For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    चैनल वालों ने रविशंकर की जगह श्री श्री को मार दिया

    |

    बुधवार को एक खबर ने भारत समेत दुनिया में शोक की लहर दौड़ा दी। खबऱ थी सितार सम्राट श्री रविशंकर का निधन। जिन्होंने 92 साल की अवस्था में न्यूयार्क में सांस की बीमारी के कारण दुनिया को अलविदा कहा। उनके निधन की खबर अमेरिका में भी चैनलों में हेडलाइन बनीं। लेकिन वहां के कुछ मीडिया कर्मियों ने रविशंकर की जगह श्री श्री रविशंकर की फोटो लगा दी।

    आर्ट ऑफ लिविंग के गुरू श्री श्री रविशंकर ने जब खुद अपनी फोटो के नीचे अपनी मृत्यु की खबर देखी तो हैरान रह गये उन्होंने तुरंत ट्विटर पर ट्विट किया कि कुछ चैनलों ने तो मुझे ही मार दिया लेकिन मैं आपको बता दूं कि मैं जिंदा हूं।

    श्री श्री रविशंकर के ट्विट पर हंगामा मच गया, चैनलों में हड़कंप मच गया उन्होंने तुरंत खबर पर से श्री श्री रविशंकर की फोटो हटा दी। हालांकि तब तक काफी देर हो चुकी थी और चैनलों का अच्छा-खासा तमाशा बन चुका था। यह बात यह कहने के लिए काफी है कि कुछ मीडिया संस्थान आगे बढ़ने की होड़ में खबर के सत्यापन की जांच को भी सही नहीं समझते हैं।

    गौरतलब है कि पंडित रवि शंकर का जन्म 7 अप्रैल 1920 को बनारस में हुआ था। उन्होंने भारतीय शास्त्रीय संगीत की शिक्षा उस्ताद अल्लाऊद्दीन खाँ से प्राप्त की।अपने सितार की तान से भारत का नाम पूरी दुनिया में रौशन करने वाले पंडित रविशंकर को साल 1999 में भारत रत्न से सम्मनित किया गया था। पंडित रवि शंकर को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन 1967 में पद्म भूषण भी दिया गया था।
    English summary
    I am Alive not Dead, Pandit Ravi Shankar passes away said Sri Sri Ravishankar on Twitter.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X