For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

Exclusive- मुझे लाइफ ने बहुत टेस्ट करके सबकुछ दिया है- इरफान खान

|

(सोनिका मिश्रा) यूं तो बॉलीवुड में कई फिल्में बनती हैं लेकिन ऐसी फिल्में बनाना जो कि लोगों को देखने के कई दिनों के बाद तक याद रहें और उनसे बातें करें इरफान खान का सपना है। इरफान खान ने बॉलीवुड में अपने दिल में बस जाने वाले किरदारों के साथ ने इंडस्ट्री में ऐसी जगह बनाई है जहां पर उनके सिवा और कोई नहीं पहुंच सकता। अपने शुरुआती दिनों में काफी समय तक स्ट्रगल करने के बाद इरफान खान आज इस मकाम पर पहुंचे हैं। इरफान खान का कहना है कि जिदंगी ने उन्हें बहुत टेस्ट किया है और तब जाकर उन्हें सब कुछ दिया है। अपनी आने वाली फिल्म डी डे के लिए वनइंडिया के साथ हुए इंटरव्यू के दौरान इरफान खान ने अपनी फिल्म और अपनी जिंदगी से जुड़ी कई बातें शेयर की हैं। प्रस्तुत हैं इंटरव्यू के कुछ अंश।

डी डे में एक रॉ एजेंट की जिंदगी को परदे पर उतारने के अपने कुछ एक्सपीरिंयस शेयर करिये।

किसी दूसरे मुल्क में जाकर जासूसी करना बहुत ही मुश्किल टास्क होता है। डी डे फिल्म में हमने रॉ एजेंट्स की जिदगी को बहुत ही करीब से दिखाया है। अक्सर जैसा फिल्मों मेंदिखाया जाता है वैसा नहीं होता। इन एजेंट्स कोदुनियाकीनजरों सेखुद को बचाकररखना होता है। ये एजेंट्स हमारे देश के लिए अपनी जान की बाजी तकलगा देते हैं और फिर भीइन्हेंकोई नहीं पहचानता इन्हें इनकेकामके लिए सरकार पुरस्कृत तकनहीं करती। मैंने भी डी डे फिल्म एक जासूस काकिरदारनिभाया है जो कि पाकिस्तानमें जाकर रहता है औरउसे इसतरह रहना है कि लोग उसपर ज्यादा ध्यान ना दें। इस किरदार को निभाने के लिए हम एक्स एजेंट्स से भी मिले औरउनकी जिंदगी केबारे में भी जाना। बहुत ही ईमानदारी के साथ हमने डी डे में इन एजेंट्स की जिंदगी को दिखाया है।

डी डे में अपने किरादार के बारे में कुछ बताईये।

मेरा किरदार 8-10 साल से पाकिस्तान में ही रह रहा है। मेरी बीवी है बच्चे हैं और उन्हें बचाने के लिए उन्हें लंदन भेजने की कोशिश कर रहा हूं। साथ ही मैं पाकिस्तान के लोगों को ये यकीन दिलाने की कोशिश कर रहा हूं कि आग लगी थी और मेरे बीवी बच्चे उसमें जल कर मर गये। बहुत ही इंटरेस्टिगं कैरेक्टर है मेरा फिल्म में। मैं अपने लोगों के साथ मिलकर एक बहुत ही बड़ा मिशन पूरा करने की कोशिश करा रहा हूं। जिसमें हमारी जान तक जा सकती है।

अभी तक के अपने करियर में आपने कई सारे अलग अलग तरह के किरदार किये हैं आपने। क्या खुद को साबित करने की कोशिश कर रहे हैं आप?

मैं इंडस्ट्री में अपनी जगह बना रहा हूं। इस लाइन में मैं इसी लिए आया क्योंकि कुछ कहानियां होती थीं जो कि मेरे दिमाग में रह जाती थीं उन्हें मैं भूल नहीं पाता था तो मै ऐसी कहानियों को लोगों के सामने लाना चाहता हूं। मैं लोगों एक बेहतरीन सिनेमा का एक्सपीरिंयस देना चाहता हूं। कुछ फिल्में होती हैं जो कि खत्म होते ही लोगों के दिमाग सेभी निकल जाती हैं लेकिन मैं कुछ ऐसी फिल्में करना चाहता हूं जो कि लोगों से बातें करें।

लोग सिनेमाहॉल से वापस जाएं तो उन कहानियों को अपने साथ लेकर जाएं। उन किरदारों को याद रखें। मैं बहुत अलग अलग तरह के किरदारों में नज़र आना चाहता हूं।

ऋषी कपूर जी ने फिल्म में एक निगेटिव किरदार निभाया है। उनके साथ काम करते समय की कुछ इंटरेस्टिंग यादें।

ऋषी कपूर जी के साथ काम करना तो एक सपने के सच होने जैसा था। ऐसा सपना जो शायद हमने कभी देखा भी नहीं। जब छोटेथे तो ऋषी कपूर जी की फिल्में देखते थे और उस वक्त कभी सोचा ही नहीं कि उनके साथ काम करने का मौका मिलेगा। ऋषी कपूर जी को भी हमारा काम बहुत

पसंद आया। उनके पास बहुत से किस्से होते थे जो कि वो शूटिंग के बाद सुनाया करते थे। शूटिंग के बाद हमारे पास एक ही वक्त बिताने का जरिया होता था कि सभी ऋषी कपूर जी केपास बैठ जाया करते थे और उनके किस्से सुना करते थे। बहुत ही एंटरटेनिंग इंसान हैं वो।

परदे पर आपको हीरो के किरदार निभाने पसंद हैं या विलेन के?

मुझे हीरो के किरदार करने ज्यादा पसंद हैं। मैंलोगों के सामने पॉजिटिव किरदारों को पेश करना ज्यादा पसंद करता हूं।

हुमा के साथ काम करके कैसा लगा। हुमा के बारे में कुछ बताईये।

हुमा एक बहुत ही खूबसूरत एक्ट्रेस हैं। मैं चाहता हूं कि उन्हें एक टिपिकल हिरोईन का किरदार मिले। मैं उन्हें कुछ टिपिकल कमर्शियल फिल्मों में देखना चाहूंगा। उनके साथ काम करने का एक्सपीरिंयस बहुत ही बेहतरीन रहा।

इतनी बेहतरीन फिल्में अपने नाम करने के बाद बीच में आपने हिस्स फिल्म की। क्या आपको लगता है कि वो आपकी गलती थी?

फिल्म को बनाते समय आपको पता नहीं होता फिल्म कैसी बनेगी। हिस्स फिल्म को करते समय लगा था किफिल्म अच्छी होगी। अबफिल्म रिलीजहोने से पहले तो आप फिल्म की सफलता असफलता नहीं माप सकते। हिस्स एक गलती थी और गलतियां तो सबसे होती ही हैं। लेकिन हिस्स फिल्म की एक खास बात ये थी कि उसमें मल्लिका शेरावत ने बहुत बेहतरीन एक्टिंग की थी बिल्कुल नागिन जैसी लगती हैं वो। उस वक्त मुझे लगाथा कि कुछ तो बात है इस निर्देशक में।

तिंग्मांशू धूलिया आपकी हमेशा तारीफ करते हैं। उनका कहना है कि वो अगर अपने किरयर में कोई एतिहासिक फिल्म बनाएंगे तो सिर्फ आपके साथ। इस बारे में आपका क्या कहना हैा?

मैं उनको हर महीने तनख्वाह भेजता हूं मेरी तारीफ करने के लिए। अगर वो मेरे साथ ही अपनी हर अच्छी फिल्म बनाएं तो बहुत खुशी की बात होगी। मैं यही चाहता भी हूं। उम्मीद है कि वो अपनी बात पर टिका रहे। नहीं तो मैं उसका खर्चा भेजना बंद कर दुंगा।

आपने अपने अभी तक के सफर में बहुत कुछ सहा है। बहुत स्ट्रगल किया है। कुछ ऐसी बातें जो आपको आजभी याद हों अपने शुरुआती दौर से जुड़ी।

हर किसी की जिंदगी में एक सपना होता है जिसे वो सच करना चाहता है। उसे लगता है कि अगर ये सपना पूरा नहीं हुआतो उसकी जिंदगी बेकार है। तो इसीसपने की वजह से मैं यहां पर आया। मेरा निगेटिव प्वाइंट ये था कि मैं हमेशासे ही बहुत शर्मीला रहा हूं और मुंबई में आने के बाद मुझे लोगों से ये कहने में शर्म आती थी कि मैं एक्टर हूं। मुझे काम चाहिए। कई बार मुझे बहुत शर्मिदंगी भी उठानी पड़ी। मुझे लगता है कि जिंदगी ने मुझे बहुत टेस्ट करने के बाद ही सबकुछ दिया है। मुझे कुछ भी आसानी से नहीं मिला। मुझे लगता था कि एनएसडी से कोर्स करनेके बाद सब कुछ आसान हो जाएगा लेकिन ऐसा नहीं है। यहां किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता। मैंने टीवी पर कामकिया फिर फिल्में करने का शौक था तो फिल्मों में आया। काफी इंतजार करना पड़ा। लेकिन भगवान की दया से मुझे हमेशा काम मिलता रहा।

लाइफ ऑफ पाई के बाद हॉलीवुड की दूसरी फिल्म करने का कोई प्लान?

मैं एक हॉलीवुड स्क्रिप्ट पढ़ रहा हूं। बहुत इंटरेस्टिंग कहानी है अगर अच्छी लगी तो जल्द ही इसपर काम शुरु करुंगा। मैं इसे जारी रखूंगा। चाहे वो हॉलीवुड हो या कोई भी जगह हो। जहां अच्छी कहानियां मिलेंगी वहां मै काम करुंगा।

निखिल आडवाणी के साथ काम करने का ऐक्सपीरिंयस कैसा रहा। आगे कोई प्रोजेक्ट है जो उनके साथ कर रहे हों आप?

निखिल बहुत ही सोच समझकर काम करने वाले निर्दशक हैं। मेरे बहुत अच्छे दोस्त की तरह हैं वो। उनके साथ काम करना बहुत ही बेहतरीन एक्सपीरियंस रहा। निखिल के साथ काम करने का आगे भी इरादा है। वो अभी कहानी लिख रहा है मैं इंतजार कर रहा हूं वोकहानी खत्म करे औ रमुझे बताए।

कुछ समय पहले आपको किसी हॉलीवुड फिल्म के लिेए एक्सपोज करने को कहा गया लेकिन आपने मना कर दिया इस बात में कितनी सच्चाई है?

मुझे लगा नहीं की वो कहानी की मांग थी। अगर कहानी की मांग होती तो मैं जरुर करता। अगर मेरे दर्शकों को मुझे बिना कपड़ों के देखना पसंद है तो मैं कर सकता हूं लेकिन अगर वो कहानी की मांग भी हो तोज्यादा अच्छा होगा। मैं कोई मॉडल तो नहीं कि शर्ट उतारकर खड़ा हो जाऊं।

आपने अपना सरनेम हटा दिया है। क्या आपको लगता है कि मीडिया इस बात को काफी बढ़ा रही है?

कई बार लोगों के पास सवालों की कमी हो जाती है तो वो इस तरह के सवाल पूछ लेते हैं। लेकिन असल में कई ऐसे पुरा एक्टर रहे हैं जोकि अपना सरनेम यूज नहीं करते थे।जैसे धर्मेंद्र हैं जितेंद्र हैं। तो मैं भी अपना सरनेम यूज नहीं करना चाहता हूं।

डी डे के बाद आपके कौन से प्रोजेक्ट हैं?

डी डे के बाद लंच बॉक्स फिल्म है।

इरफान खान के इंटरव्यू के कुछ अंश

आपका कोई सपना जो आप पूरा करना चाहते हों। किस तरह की फिल्में करना चाहते हैं आप?

आपका कोई सपना जो आप पूरा करना चाहते हों। किस तरह की फिल्में करना चाहते हैं आप?

मैं बच्चों के लिए एक फिल्म करना चाहता हूं, साथ ही म्यूसिक पर एक फिल्म बाननाचाहता हूं। इसके अलावा एक्शन और कॉमेडी फिल्म करना चाहता हूं। कॉमेडीफिल्म मैंने ज्यादा नहीं की है लेकिन फिर भी कॉमेडी को लोगों ने काफी पसंद किया है चाहे वोमैट्रो हो या थैंक यू। मेरा बहुत मन है कॉमेडी फिल्में करनेका। अभी कोई अच्छी स्क्रिप्ट नहीं आई है लेकिन मैं करुंगा जरुर।

यंग जेनरेशन के सितारों में किन सितारों में आपको वो काबिलियत दिखती है जो उन्हें बेहतरीन एक्टर बनने में मदद करेगी?

यंग जेनरेशन के सितारों में किन सितारों में आपको वो काबिलियत दिखती है जो उन्हें बेहतरीन एक्टर बनने में मदद करेगी?

राजकुमार यादव, रणदीप हुड्डा जैसे कई और भी नये सितारे हैं जिनमें अच्छा काम करने की कैपिबिलटी है। ये लोग बहुत आगे जाएंगे।

अगर कोई अच्छा टीवी का ऑफर मिले तो क्या आप करना चाहेंगे?

अगर कोई अच्छा टीवी का ऑफर मिले तो क्या आप करना चाहेंगे?

टेलीवीजन में अगर कोई इंटरेस्टिंग गेम शो या रियेलिटी शो मिलेगा तो जरुर फिर से टेलीवीजन का रुख करुंगा।

आखिरी वो कौन सी फिल्में थीं जिन्हें देखने के बाद आपको लगा कि वो फिल्म आपसे बातें कर रही थीं?

आखिरी वो कौन सी फिल्में थीं जिन्हें देखने के बाद आपको लगा कि वो फिल्म आपसे बातें कर रही थीं?

मैंने लास्ट एक रशियन फिल्म देखी थी दि रेड एंड व्हाइट और दि लेपर्ड ये फिल्में देखने के बाद इनकी कहानी मेरे दिमाग में बस गयी। काफी कनेक्ट किया इन फिल्मों ने। बॉलीवुड में पाकीजा, शोले, स्पर्श, दीवार, मासूम और खासतौर पर सत्यजीत रे की फिल्में बहुत पसंद हैं।

क्या आपको लगता है कि हमारे कलाकारों के बढ़ते निगेटिव किरदारों के चलते हमारी यंग जेनरेशन कुछ भटक रही है?

क्या आपको लगता है कि हमारे कलाकारों के बढ़ते निगेटिव किरदारों के चलते हमारी यंग जेनरेशन कुछ भटक रही है?

बिल्कुल मुझे ऐसा लगता है कि हमारी यंग जेनरेशन सिनेमा सेबहुत प्रभावित होती है। एक उम्र होती है जब वो सिनेमा को देखकर अपने पसंदीदा एक्टर को देखकर इंस्पायर होते हैं और उन्हीं की तरह बनने की कोशिश करते हैं। लेकिन मैं ऐसे किरदार नहीं निभता जिनमें कुछ निगेटिवटी हो। मैं अपने किरदारों से लोगों को इंस्पयार करना चाहता हूं ।लोगों को कुछ मोरल वैल्यूज देना चाहता हूं। मैं उन्हें अपने एक्सपीरिंयस पर आधारित होकर ये बताना चाहता हूं कि क्या सही है क्या गलत है। निगेटिव किरदार मैं नहीं निभाना चाहता।

English summary
Irrfan Khan says that life has tested him a lot and then gave him everything. Irrfan Khan's next movie D-Day is soon going to release. Irrfan Khan is playing role of a ROW agent in D-Day who live in Pakistan and also a part of a big mission.

रहें फिल्म इंडस्ट्री की हर खबर से अपडेट और पाएं मूवी रिव्यूज - Filmibeat Hindi

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Filmibeat sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Filmibeat website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more