For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    INTERVIEW: रोहित शेट्टी और राजकुमार हिरानी की फिल्मों में मैं फिट बैठ सकता हूं- सिद्धार्थ मल्होत्रा

    |

    'मरजावां' जैसी एक्शन मसाला फिल्म के साथ सिद्धार्थ मल्होत्रा एक बार फिर दर्शकों के सामने आने वाले हैं। मिलाप मिलन झावेरी के निर्देशन में बनी यह फिल्म 15 नवंबर 2019 को रिलीज होने वाली है। ऐसे में फिल्मीबीट ने अभिनेता से मुलाकात की, जहां उन्होंने अपनी फिल्में, किरदार, बॉक्स ऑफिस की जिम्मेदारी से लेकर अपनी सफलता- असफलता का अनुभव साझा किया।

    अपने बॉलीवुड सफर पर बात करते हुए सिद्धार्थ ने कहा- मेरा मानना है कि हिंदी सिनेमा में काम करने का भी कोई फॉरम्यूला नहीं है। इंडस्ट्री से बाहर का होकर भी मुझे यहां बहुत मौके मिले हैं, मैं शुक्रगुज़ार हूं। लेकिन मैं रोहित शेट्टी, राजकुमार हिरानी जैसे निर्देशक के साथ काम करना चाहता हूं। उनका जो सिनेमा है, मुझे लगता है उसमें मेरे जैसे एक्टर की जगह बन सकती है। मुझे उम्मीद है कि यदि उनकी स्क्रिप्ट में कोई ऐसा रोल होगा, जहां मैं फिट हो सकता हूं तो मुझे जरूर अप्रोच करेंगे।

    यहां पढ़ें इंटरव्यू से कुछ प्रमुख अंश-

    'मरजावां' से आपका जुड़ना कैसे हुआ?

    'मरजावां' से आपका जुड़ना कैसे हुआ?

    मैं मिलाप झावेरी के साथ पहले 'एक विलेन' फिल्म में काम कर चुका हूं। तो उनकी इस कहानी को जब मैंने सुना लगभग डेढ़ साल पहले, तो मुझे यह लव स्टोरी बहुत पसंद आई। फिल्म की कहानी मुझे काफी दिलचस्प लगी। साथ ही फिल्म को लेकर मिलाप की जो सोच है वो मुझे पसंद आई, 80s की फिल्मों की तरह डायलॉगबाजी, एक्शन, प्यार.. इस तरह की सिनेमा अब कम देखने को मिलती है। तो हमारी कोशिश है कि हम एक पॉवरफुल लव स्टोरी लेकर आएं, जिसमें 80s के दौर की झलक हो। यह पूरी तरह से मसाला इंटरटेनमेंट है।

    आज के दर्शक 80s के जमाने का अंदाज़ पसंद करेंगे ?

    आज के दर्शक 80s के जमाने का अंदाज़ पसंद करेंगे ?

    आज भी आप देखेंगे तो टेलीविजन पर उन्हीं फिल्मों को ज्यादा पसंद किया जाता है, जो 80 या 90 के दशक की हो.. या फिर दक्षिण की फिल्में हो। उसमें भरपूर मनोरंजन परोसा जाता था। आज भी कुछ दर्शक वैसी फिल्मों को पसंद करते हैं। लेकिन अब वैसी फिल्में कम बनती हैं। हमने कोशिश की है कि हम दर्शक को एक अलग दुनिया में लेकर जाएं। उम्मीद है लोग पसंद भी करेंगे।

    मरजावां में काम करने का आपका अनुभव कैसा रहा? आप हमेशा से 'मसाला फिल्मों' के फैन रहे हैं?

    मरजावां में काम करने का आपका अनुभव कैसा रहा? आप हमेशा से 'मसाला फिल्मों' के फैन रहे हैं?

    मैंने 80s- 90s की फिल्में कैसेट पर देखी हैं। अमिताभ बच्चन की फिल्म 'हम' मैंने पता नहीं कितनी ही बार देखी है। मैं उस वक्त की फिल्मों को बहुत एन्जॉय करता हूं। अब जबकि मुझे उस स्टाइल का सिनेमा करने का मौका मिला है तो मैं बहुत उत्साहित हूं। मुझे पता है कि इन फिल्मों के दर्शक हैं क्योंकि यह हिंदी सिनेमा का कल्चर रहा है।

    मरजावां की तुलना 'एक विलेन' से भी की जा रही है। आप क्या मानते हैं?

    मरजावां की तुलना 'एक विलेन' से भी की जा रही है। आप क्या मानते हैं?

    एक विलेन से समानता सिर्फ इसीलिए देखी जा रही है क्योंकि यहां भी मैं हूं और रितेश है। कास्ट में फिल्म एक जैसी है, लेकिन सुर काफी अलग। इस फिल्म की अलग सोच है, अलग ट्रीटमेंट है। ऐसा सिनेमा काफी समय से नहीं बना है। इस बार मुझे आधे रितेश मिले हैं, लेकिन उतने ही पॉवरफुल हैं। मुझे लगता है कि रितेश को भी काफी बड़ा मौका मिला है। कुल मिलाकर हमने एक दुनिया बनाई है, यदि दर्शक उस दुनिया में शामिल हो जाएंगे.. तो हमारी जीत है।

    आपके करियर में शुरुआती कुछ फिल्में लगातार हिट रही थीं, वहीं बाद की कुछ फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर कमाल नहीं दिखाया। सफलता या असफलता को किस तरह देखते हैं?

    आपके करियर में शुरुआती कुछ फिल्में लगातार हिट रही थीं, वहीं बाद की कुछ फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर कमाल नहीं दिखाया। सफलता या असफलता को किस तरह देखते हैं?

    मैं भी कभी कभी खुद से ये सवाल पूछता हूं.. कि फिल्म क्यों नहीं चली? लेकिन मुझे लगता है कि हर फिल्म के साथ एक अभिनेता कुछ सीखता है। हिंदी सिनेमा में काम करने का भी कोई फॉरम्यूला नहीं है। इंडस्ट्री से बाहर का होकर भी मुझे यहां बहुत मौके मिले हैं, मैं शुक्रगुज़ार हूं। लेकिन किसी फिल्म के चलने या ना चलने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। मैं सिर्फ इतना जानता हूं कि हर फिल्म में मैं अपना 100 प्रतिशत दे रहा हूं। बाकी ईश्वर शायद मुझे कुछ अच्छे के लिए तैयार कर रहा है। मैं पीछे मुड़कर नहीं देखना चाहता। मैं हमेशा कुछ अलग करना चाहता हूं और पिछली फिल्मों की असफलता के डर को आगे लेकर नहीं जाना चाहता।

    कई अभिनेता खुद बाहर निकलकर निर्माता- निर्देशकों को अप्रोच करते हैं, आप भी इस तरह की पहल करते हैं?

    कई अभिनेता खुद बाहर निकलकर निर्माता- निर्देशकों को अप्रोच करते हैं, आप भी इस तरह की पहल करते हैं?

    नहीं, मैंने खुद तो आज तक कभी जाकर अप्रोच नहीं किया है। मुझे लगता है कि मैंने जितना काम किया है, उसके बाद यदि किसी निर्माता- निर्देशक को लगेगा कि इस रोल में मैं फिट बैठूंगा, तो वो मुझे बिल्कुल फोन करेंगे। रोहित शेट्टी, राजकुमार हिरानी जैसे निर्देशक के साथ मैं काम करना चाहता हूं। उनका जो सिनेमा है, मुझे लगता है उसमें मेरे जैसे एक्टर की जगह बन सकती है। लेकिन मेरे अप्रोच करने से मुझे नहीं लगता है कि वो मुझे काम देंगे, जब तक उनके पास कोई वैसा रोल ना हो। मेरे टार्गेट पर आडियंस हैं, डाइरेक्टर्स नहीं।

    आपकी को-स्टार तारा सुतारिया के साथ आपकी लिंक अप की खबरें काफी सुर्खियों में है। इस पर क्या कहना चाहेंगे?

    आपकी को-स्टार तारा सुतारिया के साथ आपकी लिंक अप की खबरें काफी सुर्खियों में है। इस पर क्या कहना चाहेंगे?

    लिंकअप का तो अब मैं क्या बोलूं। सिवाए अक्षय कुमार सर के, मुझे तो हर को-स्टार के साथ लिंक अप कर दिया गया है। शायद मैं रोमांस इतनी शिद्दत के साथ करता हूं कि सभी उसे सच मान लेते हैं। लेकिन ऐसा है नहीं।

    फिल्मों में हिंसा किस तरह से देखते हैं?

    फिल्मों में हिंसा किस तरह से देखते हैं?

    हिंसा तो नहीं, लेकिन हमारी फिल्म में एक्शन है। वो भी इमोशनल एंगल से। यदि आपके पास एक सही मोटिव है, कि कोई किरदार एक्शन क्यों कर रहा है, तो यह ठीक है। जबरदस्ती हिंसा दिखाने के पक्ष में मैं नहीं हूं।

    English summary
    Sidharth Malhotra is ready with her upcoming film Marjaavan. Before film release, he had a chat with media, where he talked about his choices of roles and upcoming movies.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X