»   » रिव्यू :साल की सबसे मीठी फिल्म..जाइये देखिए..MUST WATCH

रिव्यू :साल की सबसे मीठी फिल्म..जाइये देखिए..MUST WATCH

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi
Rating:
3.0/5

कास्ट- आयुष्मान खुराना, कृति सेनन, राजकुमार राव
डायरेक्टर - अश्विनि अय्यर तिवारी
प्रोड्यूसर - विनित जैन, रेणु रवि चोपड़ा
लेखक - नितेश तिवारी, श्रेयस जैन, रजत नोनिया
शानदार पॉइंट - राजकुमार राव
निगेटिव पॉइंट - कमजोर स्क्रीनप्ले, धीमा नैरेशन
शानदार मोमेंट - स्क्रीन पर राजकुमार राव को देखकर बिना मुस्कुराए नहीं रह पाएंगे।

 प्लॉट

प्लॉट

बरेली उत्तर प्रदेश का छोटा सा शहर है जिसकी तंग गलियों में मिश्रा परिवार भी रहता है जो बाकी साधारण परिवारों की तरह पितृसत्तात्मक है।उनकी बेटी बिट्टी (कृति सेनन) को उन्होंने एक बेटे की तरह पाला है।

बिट्टी बाकी छोटे शहरों की लड़कियों जैसी नहीं है। वो सिगरेट-शराब पीती है, इंग्लिश फिल्में देखती है और ब्रेक डांस की दिवानी है। उसके पैरेंट्स उसके लाइफस्टाइल को लेकर काफी कूल हैं। लेकिन उसके ब्वॉयफ्रेंड/मंगेतर ऐसा नहीं सोचते।

दो सगाई टूटने के बाद बिट्टी को लगता है कि वो इस शहर के लिए सही नहीं है और घर से भाग जाती है। स्टेशन पर उसे एक किताब दिखती है बरेली की बर्फी। मजेदार बात ये है कि किताब पढ़नेके बाद बिट्टी वापस घर लौट आती है और उसके लेखक चिराग दुबे (आयुष्मान खुराना) से संपर्क करने की कोशिश करती है।

Bareilly Ki Barfi Movie Review: Movie with AMAZING DIALOGUES cannot be missed | FilmiBeat
प्लॉट

प्लॉट

ये सुनने में काफी सिंपल लगता है? लेकिन कहानी इतनी नहीं है। असल में चिराग ने अपने और बबली के असफल प्यार पर ये किताब लिखी है लेकिन इसमें वो उपनामों का प्रयोग करता है क्योंकि उसकी प्रेमिका बबली शादीशुदा और अपनी जिंदगी में बेहद खुश है।

चिराग पहली बार बिट्टी से मिलता है और उस पर मर मिटता है। उसे इंप्रेस करने के लिए वो अपने दोस्त प्रीतम विरोधी (राजकुमार राव) को लेकर एक कहानी गढ़ता है। उसकी तस्वीर वो बरेली कीबर्फी किताब में भी चिराग इस्तेमाल करता है।जल्द ही चिराग को समझ आता है कि बिट्टी को उस लेखक से प्यार है और उससे मिलना चाहती है।

बिट्टी का प्यार पाने के लिए प्रीतम को वो किताब का लेखक बनाकर उसके सामने लाना चाहता है और प्रीतम को हर वो चीज करने बोलता जिससे बिट्टी को नफरत है।क्या उसका आइडिया काम करेगा? इसके लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

 डायरेक्शन

डायरेक्शन

अपनी डेब्यू फिल्म नील बट्टे सन्नाटा से ही छा जाने वाली अश्विनी अय्यर तिवारी एक ऐसे फिल्म के साथ आई हैं जिसमें इमोशन है। फिल्म को लिखा भी शानदार तरीके से गया है लेकिन ये धीमा नैरेशन है जो फिल्म को थोड़ा कमजोर बनाता है और आपको भी असंतुष्ट छोड़ देता है।हालांकि उनका शानदार डायरेक्शन फिल्म को मजबूत बनाए रखता है। नितेश और उनकी टीम के लेखकों ने फिल्म में लोकल चीजों को खूबसूरती से लिखा है और इस पर काम भी किया है।

 परफॉर्मेंस

परफॉर्मेंस

कृति सेनन फिल्म में बिल्कुल परफेक्ट लगी हैं और अपने अंदाज, एट्टिट्यूड से आपका दिल जीत लेंगी। चिराग के किरदार में आयुष्मान खुराना आपको मेरी प्यारी बिंदु की याद दिलाएंगे।बस अंतर इतना
है कि इस किरदार में गहराई अधिक है और उन्हें देखना दिलचस्प है।

लेकिन ये राजकुमार राव हैं जो खासकर दूसरे हाफ में बाकी किरदारों को अपने सामने फीका कर देते हैं। उनका शर्मीला, सिंपल साड़ी बेचने वाला सेल्समैन से लेकर एक बदमाश और शरारती किरदार देखने में आपको सबसे ज्यादा मजा आएगा।

पंकज तिवारी और सीमा पाहवा भी अपने किरदार के साथ न्याय किए हैं और फिल्म में कॉमिक केमेस्ट्री से और भी दमदार बनाते हैं।

तकनीकी पक्ष

तकनीकी पक्ष

गेवेमिक यू एरी की सिनेमेटोग्राफी कमाल की है और फिल्म में जान डालती है। फिल्म की एडिटिंग और भी अच्छी हो सकती थी।

म्यूजिक

म्यूजिक

स्वीटी तेरा ड्रामा, ट्विस्ट कमरिया ऐसे गाने हैं जिसपर आप अपने लटके झटके दिखाना चाहें। नज्म नज्म भी बेहद खूबसूरत गाना है। बाकी गाने छाप नहीं छोड़ पाते हैं।

 Verdict

Verdict

अगर आपको अच्छी हल्की फुल्की ड्रामा फिल्म पसंद है तो बरेली की बर्फी को आप देखने जा सकते हैं।खासकर राजकुमार राव को देखना आप पसंद करेंगे।

English summary
Bareily ki barfi movie review story plot and rating.
Please Wait while comments are loading...