For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    EXCLUSIVE Interview: वेब कंटेंट पर सेंसरशिप नहीं है, लेकिन रिमोट आपके हाथ में है- रोनित रॉय

    |

    टेलीविजन के अमिताभ बच्चन कहे जाने वाले अभिनेता रोनित रॉय अपने दमदार अभिनय कौशल के दम पर सालों से दर्शकों के चहेते रहे हैं। टीवी, फिल्मों और वेब सीरिज में जौहर दिखा चुके रोनित रॉय अपनी हालिया रिलीज क्राइम-ड्रामा फिल्म Line Of Descent को लेकर बेहद खुश हैं। ज़ी 5 पर रिलीज हुई इस फिल्म के लिए अभिनेता को तारीफ मिल रही है। बता दें, यह एक माफिया परिवार के तीन बेटों की कहानी है, जो एक दूसरे के खिलाफ खड़े नजर आते हैं।

    इस मौके पर फिल्मीबीट ने अभिनेता से खास बातचीत की है, जहां उन्होंने अपनी फिल्में, अपने अनुभव पर खुलकर बातें की। ओटीटी प्लैटफॉर्म को एक सकारात्मक बदलाव मानते हुए रोनित ने कहा, "भारत में अभी इसकी शुरुआत है, ओटीटी का भविष्य बहुत ही शानदार है.." वहीं, वेब पर हिंसा और एडल्ट कंटेंट को लेकर हो रहे विवादों पर अभिनेता ने कहा कि "आप क्या देखना चाहते हैं, क्या नहीं देखना चाहते हैं.. इसका पूरा कंट्रोल खुद दर्शकों के हाथों में ही होता है।"

    यहां पढ़ें इंटरव्यू से कुछ प्रमुख अंश-

    'लाइन ऑफ डिसेंट' से जुड़ना कैसे हुआ?

    'लाइन ऑफ डिसेंट' से जुड़ना कैसे हुआ?

    रोहित कर्ण बत्रा से लगभग 3 साल पहले मेरी मुलाकात हुई थी और हमारी अच्छी दोस्ती हो गई। जब उन्होंने मुझे यह स्क्रिप्ट सुनाई तो मुझे यह विषय बेहद पसंद आया। मुझे रोहित की यह बात पसंद आई कि उन्हें अपनी कहानी पर बहुत विश्वास था। उन्होंने इस पर बहुत मेहनत की है। इस फिल्म को ना करना मेरे लिए ऑप्शन में नहीं था।

    फिल्म की स्टारकास्ट भी काफी मजबूत दिख रही है। सेट पर कैसा अनुभव रहा?

    जी हां, फिल्म में मेरे साथ अभय देओल, नीरज कबी, Brendan Fraser, प्रेम चोपड़ा जैसे कलाकार हैं। ये सभी बहुत ही टैलेंटेड हैं और ऐसे लोगों के साथ काम करने के दौरान मजा भी आता है, साथ ही काफी कुछ सीखने को भी मिलता है। मेरा अनुभव बहुत ही कमाल का रहा। रोहित बत्रा भी फिल्म डाइरेक्ट करने के लिए हॉलीवुड से आए थे, तो एक अलग तरह का स्वाद वो भी मिला कि लोग वहां कैसे काम करते हैं, क्या सोचते हैं।

    इससे पहले भी आपने फिल्मों में ग्रे किरदार निभाए हैं। इस फिल्म के लिए कोई खास तैयारी की?

    इससे पहले भी आपने फिल्मों में ग्रे किरदार निभाए हैं। इस फिल्म के लिए कोई खास तैयारी की?

    कोई खास तैयारी तो नहीं कहूंगा, लेकिन मैं सोचता हूं कि असल जिंदगी में भी कोई भी शख्स पूरी तरह से ब्लैक एंड व्हाइट नहीं होता है। हर व्यक्ति में अलग अलग इमोशन होते हैं और कहीं ना कहीं वह ग्रे होता है। लिहाजा, ऐसे किरदार भी दिलचस्प लगते हैं। व्यक्तिगत तौर पर मैं ऐसे किरदार को निभाना एन्जॉय करता हूं।

    यह माफिया परिवार की कहानी है, जाहिर है फिल्म में हिंसा भी होगा। फिल्मों में हिंसा को आप किस तरह से देखते हैं?

    यह माफिया परिवार की कहानी है, जाहिर है फिल्म में हिंसा भी होगा। फिल्मों में हिंसा को आप किस तरह से देखते हैं?

    मैं इस पर टिप्पणी नहीं करना चाहूंगा। हिंसा का जहां तक सवाल है, फिल्मों के लिए सेंसर बोर्ड है, कुछ दृश्यों को फिल्म में शामिल किया जाता है, कुछ को नहीं किया जाता है। अभी हाल ही में रिलीज कई फिल्मों में हिंसा ही हिंसा है। यह भी कहानी कहने का एक तरीका है। यदि यह फिल्म का हिस्सा है, तो फिल्म का हिस्सा है। ऐसी फिल्मों को ज्यादातर 'ए' सर्टिफिकेट दे दिया जाता है। वेब कंटेंट पर फिलहाल सेंसरशिप नहीं है, लेकिन आप क्या देखना चाहते हैं, क्या नहीं देखना चाहते हैं, यह कंट्रोल आपके हाथ में है।

    वेब पर दिखाए जाने वाले हिंसा और एडल्ट कंटेंट को लेकर काफी विवाद भी चल रहा है। इस पर क्या कहेंगे?

    वेब पर दिखाए जाने वाले हिंसा और एडल्ट कंटेंट को लेकर काफी विवाद भी चल रहा है। इस पर क्या कहेंगे?

    ये विवाद कुछ समय से चल रहा है, लेकिन यदि वह कहानी का हिस्सा है तो उसे दर्शाने में कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए। और देखने का जहां तक सवाल है रिमोट आपके हाथ में है, आप कभी भी बंद कर सकते हैं। मुझे नहीं लगता कि एक व्यक्ति को कभी यह फैसला लेना चाहिए कि दूसरा व्यक्ति क्या देखना चाहता है।

    आपने टेलीविजन, वेब सीरिज और फिल्मों में भी काम किया है। बतौर अभिनेता कौन सा माध्यम ज्यादा संतुष्टि देता है?

    आपने टेलीविजन, वेब सीरिज और फिल्मों में भी काम किया है। बतौर अभिनेता कौन सा माध्यम ज्यादा संतुष्टि देता है?

    पे- चेक.. (हंसते हुए) खैर, ये तीनों अलग अलग माध्यम हैं। तीनों के दर्शक अलग हैं। तीनों की जो मेकिंग स्टाइल है, कहानी कहने का जो तरीका है वह एक दूसरे से बहुत ही अलग है। इसीलिए मैं एक की दूसरे से तुलना नहीं कर सकता। मुझे अभिनय पसंद है और मैं पूरी सच्चाई के साथ वह करना चाहता हूं, माध्यम चाहे जो भी हो।

    पिछले एक इंटरव्यू में आपने कहा था- 'वेब सीरिज का भविष्य बहुत शानदार होगा'.. आज लगता है कि वेब कंटेंट की वजह से फिल्मों को खतरा है?

    पिछले एक इंटरव्यू में आपने कहा था- 'वेब सीरिज का भविष्य बहुत शानदार होगा'.. आज लगता है कि वेब कंटेंट की वजह से फिल्मों को खतरा है?

    यदि मैं गलत नहीं हूं तो भारत में OTT प्लैटफॉर्म आए तीन- चार साल हो गए और इन सालों में देखिए कितनी फिल्में 100-200 करोड़ का बिजनेस कर चुकी हैं। इस साल की फिल्में ही देख लें वॉर हो, बाला हो.. कई फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर कमाल दिखाया है। तो फिलहाल सच्चाई यही है कि किसी भी बिजनेस से किसी भी बिजनेस को फर्क नहीं पड़ रहा है, बड़े पर्दे के अनुभव की तुलना लोग मोबाइल या टैबलेट से नहीं कर सकते। लेकिन जहां तक ओटीटी का सवाल है.. तो यह अभी शुरुआत है, यह अभी और आगे बढ़ेगा।

    ओटीटी प्लैटफॉर्म की वजह से कई कलाकारों को एक ऊंचाई मिल रही है, जो फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष कर रहे थे। इसे एक सकारात्मक बदलाव मानते हैं?

    ओटीटी प्लैटफॉर्म की वजह से कई कलाकारों को एक ऊंचाई मिल रही है, जो फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष कर रहे थे। इसे एक सकारात्मक बदलाव मानते हैं?

    हां बिल्कुल। जिन कलाकारों को फिल्मों में अपने मन लायक काम नहीं मिलता था, अब वही कलाकार ऑनलाइन कंटेंट का हिस्सा हैं और उन्हें दर्शक पसंद भी कर रहे हैं, तारीफ भी मिल रही है। तो ये एक बहुत ही पॉजिटिव शुरुआत है।

    लाइन ऑफ डिसेंट के बाद, किन प्रोजेक्ट्स में व्यस्त हैं?

    फिलहाल हॉस्टेजेस का दूसरा सीज़न 2 शूट कर रहा हूं, यशराज की फिल्म शमशेरा और एक तमिल फिल्म की शूटिंग कर रहा हूं।

    English summary
    Actor Ronit Roy is ready with his upcoming film Line of Descent. Before film release, he had an exclusive chat with Filmibeat, where he talked on his career, some controversies and upcoming projects.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X