For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    तांडव Exclusive Interview: "यदि एक्टर्स सिक्योर हों, तो कोई भी रोल छोटा या बड़ा नहीं होता"- अनूप सोनी

    |

    अभिनेता अनूप सोनी ने वैसे तो ढेरे सारी फिल्मों और टेलीविजन शो के लिए काम किया है।लेकिन 'बालिका वधु' और 'सावधान इंडिया' जैसे शो के लिए तो उन्हें हमेशा ही फैंस का प्यार मिलता रहा है। खैर अब जल्द ही अनूप सोनी नए अवतार से दर्शकों को एंटरटेन करने वाले हैं। जी हां, मौजूदा समय की सबसे चर्चित वेब सीरीज 'तांडव' में अनूप सोनी अहम किरदार में दिखेंगे। इसी सीरीज के चलते उन्होंने फिल्मीबीट हिंदी के साथ 'तांडव' को लेकर खास बातचीत की। साथ ही कुछ अनसुने किस्से सुनाए और निर्देशक अली अब्बास के साथ काम करने का अनुभव भी साझा किया।

    'तांडव' वेब सीरीज में अनुप सोनी के अलावा सैफ अली खान, डिंपल कपाड़िया, सुनील ग्रोवर, तिग्मांशु धूलिया, डिनो मोरिया, कुमुद मिश्रा, गौहर खान जैसे दमदार स्टारकास्ट है। जिसे 'टाइगर जिंदा है' और 'सुल्तान' जैसी फिल्में बनाने वाले निर्देशक अली अब्बास ने डायरेक्ट किया है।

    'तांडव' में अनूप सोनी कैलाश कुमार का रोल निभा रहे हैं। ऐसा किरदार जो मध्य प्रदेश का एक पढ़ा-लिखा राजनीतिज्ञ है। वह सीरीज में गोपाल दास (कुमुद मिश्रा) के करीबी सहयोगी के तौर पर नजर आएंगे। अनूप सोनी का किरदार इस राजनीतिक बेस्ड सीरीज को और भी खतरनाक बनाता है।

    आपका किरदार 'तांडव' में इस सीरीज के लिए कितना महत्व रखता है?

    आपका किरदार 'तांडव' में इस सीरीज के लिए कितना महत्व रखता है?

    हर फिल्म या शो में हर किरदार का खास महत्व होता है। कहानी में लिखे गए हर रोल को ध्यान में रखकर ही गढ़ा जाता है। हर किरदार का अपना अपना एलिमेंट है। इसीलिए वह उस वेब सीरीज व फिल्म में होता है। ये एक नेशनल पॉलटिक्ल ड्रामा है। इसमें हर किरदार वेब सीरीज को आगे बढ़ाने और शानदार बनाने का काम करता है।

    इस सीरिज या किरदार की किस बात ने आपको सबसे ज्यादा अट्रैक्ट किया?

    इस सीरिज या किरदार की किस बात ने आपको सबसे ज्यादा अट्रैक्ट किया?

    बतौर अभिनेता मुझे ये लगता है कि, एक अच्छी स्क्रिप्ट और एक अच्छा डायरेक्ट किसी भी प्रोजेक्ट को खास बनाता है। एक स्क्रिप्ट आपको बता देती है कि आपको क्या करना है और निर्देशक आपको किरदार के बारे में विजन देता है। एक राइटर और निर्देशक मिलकर एक्टर को बहुत सारी जानकारी देते हैं। एक्टर की पहली कोशिश होती है कि वह निर्देशक और राइटर के बनाए गए किरदार को निखारे। इसके बाद एक्टर अपना योगदान उस किरदार को और भी मजबूत बनाने में अपना प्रभाव डालता है। जैसे मुझे ये लगा कि 'कैलाश' जो कि एक शांत शख्स है। तो ऐसे स्ट्रॉन्ग किरदार को शांति से निभाना ही सबसे सटीक रहेगा। क्योंकि कुछ चीजे शांति के साथ ज्यादा प्रभावशाली होती है।

    आपकी जर्नी 'तांडव' के साथ कैसे शुरू हुई, मतलब आपको ये रोल कैसे मिला?

    आपकी जर्नी 'तांडव' के साथ कैसे शुरू हुई, मतलब आपको ये रोल कैसे मिला?

    प्रोड्यूसर हिमांशु मेहरा को मैं जानता था। मैंने एक बार उनसे पूछा था कि आप अब क्या बनाने वाले हैं, क्योंकि मुझे हिमांशु मेहता का काम बहुत पसंद आता है। मैंने खुद प्रोड्यूसर से अपने लायक रोल मांगा था। जब उन्होंने इस पर सीरीज पर काम शुरू किया तो अचानक उन्होंने मुझे बताया कि उनके पास एक रोल है जिसमें मैं फिट हो सकता हूं। इसके बाद मेरा विश्वास था कि अगर उन्होंने मेरे लिए कुछ सोचा है तो जरूर अच्छा ही सोचा होगा। बस ऐसे ही मुझे ये रोल मिला और मैंने इसे निभाया।

    अली अब्बास जफर संग काम करने का आपका कैसा अनुभव रहा?

    अली अब्बास जफर संग काम करने का आपका कैसा अनुभव रहा?

    मैं उनकी तारीफ करूंगा तो ऐसा लगेगा कि हर एक्टर अपने डायरेक्टर की तारीफ करता है। लेकिन मैं उनकी तारीफ सिर्फ एक लाइन में ये करूंगा कि 'तांडव' एक बड़ा प्रोजेक्ट है। अमेजन भी चाहता था कि एक बड़ा डायरेक्टर इस प्रोजेक्ट को पूरा करे। अली अब्बास जफर ने इस शो को बहुत ही सरलता के साथ हैंडल किया। 'तांडव' एक बड़ी स्टारकास्ट की सीरीज है। लेकिन उन्होंने बहुत ही स्मोथली हैंडल किया। कभी सेट पर शोर नहीं हुआ और न ही कभी हलचल पैदा हुई। इसका श्रेय अली अब्बास जफर और हिमांशु मेहरा दोनों को ही जाता है। दोनों के बीच बहुत संतुलन था। हमेशा शूटिंग समय से पहले हो जाती है। मैं अली अब्बास जफर की तारीफ इसीलिए नहीं कर रहा कि वह काम समय से निपटा देते हैं। लेकिन अहम ये है कि वह अपने काम को बहुत ही सफाई और संतुलन के साथ पूरा करते हैं।

    'तांडव' में एक से बढ़कर कलाकार हैं.. बतौर अभिनेता मल्टी स्टारर सीरिज या फिल्म करना कितना आसान या मुश्किल रहता है?

    'तांडव' में एक से बढ़कर कलाकार हैं.. बतौर अभिनेता मल्टी स्टारर सीरिज या फिल्म करना कितना आसान या मुश्किल रहता है?

    मुझे लगता है, अगर एक एक्टर अपने काम को लेकर जुझारू है तो कुछ कठिन नहीं है। मैं एक्टर हूं मुझे एक्टिंग करने में बहुत मजा आता है। जब आप एक अच्छे एक्टर की टीम के साथ काम करते हैं तो मुझे लगता है कि आपको बहुत कुछ सीखने को मिलता है। यहां ढेर सारे कलाकार रहे, जब हम सीन करते थे तो ये होता था कि सीन बहुत अच्छे होते थे।

     'तांडव' की कौन सी यादें हैं जो आपको हमेशा याद रहेंगी?

    'तांडव' की कौन सी यादें हैं जो आपको हमेशा याद रहेंगी?

    मैं सच बताऊं तो मल्टी स्टार कास्ट में लोगों को लगता है कि ईगो प्रॉब्लम और झगड़े होते होंगे। ऐसी दिक्कतें तब होती है जब लोग सिक्योर नहीं होते। लेकिन इस प्रोजेक्ट में सभी स्टार्स अपने अपने काम को लेकर सिक्योर थे। रोल कोई भी छोटा या बड़ा नहीं होता। जब आपने किसी रोल के लिए हां कर दी तो आप ये नहीं सोच सकते कि रोल बड़ा है या छोटा है। ज्यादातर एक्टर इस सीरीज में अपने काम से संतुष्ट थे। सभी एक्टर्स ने बहुत ही आसानी से इस प्रोजेक्ट को पूरा कर लिया।

    आप पर्सनली किस राजनीतिक विचारधारा को सपोर्ट करते हैं?

    आप पर्सनली किस राजनीतिक विचारधारा को सपोर्ट करते हैं?

    नहीं, मैं किसी राजनीतिक विचारधारा को सपोर्ट नहीं करता। मैं बहुत ही सामान्य व्यक्ति हूं। हमारे देश में सबकुछ अच्छा हो। मैं चाहता हूं कि सरकार ऐसी होनी चाहिए जो हेल्थ, एजुकेशन पर ध्यान दें। कोई भी सरकार चलाए लेकिन मैं चाहता हूं सरकार अपना काम ईमानदारी से करें व शिक्षा व स्थाथ्य जैसे सेक्टर पर अधिक ध्यान दें।

    Interview: मुन्ना त्रिपाठी मिर्जापुर 3 में नहीं आएंगे नजर, निराश फैंस के लिए दिव्येंदु ने कही ये बात

    English summary
    Tandav Anup Soni Exclusive Interview on working with ali abbas zafar and multistar team
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X