For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    प्रतिभासंपन्न सुचित्रा सेन के जाने से रो पड़ा बंगाल, मिलेगी बंदूक की सलामी

    |

    बंगाली फिल्मों की बड़ी अभिनेत्री सुचित्रा सेन ने आज दुनिया को अलविदा कह दिया। टॉप की अभिनेत्री लेकिन पिछले 33 सालों से एकाकी जीवन जी रहीं सुचित्रा सेन पिछले काफी समय से बीमार थीं। सुचित्रा सेन के जाने से पूरे बंगाल समेत सिनेजगत गमगीन है। देश की सभी जानी मानी हस्तियों ने सुचित्रा सेन के निधन पर गहरा शोक जताया है और कहा है कि सेन के जाने से एक युग की समाप्ति हो गयी है।

    मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अभिनेत्री के अंतिम संस्कार के समय उन्हें एक बंदूक की सलामी दी जाएगी। 82 वर्षीया सुचित्रा सेन पिछले 26 दिनों से अस्पताल में भर्ती थीं लेकिन आज उन्होंने सुबह सारी परेशानियों को पीछे छोड़ते हुए दुनिया को अलविदा कह दिया।

    इस दुख की घड़ी में ममता बैनर्जी ने कहा, "मैं महसूस करती हूं कि सेन का जाना वैश्विक सिनेमा और बांग्ला सिनेमा के लिए एक बड़ा दुखद समाचार है। ऐसी प्रतिभा सिर्फ एक बार जन्म लेती है और उनकी कोई तुलना नहीं। हमारे लिए आज का दिन बेहद दुखद है। आज हमने एक महत्वपूर्ण इंसान को खो दिया। हम उन्हें बंदूक की सलामी देकर सम्मानित करेंगे।"

    मालूम हो कि अभिनेत्री सुचित्रा सेन को वर्ष 2012 में पश्चिम बंगाल सरकार ने अपने सर्वोच्च पुरस्कार 'बंग बिभूषण' से सम्मानित किया गया था। सुचित्रा सेन के जाने से दुखी कई लोगों ने ट्विटर पर उन्हें श्रद्धांजलि दी है।

    आगे की खबर स्लाइडों में..

    प्रणब मु्खर्जी

    प्रणब मु्खर्जी

    देश के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अभिनेत्री सुचित्रा सेन के निधन पर शुक्रवार को शोक संवेदना प्रकट की है। सेन के लिए प्रणबा दा ने कहा सेन का जाना बंगाली सिनेमा की अपूर्णनिय क्षति है।

    पीएम मनमोहन सिंह

    पीएम मनमोहन सिंह

    प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने प्रसिद्ध अभिनेत्री सुचित्रा सेन के निधन पर शुक्रवार को शोक संवेदना प्रकट की है। उन्होंने कहा कि सुचित्रा ने बेहतरीन अभिनय से लाखों भारतीयों के दिलों में अपनी विशेष जगह बनाई। तीन दशक के करियर में उन्होंने बहुमुखी प्रतिभा और विभिन्न प्रस्तुतियों से भारतीय सिनेमा के साथ-साथ बांग्ला सिनेमा में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

    नरेन्द्र मोदी

    नरेन्द्र मोदी

    भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अभिनेत्री सुचित्रा सेन के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया कि वह एक बेहतरीन अदाकारा थीं। मोदी ने कहा कि उन्होंने भारतीय सिनेमा में महत्वपूर्ण योगदान दिया। मोदी ने ट्विटर पर लिखा, "सुचित्रा सेन की आत्मा को शांति मिले। सुचित्रा के रूप में हमने एक ऐसी अदाकारा को खो दिया, जिसने हिंदी और बांग्ला दोनों ही फिल्मों में महत्वपूर्ण योगदान दिया।"

    ममता बैनर्जी

    ममता बैनर्जी

    पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को दिग्गज अभिनेत्री सुचित्रा सेन के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए घोषणा की कि अभिनेत्री के अंतिम संस्कार के समय उन्हें एक बंदूक की सलामी दी जाएगी।

    अमिताभ बच्चन

    अमिताभ बच्चन

    सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ने बंगाली सिनेमा की महान अभिनेत्री सुचित्रा सेन को अपनी श्रृद्धांजलि देते हुए कहा कि उन्हें उनकी सुदंरता, प्रतिभा, रहस्यों के लिये हमेशा याद किया जायेगा।

    सुचित्रा सेन की तुलना ग्रेटा गार्बो से

    सुचित्रा सेन की तुलना ग्रेटा गार्बो से

    बांग्ला फिल्मों की दिलकश महानायिका सुचित्रा सेन ने अपनी सुंदरता, भव्यता और असंख्य भूमिकाओं के माध्यम से तीन पीढ़ियों को सम्मोहित किया। फिर भी तीन दशकों से लंबे आत्म-वैराग्य की वजह से उनकी तुलना हॉलीवुड की आदर्श नायिका ग्रेटा गार्बो से हुई।

    26 साल के करियर में 59 फिल्में

    26 साल के करियर में 59 फिल्में

    अपने 26 साल के करियर में महानायिका सुचित्रा ने 59 फिल्मों में अभिनय किया। उन्होंने बांग्ला फिल्मों के सबसे आदर्श पुरुष उत्तम कुमार के साथ बांग्ला सिनेमा के स्वर्णयुग में प्रवेश किया। सुचित्रा ने 'देवदास', 'बंबई का बाबू', 'आंधी', 'ममता' और 'मुसाफिर' सरीखी हिंदी फिल्मों में यादगार भूमिकाएं निभाईं।

    सिल्वर प्राइज'

    सिल्वर प्राइज'

    बांग्ला फिल्म 'सात पाके बांधा' में एक महिला की मानसिक पीड़ा की बेजोड़ अभिव्यक्ति के लिए उन्हें 1963 में मॉस्को इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का 'सिल्वर प्राइज' मिला था।

    शादी के बाद फिल्मों में

    शादी के बाद फिल्मों में

    वर्ष 1947 में दिवानाथ सेन संग शादी के पांच वर्षो बाद फिल्मों में कदम रखना था। उन दिनों एक विवाहिता के लिए इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी। हालांकि, कहा गया कि उनका वैवाहिक जीवन चट्टान की तरह मजबूत था।

    पहली फिल्म से मिला नाम

    पहली फिल्म से मिला नाम

    6 अप्रैल, 1931 को हेडमास्टर पिता करुणामय दासगुप्ता और गृहिणी इंदिरा देवी के घर जन्मीं रमा दासगुप्ता को वर्ष 1952 में उसकी पहली फिल्म 'शेष कोथाय' से सुचित्रा नाम मिला। लेकिन यह फिल्म प्रदर्शित नहीं हो पाई। वह अपनी अगली हास्य फिल्म 'शारेय चुआत्तर' में उत्तम संग नजर आईं। यह फिल्म सफल रही।

    'बंग विभूषण'

    'बंग विभूषण'

    उन्हें 'दीप ज्वले जाइ' और 'उत्तर फाल्गुनी' सरीखी बांग्ला फिल्मों में उनके दमदार अभिनय के लिए जाना जाता है। सुचित्रा सेन को वर्ष 2012 में पश्चिम बंगाल सरकार ने अपने सर्वोच्च पुरस्कार 'बंग विभूषण' से सम्मानित किया था।

    English summary
    Bengali screen goddess Suchitra Sen, who had captivated generations of film buffs with her looks and grace, died at a south Kolkata nursing home Friday following a massive cardiac arrest.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X