»   » #JustIn: टल गया एक और महाक्लैश....अक्षय कुमार ने आगे बढ़ा ली फिल्म!

#JustIn: टल गया एक और महाक्लैश....अक्षय कुमार ने आगे बढ़ा ली फिल्म!

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

अक्षय कुमार स्टारर रोबोट सीक्वल पहले इस साल दीवाली पर रिलीज़ होने वाली थी और आमिर खान की सीक्रेट सुपरस्टार और अजय देवगन की गोलमाल 4 के साथ क्लैश हो रही थी। 

इसके बाद, फिल्म को आगे बढ़ा दिया गया और जनवरी 2018 में फिल्म नीरज पांडे की अय्यारी से क्लैश करने लगी। अब एक और बार, अक्षय कुमार की फिल्म की रिलीज़ डेट आगे बढ़ा दी गई है।

akshay-kumar-s-robot-sequel-postponed-from-january-2018

सूत्रों की मानें तो रजनीकांत स्टारर रोबोट सीक्वल, यानि कि 2.0, अब अप्रैल में रिलीज़ हो सकती है। गौरतलब है कि बाहुबली 2 ने साबित कर दिया है कि फिल्म अच्छी हो तो कभी भी चल जाती है। 

वहीं अक्षय कुमार की फिल्म ये बात हमेशा साबित करती है। उनकी फिल्म जब तैयार हो जाती है तब ही रिलीज़ कर दी जाती है। जहां जॉली एलएलबी 2 ने फरवरी रिलीज़ के बाद 100 करोड़ कमा लिए।

वहीं हाउसफुल 3 ने जून रिलीज़ होने के बाद भी 100 करोड़ कमाए थे। अक्षय कुमार की टॉयलेट एक प्रेम कथा इस साल की दूसरी फिल्म है जो 11 अगस्त को रिलीज़ हो रही है।
[अक्षय Vs शाहरूख: अब 52 FRIDAY हैं किसी ना किसी से तो भिड़ूंगा!]

माना जा रहा है कि उनकी फिल्म पैडमैन भी इसी साल रिलीज़ हो सकती है। वैसे अक्षय ने हाल ही में अपनी फिल्म की तुलना बाहुबली 2 से की थी। और अब बाहुबली की ही तरह फिल्म अप्रैल में रिलीज़ हो रही है।

वैसे बाहुबली से अब भी बॉलीवुड को काफी कुछ सीखने की ज़रूरत है।

सीख रहा है बॉलीवुड

सीख रहा है बॉलीवुड

बॉलीवुड ने बाहुबली से कई बातें सीख ली हैं। अक्षय कुमार ने कहा भी कि बाहुबली ने साबित कर दिया है कि अच्छा कंटेंट कुछ भी कर सकता है। हमारे अंदर हॉलीवुड से टक्कर लेने की क्षमता है।

ओरिजिनल फिल्में कम

ओरिजिनल फिल्में कम

बॉलीवु़ड में जो भी कंटेंट सुपरहिट हो जाता है, वो ओरिजिनल कम होता है। थोडा इधर से और थोड़ा उधर से लेकर बनाया गया होता है। ऐसे में कंटेंट अगर ठीक तरह से भारतीय सिनेमा के मायनों पर नहीं खरा उतरा तो लोग देखते हैं पर ब्लॉकबस्टर नहीं हो पाता।

बहुत ज़्यादा मसाला

बहुत ज़्यादा मसाला

हमारे यहां अगर मसाला फिल्मों का प्रचलन है तो कुछ ज़्यादा ही प्रचलन हो जाता है। एक के बाद एक धड़ाधड़ वैसी ही फिल्में बनने लग जाती हैं। वहीं अगर कोई मसाला फिल्म बनती भी है तो फिर उसमें इतना मसाला डाल दिया जाता है कि हज़म ही ना हो!

 उम्र के हिसाब से रोल

उम्र के हिसाब से रोल

दिक्कत ये भी है कि बॉलीवुड के दर्शकों को यकीन दिला दिया गया है कि हीरो तो बस पांच या छह हैं। तीन खान, एक अक्षय , एक अजय और बचे कुचे ऋतिक। यानि कि 40 - 50 साल के हीरो ही रोमांस भी करेंगे चाहे दुनिया इधर की उधर हो जाए। वो भी 20 साल की लड़कियों से।

 नाचने गाने वाली हीरोइनें

नाचने गाने वाली हीरोइनें

कभी ध्यान दिया है। हर फिल्म में हीरो तय हो जाता है, शूटिंग शुरू हो जाती है औऱ फिर देर सबेर एक हीरोइन आ जाती है। क्योंकि हीरोइन कौन है, इससे कम ही फिल्मों को ज़्यादा फर्क पड़़ता है। और हीरोइनों का रोल नाचने गाने तक ही सीमित रह जाता है।

कुछ ज़्यादा की गई मार्केटिंग

कुछ ज़्यादा की गई मार्केटिंग

बॉलीवुड में ध्यान फिल्मों पर थोड़ा कम और मार्केंटिंग में काफी ज़्यादा रहता है। फिल्म बनाने से पहले ही उसके बॉक्स ऑफिस पर बात होने लगती है। ये सारी चीज़ें फिल्म की लाइफ तय करती हैं। यही कारण है कि हमारे यहां बमुश्किल फिल्में 10 से 12 दिन ही चल पाती हैं।

प्लान किया गया सीक्वल

प्लान किया गया सीक्वल

हमारे यहां फिल्म की बॉक्स ऑफिस सक्सेस के बाद उसका सीक्वल प्लान होता है जो कि सही तरीका तो बिल्कुल नहीं है। बाहुबली आने पर ही सबको पता था कि फिल्म दो पार्ट में है। वहीं यहां अगर फिल्म चल गई तो सीक्वल बनता है और फिर सीक्वल सीक्वल जैसा कुछ नहीं रहता है।

 समय लेकर बनाई गई फिल्म

समय लेकर बनाई गई फिल्म

हमारे यहां फिल्में समय लेकर और अच्छे प्लान कर बनाने वाले डायरेक्टर बहुत ही कम हैं। बॉलीवुड में फिल्म साइन होती है और फिर फटाफट बना दी जाती है। हालांकि रिसर्च और कहानी में भी समय लगाया जाता है लेकिन पांच साल शायद ही किसी फिल्म को बनाया जाता है।

 आज तक कोई लीक नहीं

आज तक कोई लीक नहीं

बाहुबली 5 सालों से बन रही है लेकिन आज तक फिल्म का कोई भी सीन या तस्वीर लीक नहीं हुई है। और इसका कारण है कि इस इंडस्ट्री में लोग अपने काम के प्रति ज़िम्मेदार भी हैं, ईमानदार भी और समझदार भी।

स्टारकास्ट की लिमिट में थी फीस

स्टारकास्ट की लिमिट में थी फीस

हमारे यहां की तरह साउथ में स्टार्स की फीस आसमान नहीं छूती। एक लिमिट में रहकर ही फीस तय की जाती है जिससे ज़्यादातर फायदा फिल्म को ही मिलता है। वैसे सिवागामी के लिए रम्या ने 2.5 करोड़ की फीस ली जबकि श्रीदेवी ने 6 करोड़ की डिमांड की थी।

 स्टारडम नहीं फिल्म

स्टारडम नहीं फिल्म

बाहुबली ने ये भी साबित कर दिया कि स्टारडम नहीं, फिल्में चलनी चाहिए। हमारे यहां फिल्में स्टारडम के नाम से चलती हैं। जिस दिन ये बंद हो जाएगा उस दिन शायद बॉलीवुड के पास भी एक बाहुबली होगी।

English summary
Akshay Kumar's robot sequel postponed from January 2018.
Please Wait while comments are loading...

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi