»   » EXCLUSIVE: 'पिंक' से बिल्कुल अलग है फिल्म 'अनारकली ऑफ आरा'

EXCLUSIVE: 'पिंक' से बिल्कुल अलग है फिल्म 'अनारकली ऑफ आरा'

Written By:
Subscribe to Filmibeat Hindi

स्वरा भास्कर की फिल्म 'अनारकली ऑफ आरा' अपने पहले टीजर से ही चर्चा में आ गई है। फिल्म में स्वरा एक बोल्ड अवतार में नजर आएंगी। इनके साथ अहम किरदारों में होगे संजय मिश्रा, पंकज त्रिपाठी जैसे दिग्गज कलाकार। पूरी उम्मीद है कि महिला मुद्दे पर बनाई गई यह साल की सबसे दमदार फिल्म साबित होगी। 'अनारकली ऑफ आरा' 24 मार्च 2017 को रिलीज होगी। 

[यहां पढ़ें- इंटरव्यू के दौरान गोविंदा ने सलमान से लेकर डेविड धवन पर की चर्चा]

बहरहाल, अब जबकि फिल्म इतनी चर्चित हो रही है। तो फिल्मीबीट ने भी फिल्म के निर्देशक अविनाश दास से खास बातचीत की। जिसके दौरान उन्होंने 'अनारकली ऑफ आरा' पर खुलकर बातें की। फिल्म की कहानी के आइडिया से लेकर फिल्लौरी से क्लैश तक..। 

घंटे भर की दिलचस्प बातचीत को हमने शब्दों में परोसा है। यहां पढ़ें इंटरव्यू के कुछ प्रमुख अंश-

क्या है अनारकली ऑफ आरा

क्या है अनारकली ऑफ आरा

अनारकली ऑफ आरा एक ऐसी लड़की की कहानी है, जिसे हमारा समाज उदार भाव से नहीं देखता। नाचने वाली, गाने वाली.. मेले ठेलों जो स्त्रियां जो काम करती हैं, उनको हम मान कर चलते हैं कि ये हमारे परिवार का हिस्सा नहीं है। और जब हम यह मान लेते हैं हमारे समाज की बाहर की कोई चीज है, तो उसे लेकर हमारे दिल में कोई इज्जत भी नहीं होती। तो उन्हें हम हल्के में लेते हैं। लेकिन इस फिल्म में यही दिखाया गया है कि इनका भी आत्म सम्मान है। और अपने आत्म सम्मान के लिए ये भी लड़ाई सकती हैं।

रियल लाइफ घटनाओं पर आधारित

रियल लाइफ घटनाओं पर आधारित

यूट्यूब पर मैंने ताराबानो फैजाबादी का एक वीडियो देखा था। वह काफी इरोटिक गाना था। तो उस वीडियो में 5- 10 सेकेंड के लिए ताराबानो के चेहरे को दिखाया गया है, जहां मैंने देखा कि गाना गाते हुए उनके चेहरे पर कोई भाव नहीं है। तो मुझे लगा कि कोई इतना इरोटिक गाना गाते हुए चेहरे को निर्भाव कैसे रख सकती है। तो फिर मैंने उनकी कहानी जानी, फैजाबाद के किस्से सुने।

फिर साल 2010-11 की बात होगी, मैं बिहार के गया में एक फंक्शन में पहुंचा, वहां पॉपुलर सिंगर देवी भी मौजूद थीं, जिनके साथ जयप्रकाश नारायण विश्वविद्यालय के कुलपति ने कोई गलत हरकत की और देवी ने उनके खिलाफ आवाज उठा दी। काफी हंगामा हुआ.. कुलपति को इस्तीफा देना पड़ा। तो मैंने इस घटना को ताराबानो के साथ जोड़ा और कहानी आगे बढ़ाई।

इतनी अलग कहानी के साथ डेब्यू

इतनी अलग कहानी के साथ डेब्यू

मैं सिर्फ अपनी कहानी कहना चाहता था। नए निर्देशक की जो यात्रा होती है, वह कहानी के दम पर ही होती है। मैं तीन तीन कहानी लेकर मुंबई आया था। लेकिन प्रोड्यूसर को यह कहानी अच्छी लगी। मुझे लगता है कि लोगों को भी यह कहानी देखकर मज़ा आएगा।

स्वरा भास्कर, संजय मिश्रा, पंकज त्रिपाठी जैसे कलाकारों के साथ काम करने का अनुभव

स्वरा भास्कर, संजय मिश्रा, पंकज त्रिपाठी जैसे कलाकारों के साथ काम करने का अनुभव

काफी शानदार अनुभव रहा। ये लोग अलग किस्म के लोग हैं। जो पर्दे पर आप इनकी एक्टिंग देखते हो, इनकी सोच का कैनवास उससे कहीं बड़ा है। देश, समाज में हो रही घटनाओं पर इनका अपना अप्रोच है, इनकी अपनी सोच है। ये सभी लोग मुझे पहली ही फिल्म में मिल गए.. सच बताऊं तो इन लोगों ने मेरी फिल्म बड़ा बनाने में काफी योगदान दिया है। इन्होंने जो सलाह दी, मैंने फिल्म में उसे पूरा भी किया। ये लोग नहीं होते तो मैं इस तरह की कहानी नहीं कह पाता।

फिल्म स्वरा की ही है

फिल्म स्वरा की ही है

स्वरा पहली बार इतना बोल्ड किरदार निभा रही हैं। फिल्म तो उनकी है ही.. लेकिन आसपास के किरदार भी काफी अलग हैं। जिनके चेहरे अभी हमने सामने नहीं रखे हैं। संजय मिश्रा ने आजतक निगेटिव किरदार नहीं किया है, लेकिन यहां दिखेंगे। पंकज त्रिपाठी नाचने वाली पूरी कंपनी के मालिक का किरदार निभाया है। सब अपने अपने किरदार में उम्दा हैं।

अनुष्का शर्मा की ‘फिल्लौरी’ से क्लैश

अनुष्का शर्मा की ‘फिल्लौरी’ से क्लैश

मुझे लगता है यदि अनुष्का शर्मा की फिल्म नहीं होती, तो शायद किसी और की फिल्म होती। पूरा खुला हफ्ता मिलना काफी मुश्किल है। मैं खुद भी अनुष्का के काम का प्रशंसक रहा हूं। लेकिन वो अलग तरह की कहानी कह रही हैं, मैं अलग तरह की कहानी कह रहा हूं। मैं उनकी फिल्म की कामयाबी की दुआ करूंगा। यहां प्रतिस्पर्धा वाली बात नहीं है। मुझे खुद की कहानी पर भी विश्वास है।

अनारकली के बाद.. अगली फिल्म

अनारकली के बाद.. अगली फिल्म

पंजाब पर आधारित एक कहानी मेरे दिमाग में है। फिलहाल स्क्रिप्ट पर काम किया जा रहा है। यह एक डार्क कहानी होगा, जहां एक लव स्टोरी भी होगी। फिल्म की शूटिंग अक्टूबर- नवंबर तक शुरू हो सकती है।

पिंक से काफी अलग है अनारकली

पिंक से काफी अलग है अनारकली

पिंक एक उम्दा फिल्म थी। लेकिन सच बताऊं तो हमने अनारकली ऑफ आरा को 2015 में खत्म कर चुके थे। हम नहीं जानते थे पिंक जैसी कोई फिल्म आ रही है। मैं शूजित सरकार का बड़ा फैन हूं.. लिहाजा, जब पिंक आई तो पूरी टीम थोड़ा टेंशन में आ गई। लेकिन फिर हम सबको लगा कि हमारी फिल्म काफी अलग है।

अब अनारकली पिंक से इस लिहाज में अलग है.. कि पिंक में उन औरतों की लड़ाई एक मर्द लड़ता है। औरत अपनी लड़ाई नहीं लड़ पा रही है। लेकिन अनारकली में एक औरत खुद अपनी लड़ाई लड़ रही है, जबकि दुनिया में कोई उसके साथ नहीं खड़ा है। दोनों फिल्मों के बीच यह एक बड़ा अंतर है... इसीलिए मुझे लगता है यह एक फैक्टर मेरी फिल्म को और मजबूत बनाता है।

English summary
In an exclusive interview with Filmibeat, Avinash Das talked about his upcoming movie Anaarkali of Araah and much more.
Please Wait while comments are loading...