For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    RSVP ने निर्देशकों को दिया मंच: आदित्य धर, वासन बाला, नीतीश तिवारी और राजकुमार गुप्ता ने कही ये बात

    |

    हाल ही में, हनी त्रेहन ने फ़िल्म रात अकेली है कि साथ अपने निर्देशन की शुरुआत की है और कुछ इसी तरह निर्देशक वासन बाला, आदित्य धर को भी आरएसवीपी द्वारा ही परिचित करवाया गया था। यह साझा करते हुए कि प्रोडक्शन हाउस का विज़न कैसे काम करता है, निर्देशकों ने कुछ इस तरह अपनी भावनाएं व्यक्त की।

    "दीपिका पादुकोण से मेरी बेटी भी ले प्रेरणा" - अंगद बेदी की बेटी को लेकर चाह

    साल 2019 में, आरएसवीपी द्वारा एक दमदार प्रॉजेक्ट 'उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक' पेश किया गया था और इसी के साथ आरएसवीपी ने दुनिया को आदित्य धर से परिचित करवाया था। अपनी सफल परियोजनाओं के पीछे रॉनी के समर्थन के बारे में बात करते हुए, आदित्य धर ने कहा, उन्होंने हमेशा अच्छे निर्देशकों को पेश करने का मार्ग प्रशस्त किया है - चाहे वह दिबाकर बनर्जी हो या विक्रमादित्य मोटवानी, या फिर नीरज पांडे, वासन बाला, राजकुमार गुप्ता आदि हों।

    जैसे ही रॉनी ने उरी की स्क्रिप्ट पढ़ी, वह यह फ़िल्म करने के लिए दृढ़ थे, भले ही बटोर निर्देशक यह मेरा पहला प्रॉजेक्ट था, और विक्की ने इससे पहले सोलो लीड कमर्शियल प्रोजेक्ट नहीं किया था, साथ ही वॉर फिल्मों को व्यावसायिक रूप से व्यवहार्य नहीं माना जाता था। रॉनी समझते है कि फिल्में कहानियों के कारण नहीं, बल्कि खराब गणित के कारण फ्लॉप होती हैं।"

    उन्होंने आगे कहा, "वह एक ट्रेंड सेटर हैं क्योंकि ऐसे समय में जब स्वदेस, रंग दे बसंती, ए वेडनसडे, देव डी, बर्फी, दिल्ली बेली - जैसी फिल्मों को व्यावसायिक रूप से जोखिम भरा माना जाता था, रॉनी को इन फ़िल्मों की कहानियों पर विश्वास था और उन्होंने दिल से इन फिल्मों का समर्थन किया था।"

    "रॉनी में रचनात्मकता और शानदार व्यापार कौशल का अद्भुत भाव है। उनका विश्लेषणात्मक दिमाग जानता है कि क्या काम करता है और क्या नहीं। वह हमेशा से बदलती संस्कृति के प्रति इतने ग्रहणशील रहे हैं कि वह किसी एक किशोरी के साथ जितनी सहजता से रह सकते है उतना ही वह अपने से बड़े किसी व्यक्ति के साथ भी रह सकते है। बिना किसी अहंकार के, उनका सीधा रवैया और हास्य की शानदार भावना उन्हें एक अच्छा सहयोगी बनाता है। ज़िन्दगी के हर कदम पर, उन्होंने मुझे सबसे बड़ी रचनात्मक स्वतंत्रता दी है। भले ही वह देश के सबसे बड़े निर्माता में से एक है, फिर भी वह आधी रात में भी अपनी टीम के लिए उपलब्ध रहते हैं।"

    वासन बाला जिन्होंने अद्वितीय एक्शन-कॉमेडी फ़िल्म 'मर्द को दर्द नहीं होता दी है, उन्होंने व्यक्त किया, "वह एक बेहद व्यावहारिक व्यक्तित्व वाले इंसान है लेकिन पिछले कुछ वर्षों में उन्होंने बेहद जोखिम भरे प्रस्तावों का समर्थन किया है। उनकी फिल्में हमेशा रोमांच और मानव कहानी कहने की भावना से भरपूर होती हैं। मैं अपने बचपन की कुंग फू मूवी का सपना उनके साथ ही बना पाया। यह सोच भी नहीं सकता कि जो मैं करना चाहता था, उसे उनसे बेहतर कोई इतनी करीब से समझ भी सकता था।"

    निर्देशक जिन्होंने आरएसवीपी के साथ अपना डेब्यू किया है:

    • आदित्य धर- उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक

    • वसन बाला- मर्द को दर्द नहीं होता

    • विनोद कापरी - पिहू

    • आकर्ष खुराना- कारवां

    • स्नेहा तौरानी- भांगड़ा पा ले

    • आनंद तिवारी- लव पर स्क्यूएर फुट

    • हनी त्रेहान- रात अकेली है

    निर्देशक नीतीश तिवारी बताते हैं, "रॉनी सर के साथ काम करना हमेशा से खुशी की बात रही है। वह अपने निर्देशक की दृष्टि को समझते हैं और उसे प्राप्त करने में सक्षम बनाने के लिए उसे पूरा समर्थन और स्थान देते हैं। इसके अलावा, वह जिस गर्मजोशी से पेश आते है, यह उनके साथ काम करने को अधिक आसान बना देता है। "

    एक साथ कई परियोजनाओं पर काम करने के वाले राजकुमार गुप्ता कहते हैं, "मैंने रोनी के साथ तीन फ़िल्म आमिर (मेरी पहली फिल्म) नो वन किल्ड जेसिका और घनचक्कर में काम किया है। पहली दो फ़िल्में बहुत अपरंपरागत थीं, ऐसी फ़िल्में थीं जिन्हें किसी अन्य निर्माता से समर्थन नहीं मिलने वाला था। लेकिन उन्होंने दिया। उन्होंने अद्भुत फिल्म निर्माताओं के साथ अन्य फिल्मों का भी समर्थन किया जिसे अन्यथा बनाया भी नहीं जाता।

    यह रॉनी की दृष्टि, स्क्रिप्ट पर उनका विश्वास, फिल्म, फिल्म निर्माता और रचनात्मक प्रक्रिया को दर्शाता है। मुझे एक वाक्य याद है - जब रॉनी ने नो वन किल्ड जेसिका का रफ कट देखा था, तो किसी को भी यकीन नहीं हुआ कि फिल्म कैसी है, लेकिन उन्होंने बाहर आ कर मुझे गले लगाया और कहा- हमारे हाथों में विजेता है! मैं यह कहने की कोशिश कर रहा हूं कि उनके पास दृष्टि है, वह बहादुर है और फिल्म बनाने की रचनात्मक प्रक्रिया के प्रति सम्मान और समझ है। यह कहना गलत नहीं होगा कि वह ऐसी फिल्मों का समर्थन करने वाले एक ट्रेंडसेटर बन गए है, जिन्हें अन्यथा किसी अन्य निर्माता से सहयोग नहीं मिलने वाला था। वह भी दस साल पहले उनके साथ सहयोग करने के दौरान, मैंने बेहद अच्छा वक़्त बिताया है।"

    रॉनी स्क्रूवाला प्रोडक्शन हाउस 'आरएसवीपी' के तहत निर्माण करते हैं और कई ऐसे डायरेक्टर्स के साथ क्लासिक्स पेश की हैं, जो अब एक जाना माना नाम बन गए हैं। हम निर्देशकों और प्रोड्यूसर के बीच अधिक सहयोग की प्रतीक्षा कर रहे हैं, क्योंकि उन्होंने नई प्रतिभाओं को मंच प्रदान करना जारी रखा है जो बेहद महत्वपूर्ण और प्रेरणादायक है!

    English summary
    director aditya dhar, wasan bala, nitish tiwari, rajkumar gupta says on RSVP platform
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X