»   » EXCLUSIVE INTERVIEW:"कोई भी ऐसा एक्टर नहीं है जिसे सुपरस्टार का दर्जा मिला हो"

EXCLUSIVE INTERVIEW:"कोई भी ऐसा एक्टर नहीं है जिसे सुपरस्टार का दर्जा मिला हो"

By Prachi Dixit
Subscribe to Filmibeat Hindi

जवानी रेस के घोड़े की तरह होती है।बंदूक चलते ही दौड़ने लगती है।रगों में खून से ज्यादा जोश दौड़ता है। काबिल में रोनित रॅाय का ये डायलॉग उनकी निजी जिंदगी पर भी सटीक बैठता है। 1992 में रोनित ने जान तेरे नाम से बॅालीवुड में डेब्यू किया। असफल फिल्मों की लंबी फेहरिस्त ने लगातार उन्हें ठोकर दिलाई।

ronit roy

रोनित का कहना है कि उस उम्र में बहक जाना सरल होता है।हम सिर्फ दौड़ना चाहते हैं लेकिन कैसे दौड़ना इसकी राह दिखाने वाला कोई नहीं होता। बहरहाल,बदलते सिनेमा ने रोनित को भी बदल दिया। वह अब किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं।

Kehne Ko Humsafar Hai

रफ्तार से काम करते हुए रोनित ने अब वेबसीरीज में एंट्री ली है।ALT BALAJI की वेबसीरीज कहने को हमसफर हैं में वह अहम भूमिका में हैं। बड़े पर्दे पर उनका अगला प्रोजेक्ट ठग ऑफ हिंदोस्तान है।

फिल्मीबीट से खास बातचीत में रोनित ने सुपरस्टार,सिनेमा और स्टारडम पर बेबाक तरीके से चर्चा की। यहां पढ़ें बातचीत के प्रमुख अंश

तलाक लेकर अलग हो जाते हैं..

तलाक लेकर अलग हो जाते हैं..

वेबसीरीज का दायरा बढ़ रहा है। अब कई तरह की वेबसीरीज बनाई जा रही हैं। हमारी वेबसीरीज आज की कहानी है। कहने को हमसफर हैं में परिवार प्यार और समाज के बीच की बात है। यह एक ऐसे इंसान की कहानी है जिसकी शादी हो चुकी है। उसकी दो बेटियां हैं। लेकिन वह किसी और से प्यार करता है। यहांएक्स्ट्रा मटेरियल नहीं है।यहां पर क्यों और कैसे का अंतर है।कई लोग ऐसे हालात में तलाक लेकर अलग हो जाते हैं।लेकिन यहां पर मेरे किरदार के लिए ऐसा करना मुश्किल है।यहां पर तीन जिंदगी आपस में उलझ रहे हैं। यह तीन उलझी हुई जिंदगी की एक खास कहानी है।

कुछ भी चलेगा वाला फेक्टर यहां नहीं चलेगा..

कुछ भी चलेगा वाला फेक्टर यहां नहीं चलेगा..

टीवी और फिल्म की तरह वेब की दुनिया भी आने वाले दो साल में भर जाएगी।भविष्य में वेब की दुनिया में खड़े होने के लिए कंटेंट पर फोकस करना होगा।कुछ भी चलेगा वाला फेक्टर वेब में काम नहीं आने वाला है। वेब में कई बड़े स्टार नाकामयाब रहे हैं। वेबसीरीज में पहले एपिसोड पर सारा मामला टिका होता है। अगर पहले एपिसोड में आपने दर्शक को पकड़ लिया फिर बाजी आपके हाथ में है। पहले एपिसोड में आपके दिल में घर नहीं बनाया तो भले ही कितना बड़ा स्टार क्यों ना हो,दर्शक आपका शो नहीं देखेंगे। अब ये भी हैं कि लोग वेब में ज्यादा खर्च कर रहे हैं। बड़े प्रोजेक्ट आ रहे हैं। फिर बड़े स्टार की तलाश शुरू होती है।ये आगे निकलने के कारण सही और गलत,अच्छा और बुरा में लोग फर्क करना भूल जाते हैं। सारा फोकस केवल कंटेंट पर होना चाहिए। स्टार या बजट पर नहीं।

मैं काम मांगने नहीं जाता हूं..

मैं काम मांगने नहीं जाता हूं..

मैं कभी किसी के पास काम मांगने नहीं जाता हूं। मेरी खुशकिस्मती है कि किरदार मेरे पास आते हैं। कहीं ना कहीं मेरी धारणा यह है कि किरदार तो वही रहता है। कई बार उसकी लिखावट में अंतर होता है। एक्टर का काम होता है कि किरदार की लिखावट को एक स्तर ऊपर लेकर जाए। लेखक की लिखावट को पर्दे पर पेश करने का काम एक्टर का होता है।मसलन,मैंने कई फिल्मों में पुलिस की भूमिका निभाई है। अगली,बॅास जैसी कई फिल्मों में मैंने पुलिस की भूमिका निभाई है। हर फिल्म में मेरा पुलिस का किरदार वही है। उसकी लिखावट में काफी फर्क है।

मुझे लीड किरदार का आॅफर नहीं मिलता है..

मुझे लीड किरदार का आॅफर नहीं मिलता है..

काबिल और गुड्डू रंगीला में मैंने खलनायक की भूमिका निभाई।आप देखेंगे कि दोनों में ही आपको दो अलग तरह के विलन दिखाई देंगे। कई बार लिखावट से बदलाव होते हैं तो कई बार परिस्थिति के कारण किरदार में बदलाव होते हैं। कई बार किरदार वहीं रहते हैं उनकी परिस्थिति बदल जाती है। मेरे लिए यह आसान हो जाता है कि लीड किरदार मुझे नहीं मिलते हैं। इस वजह से दर्शक मुझे भिन्न किरदार में पसंद भी करते हैं। लेकिन हमारे हीरो के साथ वैसा होना मुश्किल हो जाता है। हीरो अगर अपना लुक बदलें तो दर्शकों के लिए उन्हें अपनाना मुश्किल हो जाता है।

अपने हीरो को गंजा या फिर सफेद बाल में नहीं देख सकते..

अपने हीरो को गंजा या फिर सफेद बाल में नहीं देख सकते..

दर्शक चाहते हैं कि वह अपने हीरो को हीरो की तरह ही देखें। वह नहीं चाहते हैं कि उनके हीरो की आवाज में या उसकी चाल में या फिर लुक में बदलाव आए। वह अपने हीरो को गंजा या फिल सफेद दाढ़ी में नहीं देखना चाहते हैं। दर्शक अपने हीरो को ऐसे नहीं संभाल पाते हैं। कैरेक्टर एक्टर का फायदा होता है कि वह अपने आप को किरदार में ढाल सकता है। दर्शकों का सिनेमा का देखने का नजरिया बदल चुका है। मैं मानता हूं कि अभी भी हमारे सिनेमा में सुपरस्टार सुपरस्टार ही हैं। उनकी जगह कोई नहीं ले सकता है।

एक्टर सुपरस्टार नहीं बन सकता है..

एक्टर सुपरस्टार नहीं बन सकता है..

यह भी कहने में कोई गुरेज नहीं है कि सुपरस्टार भी अब एक्टिंग करने लगे हैं। या यूं कह लें कि वह एक्टर बेस्ड किरदार निभाने लगे हैं। लेकिन एक्टर,एक्टर ही हैं। वह अभी तक सुपरस्टार नहीं बना है। अभी तक कोई ऐसा एक्टर नहीं है जिसे सुपरस्टार का दर्जा मिला हो। आज भी हमारे सुपरस्टार वही हैं। हम उंगलियों पर उनकी गिनती कर सकते हैं। मसलन आमिर खान बहुत बड़े सुपरस्टार हैं। वह पहले कमर्शियल फिल्में करते थे। मेरे ख्याल से गुलाम,सरफरोश उस समय के बाद से थोड़ा बदलाव आया है।

दंगल में आमिर ने एक्टर का चोला पहना है..

दंगल में आमिर ने एक्टर का चोला पहना है..

दगंल में आमिर खान ने पिता की भूमिका निभाई। इस फिल्म में जिस तरह से एक सुपरस्टार ने एक्टर का चोला पहना। वह काबिले तारीफ है। ऐसा नहीं है कि उन्होंने यह पहली बार किया है। वह शुरू से ऐसा करते आए हैं। वह बेहतरीन कलाकार हैं। दगंल में उन्होंने खूबसूरती से एक एक्टर को सामने लाया है। जैसा कि मैं आपसे कह रहा था कि लुक बदलने पर दर्शक अपनाते नहीं हैं। उन्होंने इसे तोड़ा है। आमिर ऐसे सुपरस्टार हैं जिन्होंने इस सोच को तोड़ा है। दगंल के बॅाक्स आॅफिस फिगर इस बात की साफ गवाही देते हैं।

इंसान गिरकर सीखता है..

इंसान गिरकर सीखता है..

बॅालीवुड में मेरी पहली पारी असफल रही है। यह मैं दूसरी पारी खेल रहा हूं। सिनेमा के साथ मैं भी बदल चुका हूं। मैंने जब अपनी शुरूआत की थी तब के रोनित और आज के रोनित में अंतर है। उस उम्र में बहक जाना सरल होता है। बहक जाने से ज्यादा क्या करना है यह पता नहीं होता। अनुभव की कमी होती है। ऐसे में किसी के मागर्दशन की जरूरत थी। मेरा कोई गॉडफादर नहीं है। जो करना था खुद से ही करना था। कुलमिलाकर बात वही है कि इंसान गिरकर सीखता है। मुमकिन है कि जो गलती मैंने शुरू में की वह मैं अब दोहरा नहीं रहा हूं। हर किसी की जिंदगी में ऐसा समय आता है। हर किसी को कुछ अलग की तलाश होती है। कई बार करोड़ों की कमाई के बाद भी पहाड़ों में जाकर खुशी मिलती है। खुद की तलाश करना जरूरी होता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary
    In an Exclusive Interview Ronit Roy talk about his overall journey and his recent release web series Kehne Ko Humsfar hainThe show, which also features Mona Singh and Gurdeep Kohli, will stream on the ALTBalaji app from 16 March.

    रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more