»   » #Review: मैंने दत्त बायोपिक की झलक देखी, ये फिल्म 100 टका BLOCKBUSTER है

#Review: मैंने दत्त बायोपिक की झलक देखी, ये फिल्म 100 टका BLOCKBUSTER है

By Trisha Gaur
Subscribe to Filmibeat Hindi

सुभाष घई ने हाल ही में संजय दत्त बायोपिक की तारीफों के पुल बांधे थे। उनका कहना था कि फिल्में या तो काम करती हैं या फिर नहीं करती हैं। ऐसी चीज़ें होती रहती हैं। रणबीर कपूर बेहतरीन एक्टर है। हिरानी ने मुझे दोस्त के तौर पर ये टीज़र दिखाया और ये शानदार था।

मुझे लगता है कि ये एक लाजवाब फिल्म होगी और साथ ही ब्लॉकबस्टर होगी। क्योंकि जिस तरह से रणबीर कपूर ने संजय दत्त को घोट के पिया है और जिस तरह राजू ने उसे डायरेक्ट किया है, मैं खुश भी हूं और हैरान भी हूं। मुझे पूरा यकीन है कि संजू एक हिट फिल्म होगी।

subhash-ghai-reviews-ranbir-kapoor-dutt-teaser-after-watching-it

सुभाष घई ने आगे बताया कि राजकुमार हिरानी बेहतरीन आर्टिस्सट है। और उन्हें अपना काम बहुत ही अच्छी तरह से आता है। राजकुमार हिरानी ने हाल ही में एक इवेंट के दौरान दत्त बायोपिक और रणबीर कपूर के बारे में दिल खोलकर बात की। सबसे पहले राजकुमार हिरानी से पूछा गया कि क्या संजय दत्त ने फिल्म पास कर दी है।

subhash-ghai-reviews-ranbir-kapoor-dutt-teaser-after-watching-it

इस पर हिरानी ने बताया कि संजय ने अभी पूरी फिल्म नहीं देखी है। बस कुछ भाग देखे हैं। उन्होंने फिल्म का टीज़र देखा है और उन्हें काफी पसंद आया। अभी भी हम फिल्म पर काम कर रहे हैं। जब फिल्म तैयार हो जाएगी तो सबसे पहले उसे संजय दत्त ही देखेंगे। अभी तो वो सदमे में हैं कि उन पर एक फिल्म भी बन गई। वो अभी इस बात को हज़म कर रहे हैं।

subhash-ghai-reviews-ranbir-kapoor-dutt-teaser-after-watching-it

रणबीर ने फिल्म की डबिंग शुरू कर दी है वहीं फिल्म का ट्रेलर और कुछ हिस्से बॉलीवुड के कुछ दिग्गजों ने देख लिए हैं। जिस किसी ने भी ये ट्रेलर देखा उसने फटाफट 100 करोड़ का ठप्पा मार दिया।

खबर है कि फिल्म का ट्रेलर, सीधा 8 मई को रिलीज़ किया जाएगा। ये तारीख टीम को सुझाई है संजय दत्त ने। 8 मई को संजय दत्त ने रॉकी के साथ अपने करियर की शुरआत की थी

5 साल के लिए जेल गए थे दत्त

5 साल के लिए जेल गए थे दत्त

आतंकी गतिविधियों पर नज़र रखने वाली टाडा कोर्ड ने संजय दत्त को कोर्ट हाज़िरी का समन भेजा और उन्हें आतंकी गतिविधियों में संलिप्तता का केस दर्ज हुआ। 28 नवंबर 2006 को संजय दत्त को गैर कानूनी हथियार रखने का दोषी पाया गया और 5 साल की सज़ा दी गई। वहीं उन पर आतंकवादी गतिविधियों के आरोपों से बरी कर दिया गया।

नहीं मानी गई थी अपील

नहीं मानी गई थी अपील

संजय दत्त को पुणे के यरवदा जेल भेजा गया। फिर अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें बेल पर छोड़ दिया। 2013 में वापस उन्हें सरेंडर करने को कहा गया और 4 हफ्तों का वक्त दिया। संजय दत्त ने वापस अपील की पर इस बार सुप्रीम कोर्ट ने उनकी बात नहीं मानी।

वापस लिए थे बयान

वापस लिए थे बयान

हम आपको पढ़ाना ज़रूर चाहेंगे वो 10 बयान जो संजय दत्त ने अपनी पहली गिरफ्तारी के बाद पुलिस को दिए थे। हालांकि उन्होंने कोर्ट के सामने ये सारे बयान वापस ले लिए थे -

दाउद से मिला था

दाउद से मिला था

संजय दत्त उस वक्त यलगार नाम की फिल्म कर रहे थे जिसकी शूटिंग दुबई में हो रही थी। संजय ने पुलिस को बताया कि दुबई में वो दाउद इब्राहिम की पार्टी में गए जहां वो याकूब, टाईगर, अबू सलेम से मिले।

मारने की धमकी थी

मारने की धमकी थी

संजय ने कहा कि उन्हें राइफल चाहिए थी क्योंकि उनके पिता कांग्रेस एमपी थे और मां मुस्लिम। दंगे में उजड़े मुस्लिमों की मदद की वजह से उन्हें लगातार धमकियां मिल रही थीं कि उनकी बहनों का रेप कर दिया जाएगा और उन्हें मार दिया जाएगा।

दंगा खत्म होने तक चाहिए थी

दंगा खत्म होने तक चाहिए थी

संजय दत्त ने अबू सलेम और उनके साथियों को अपने घर बुलाया और उन्हें तीन राइफल दी गई। संजय ने एक रखने को कहा और बाकी लौटा दी। अबू के साथियों ने उन्हें हैंड ग्रेनेड भी दिखाई और पूछा कि वो भी चाहिए क्या।

रिक्वेस्ट की थी ले जाओ

रिक्वेस्ट की थी ले जाओ

संजय दत्त ने कहा कि उन्हें राइफल केवल दंगा शांत होने तक चाहिए थी और ऐसा होते ही उन्होंने हनीफ को फोन कर राइफल ले जाने को कहा था लेकिन हनीफ नहीं माना।

छिपा दी थी राइफल

छिपा दी थी राइफल

इसके बाद संजय दत्त ने राइफल अपने घर के दूसरे माले पर छिपा दी थी और अपने काम में व्यस्त हो गए। इसके बाद उन्हें आतिश फिल्म की शूटिंग के लिए मॉरीशस जाना था।

पुलिस को बताना चाहा था

पुलिस को बताना चाहा था

उन्होंने इस बारे में पुलिस को बताना चाहा था पर वो डर गए थे कि इससे उनके परिवार का नाम काफी खराब होगा। इसलिए उन्होंने अपने सेक्रेटरी की मदद से राइफल छिपा दी।

शूटिंग में व्यस्त हो गया

शूटिंग में व्यस्त हो गया

12 मार्च के बम धमाकों के बाद शूटिंग में व्यस्त हो गया। इसके बाद दोस्तों से टाईगर नाम के एक आदमी की काफी चर्चा सुनी थी कि बहुत ही तगड़ा बंदा है। उससे पुलिस भी डरती है।

जब तक कुछ कर पाता...

जब तक कुछ कर पाता...

जब 93 के आरोपियों के नाम बाहर आए तो मैं डर गया। मैंने अपने दोस्त को फोन कर वहां से राइफल हटाने को कहा लेकिन तब तक पुलिस ने उसे बरामद कर लिया था।

पिता से बोला झूठ

पिता से बोला झूठ

जब मेरे पिता ने मुझसे इस बारे में पूछा कि तो मैंने झूठ बोला क्योंकि मैं डर गया था। हालांकि वापस आते ही मुझे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। और मैंने सब सच बता दिया था।

NOTE : ये सारे बयान संजय दत्त ने कोर्ट के सामने वापस ले लिए थे!

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary
    Subhash Ghai reviews Ranbir kapoor and Dutt teaser after watching it. Ghai calls it a true entertainer and blockbuster in every sense.

    रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more