिल्म हो तो सबसे पहली चीज जो लोग ढूंढ़ते हैं वो है कॉमेडी। फिल्म में कई सीन्स बहुत ही बेहतरीन हैं जिन्हें देखकर आप खुद को हंसने से नहीं रोक सकेंगे। खासतौर पर सैफ, रितेश और राम कपूर के फीमेल अवतार वाले सीक्वेंस बेहद कॉमिक हैं। लेकिन वहीं फिल्म का पहला भाग थोड़ा सा कम इंप्रेसिव रहा जबकि दूसरे भाग में काफी अच्छे और कॉमिस सीन्स थे।

देखें या नहीं

देखें या नहीं

साजिद खान की फिल्म और रितेश देशमुख, सैफ अली खान व राम कपूर जैसे बेहतरीन कलाकार हों तो फिल्म को एक बार देखना तो बनता है। भले ही फिल्म में काफी बोरिंग पहलू हैं लेकिन इसके बावजूद फिल्म में कई फनी और मजेदार सीन्स भी हैं।

English summary
Saif Ali Khan, Ritesh Deshmukh, Ram Kapoor, Esha Gupta, Bipasha Basu and Tamanna starer Humshakals has some good comic sequences but some of them were repetitive. Best part of Humshakals is the female version of Saif, Ritesh and Ram Kapoor. 
Please Wait while comments are loading...