»   » Character Review- हमारी अधूरी कहानी का हर किरदार अधूरा!

Character Review- हमारी अधूरी कहानी का हर किरदार अधूरा!

Posted By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

महेश भट्ट की फिल्में की खासियत रही है कि उनकी फिल्मों में दर्द, प्यार, रिश्तों को कुछ इस तरह से परदे पर उतारा जाता है कि आपका दिल उन किरदारों को देखकर खुद भी उन किरदारों में खो सा जाता है। हाल ही में रिलीज हुई हमारी अधूरी कहानी में विद्या बालन, इमरान हाशमी और राजकुमार राव ने कुछ ऐसे किरदारों को उकेरने की कोशिश की है जो बेहद अधूरे हैं।

Hamari Adhuri Kahani character review

इससे पहले महेश भट्ट ने अर्थ, मर्डर 3, जिस्म 2 फिल्मों के लिए भी स्क्रिप्ट लिखी लेकिन हमारी अधूरी कहानी फिल्म में महेश भट्ट की कलम की वो शिद्दत नज़र नहीं आई। किरदार बेहतरीन थे और शायद उनपर अगर थोड़ा और काम किया जाता तो शायद ये अधूरी कहानी अधूरी होकर भी एक पूरी कहानी बन सकती थी। हमारी अधूरी कहानी के डायलॉग्स भी कुछ खास इंपेक्ट नहीं डालते। फिल्म के गाने खूबसूरत हैं।[Review: हमारी अधूरी कहानी- शादी के बाद ..हर रिश्ता नाजायज़ है]

आइये नज़र डालते हैं हमारी अधूरी कहानी के किरदारों पर जो दर्शकों को इँप्रेस कर पाने में नाकाम रहे।

वसुधा

Hamari Adhuri Kahani character review

विद्या बालन ने हमारी अधूरी कहानी में वसुधा का किरदार निभाया है, जो अपने पति से प्यार तो नहीं करती लेकिन अपनी शादी की बेहद इज्जत करती है। उसके लिए उसके रिश्ते सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। जब उसकी मां उसे समझाती है कि वो अपनी जिंदगी यूं बरबाद ना करे और किसी अच्छे इंसान से शादी कर लेकिन वसुधा उन्हें अपने संस्कारों की दुहाई देती ह। हालांकि वही वसुधा फिल्म के दूसरे भाग में अपने इन्हीं संस्कारों को ताक पर रखकर बिना शादी के रुपरेल के साथ बेड शेयर करती है।

रुपरेल

रुपरेल होटल इंडस्ट्री की टॉप पॉजीशन पर है। वो करीब 108 होटलों का मालिक है और वसुधा से मिलकर उसे प्यार हो जाता है। रुपरेल की मां बहुत गरीब होती है और उसके पिता उन्हें छोड़कर जा चुके हैं। रुपरेल बचपन में ही बड़ा आदमी बनने का फैसला करता है और होटल इंडस्ट्री में अपना एक अहम मकाम बनाता है। रुपरेल चाहता है है कि जो उसकी मां के साथ हुआ वो वसुधा के साथ ना हो इसके चलते वो वसुधा के साथ शादी करने का फैसला करता है। समझ नहीं आता कि वो सच में प्यार करता है या सिर्फ उसे वसुधा की मजबूरियों से प्यार हो जाता है।

हरि

हरि वसुधा का पति है। राजकुमार राव ने हरि के किरदार को बेहद खूबी के साथ निभाया है और हर एक सीन में राजकुमार राव बेहतरीन हैं। लेकिन हरि के किरदार में भी इतने कंफ्यूजन हैं कि आप समझ ही नही पाएं कि हरि का किरदार पॉजिटिव है या निगेटिव।

English summary
Hamari Adhuri Kahani is not able to impress the audience. Movie is full of flows and characters are confused. Vidya Balan, Emraan Hashmi and Rajkumar Rao gave the best performance still story was not good enough.
Please Wait while comments are loading...