»   » INTERVIEW: मुझे 100 करोड़.. 200 करोड़ की कोई चिंता नहीं है- सनी देओल

INTERVIEW: मुझे 100 करोड़.. 200 करोड़ की कोई चिंता नहीं है- सनी देओल

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

2016 में फिल्म 'घायल वन्स अगेन' के साथ सनी देओल ने बॉलीवुड में नई पारी की शुरूआत की। कहीं ना कहीं इस फिल्म को मिली प्रतिक्रिया को देखकर सनी काफी उत्साहित थे। लिहाजा, अब वे दर्शकों के सामने अपनी दूसरी फिल्म के साथ आ रहे हैं.. जिसका नाम है- पोस्टर ब्वॉयज।

Poster Boys Movie Review: Sunny Deol - Bobby Deol SHINES in CRAZY Comedy | FilmiBeat

पोस्टर ब्वॉयज को लेकर सनी देओल काफी उत्साहित हैं। फिल्म में उनके साथ बॉबी देओल और श्रेयास तलपड़े भी हैं। हाल ही में फिल्मीबीट ने सनी देओल से खास बातचीत की, जहां उन्होंने अपनी आने वाली फिल्म पर खुलकर बातें कीं। साथ ही सेंसर बोर्ड में हुए बदलाव और बॉक्स ऑफिस पर भी अपना पक्ष रखा।

सनी देओल को फिल्म इंडस्ट्री में 34 साल पूरे हो चुके हैं। इंटरव्यू के दौरान सुपरस्टार ने खुलकर अपना अनुभव शेयर किया.. जो आपको काफी दिलचस्प लगेगा।

यहां पढ़ें इंटरव्यू से कुछ प्रमुख अंश-

क्या आपने पोस्टर ब्वॉयज ओरिजनल फिल्म देखी है?

क्या आपने पोस्टर ब्वॉयज ओरिजनल फिल्म देखी है?

नहीं.. जब मुझे स्क्रिप्ट सुनाया गया तो मुझे काफी पसंद आया था। उसके बाद मैंने जानबूझकर फिल्म नहीं देखी.. क्योंकि कहीं ना कहीं फिर वही आपके दिमाग में बैठ जाता है। और आप भी उसी अंदाज में किरदार निभाने की कोशिश करने लगते हैं।

ओरिजनल फिल्म हिट रही है.. तो उसका प्रेशर रहा?

ओरिजनल फिल्म हिट रही है.. तो उसका प्रेशर रहा?

मैं कभी दवाब में आकर काम कर ही नहीं सकता। मैं दूसरों को भी यही सलाह देता हूं तो फिल्म कभी दवाब में आकर नहीं करो, वर्ना कहीं ना कहीं पीछे रह जाओगे। आप सिर्फ अपना बेस्ट दो.. सब अच्छा होगा।

स्टारकास्ट कैसे फाइनल किया गया?

स्टारकास्ट कैसे फाइनल किया गया?

मैं और बॉबी काफी समय से एक साथ फिल्म करने की सोच रहे थे। घायल के बाद मैं अगली फिल्म की सोच रहा था.. कि कोई अच्छी कहानी मिले। ऐसे में श्रेयास ने मुझे इस फिल्म के बारे में बताया कि पोस्टर ब्वॉयज करके एक मराठी फिल्म है। फिर मैंने उससे फिल्म का पूरा आइडिया लिया। जो कि मुझे बेहद पसंद आया और मैंने फाइनल कर दिया। बतौर एक्टर आप ऐसी ही करना चाहेंगे। लोग इमेज की बात करते हैं.. लेकिन मुझे कोई चिंता नहीं है।

फिल्म कॉमेडी है या विषय प्रधान है?

फिल्म कॉमेडी है या विषय प्रधान है?

आजकल सब यह काफी पूछने लगे हैं कि फिल्म का कंटेंट क्या है.. विषय प्रधान है या गंभीर है या कॉमेडी। यह सवाल पहले नहीं पूछा जाता था.. जब फिल्में लग जाती थीं, हिट हो जाती थीं। आज हमने अलग अलग परिभाषा बना ली है। कभी कहते हैं कि यह विषय प्रधान है.. कभी कहते हैं इस फिल्म के लिए भेजा छोड़ कर आओ।

बहरहाल, पोस्टर ब्वॉयज विषय प्रधान तो है.. लेकिन गंभीर फिल्म नहीं है। इसमें गंभीर किरदार नहीं है। फिल्म में हालात ऐसे बनते हैं, जिसे देखकर लोगों को हंसी आ सकती है।

यह किरदार निभाने में कोई मुश्किल आई?

यह किरदार निभाने में कोई मुश्किल आई?

जब आप किसी किरदार को निभा रहे होते हैं.. तो वहां आप नहीं होते हैं, वो किरदार होता है। इसीलिए मुझे कभी कोई झिझक नहीं होती। फिल्म में तो मैंने डांस भी किया है, जिससे मैं काफी घबराता हूं।

इस फिल्म में एंग्री मैन इमेज को बदलना चाहते हैं?

इस फिल्म में एंग्री मैन इमेज को बदलना चाहते हैं?

मैं तो काफी कुछ बदलना चाहता हूं.. (हंसते हुए)। लेकिन नहीं.. इस फिल्म से मैं वैसी कोई कोशिश कर रहा। बस फिल्म की अपनी खासियत होती है। उदाहरण के तौर पर गदर को ले लें.. उस फिल्म को उसकी फाइट सीन्स, डॉयलोग्स, मार धाड़ के लिए जाना जाता है.. लेकिन मेरे लिए वह सिर्फ एक लव स्टोरी थी। लेकिन दर्शक आपको एक अवतार में पसंद करते हैं तो वह उनके दिमाग पर हावी रहता है।

फिल्म मार्केटिंग पर क्या कहना है?

फिल्म मार्केटिंग पर क्या कहना है?

पुराने दिनों में मार्केटिंग जैसी कोई चीज नहीं होती थी। उस वक्त सिर्फ प्रेस कांफ्रेंस होते थे.. ना फोन था, ना सोशल मीडिया। बस बैनर्स लगते थे.. लोगों को पता होता था कि कौन सी फिल्म आ रही है.. और लोग जाते थे। लेकिन टेक्नोलॉजी के साथ चीजें बदलती गईं। आज हमें कई चीजें करनी पड़ती हैं, जो मैं बिल्कुल नहीं करना चाहता। मुझे यह सब समय, एनर्जी, पैसे की बर्बादी लगती है। लेकिन अब यह जरूरत बन गई है।

किस तरह के किरदारों के खोज में हैं?

किस तरह के किरदारों के खोज में हैं?

मेरे साथ यह नहीं है कि मुझे एक्शन करना है, या कॉमेडी फिल्म करनी है। मैं सिर्फ कुछ अलग, कुछ फ्रेश करना चाहता हूं। हम काफी फिल्में कर चुके हैं.. इसीलिए दर्शकों से कुछ छिपा नहीं है। लिहाजा, कुछ नई कहानी हो तो जरूर करना चाहूंगा।

बॉक्स ऑफिस पर क्या विचार रखते हैं?

बॉक्स ऑफिस पर क्या विचार रखते हैं?

बॉक्स ऑफिस किसी भी फिल्म के लिए जरूरी है। मैं मानता हूं कि यदि आप अच्छी कहानी के साथ आ रहे हैं.. आपके किरदार सच्चे हैं तो ऑडियंस को फिल्म जरूर पसंद आएगी। मेरे हिसाब से कभी भी फिल्म के निर्माताओं का नुकसान नहीं होना चाहिए। बाकी 100 करोड़, 200 करोड़ की कोई चिंता नहीं है।

आने वाली फिल्मों पर कुछ बताएं?

आने वाली फिल्मों पर कुछ बताएं?

फिलहाल तो मैं पूरा ध्यान अपने बेटे की फिल्म पर दे रहा हूं। फिर मेरी एक, दो फंसी हुई हैं, उसे लाने की कोशिश है। मुझे समझ नहीं आता है मेरी फिल्में कैसे अटक जाती हैं। मैं सोचता हूं कि साल में तीन फिल्में लाऊं, लेकिन सेंसर में अटक जाती हैं।

फिल्म इंडस्ट्री में 34 सालों का सफर कैसा रहा?

फिल्म इंडस्ट्री में 34 सालों का सफर कैसा रहा?

बहुत अच्छी.. मेरे लिए यह सफर शानदार रहा है। मुझे कोई शिकायत नहीं है.. क्योंकि किसी सफर में आप यह अपेक्षा नहीं रख सकते कि सिर्फ अच्छा ही अच्छा हो। थोड़ा ऊपर- नीचे तो होता है। लेकिन मुझे बहुत सीखने को मिला। यहां बस आपको थोड़ा धैर्य के साथ काम करना है.. सकारात्मक रहना है।

सेंसर बोर्ड चीफ अब बदल चुके हैं.. तो क्या कुछ राहत है अब?

सेंसर बोर्ड चीफ अब बदल चुके हैं.. तो क्या कुछ राहत है अब?

(हंसते हुए).. बतौर प्रोड्यूसर सेंसर के साथ तो यह लड़ाई चलती रहेगी। मैं यही मानता हूं कि सेंसर बोर्ड आपकी फिल्म को रिलीज होने से नहीं रोक सकती.. वह सिर्फ सर्टिफिकेट देने के लिए होती है। पोस्टर ब्वॉयज की बात करें तो यह पूरी तरह से फैमिली फिल्म है।

पोस्टर ब्वॉयज के बॉक्स ऑफिस को लेकर क्या उम्मीदें हैं?

पोस्टर ब्वॉयज के बॉक्स ऑफिस को लेकर क्या उम्मीदें हैं?

बॉक्स ऑफिस को लेकर मैं कभी ज्यादा नहीं सोचता। मैं भले ही बॉक्स ऑफिस पर राज़ नहीं कर रहा हूं.. लेकिन मुझे दर्शकों का प्यार हमेशा मिलता रहा है। मुझे और देओल परिवार को लोग बहुत प्यार करते हैं.. हमें और कुछ भी नहीं चाहिए।

क्या दर्शकों के बदलते अंदाज को देखकर आपको लगता है बॉलीवुड 'स्टारडम' अब खतरे में है?

क्या दर्शकों के बदलते अंदाज को देखकर आपको लगता है बॉलीवुड 'स्टारडम' अब खतरे में है?

स्टारडम एक फिल्म से आ जाती है.. और दूसरी फिल्म से चली भी जाती है। इसीलिए इस पर ज्यादा ध्यान देना ही वाजिब नहीं है। जहां तक सुपरस्टार्स की बात है.. तो आज तो खुद ही एक्टर्स अपने नाम के आगे किंग.. नंबर 1, नंबर 2, सुपरस्टार लगा लेते हैं.. मुझे नहीं पता इससे क्या होता है। मैं बतौर एक्टर ही यहां आया था.. और बतौर एक्टर ही काम करते रहना चाहूंगा।

आप अवार्ड फंक्शन में भी दिखते.. क्या कारण है?

आप अवार्ड फंक्शन में भी दिखते.. क्या कारण है?

ऐसा नहीं है कि मैं अवार्ड फंक्शन नहीं पसंद करता हूं या ऐसा कुछ। मुझे वह एक प्लैटफॉर्म लगता है कि जहां पूरा बॉलीवुड एक साथ एक छत के नीचे आ सकता है। लेकिन फिर उसे अवार्ड नाइट नहीं जाना चाहिए। आप कहिए कि आ जाइए.. हम आपको भी कुछ दे देंगे।

आने वाले एक्टर्स को कोई सलाह?

आने वाले एक्टर्स को कोई सलाह?

प्लीज 6 पैक, डासिंग और दूसरी चीजों पर से ध्यान हटाएं.. और उस चीज पर ध्यान लगाएं, जिसके लिए आप इस इंडस्ट्री में हैं। एक्टिंग पर ध्यान दें.. बाकी सारी बातें इसके बाद ही आती हैं।

English summary
In an exclusive interview Sunny Deol shares views on his upcoming film Poster Boys. And also talks about his bollywood journey.
Please Wait while comments are loading...