For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    कहानी की band:तो सलमान को दिल देने से पहले आमिर होते ऐश के राजा

    |

    राजा हिंदुस्तानी अपने में ही थोड़ी अजीब, थोड़ी अलग लेकिन ओवर ऑल दर्शकों को पसंद आने वाली फिल्म थी। एक गरीब टैक्सी ड्राइवर लड़का जो कि कहीं से भी गरीब नहीं लग पाया और एक अमीर महलों में रहने वाली लड़की। दोनों में प्यार हो जाता है (टैक्सी ड्राइवर से कैसे प्यार हो गया...no idea)। फिर बेदर्द ज़माना और ज़ालिम परिवार इनके बीच गलतफहमी पैदा करते हैं और दोनों एक दूसरे से नफरत करने लगते हैं। End में दोनों मिल जाते हैं और Happyz Endingzz हो जाती है। खैर इस फिल्म में पहले ऐश्वर्या राय को फाइनल किया गया था और अगर वो इस फिल्म में होती तो चार चांद लग जाते। पर उन्हें बनना था मिस वर्ल्ड तो वो उधर चली गईं और करिश्मा बन गईं नई सेक्सी ग्लैमर डॉल। इस फिल्म में कुछ ट्विस्ट ऐसे थे जो नॉर्मल नहीं थे पर कहानी को बढ़ाने के लिए ज़रूरी थे, पर अगर ये ट्विस्ट कुछ और होते तो बज जाती कहानी की बैंड!

    पहले ही सीन में दिखती पुरानी करिश्मा

    पहले ही सीन में दिखती पुरानी करिश्मा

    राजा हिंदुस्तानी की कहानी का सबसे अहम हिस्सा था करिश्मा का नया अवतार। लेकिन ज़रा सोचिए कि पहले ही सीन में आपको वो पुरानी वाली करिश्मा दिखती जिन्हें आप देख तो लेते थे पर बस देख लेते थे....क्यूं सोच के हुआ न मूड खराब, ऐसे ही कहानी भी हो जाती खराब और बज जाती कहानी की बैंड!

    ये अमीर लड़की थी, स्विट्ज़रलैंड क्यों नहीं गई

    ये अमीर लड़की थी, स्विट्ज़रलैंड क्यों नहीं गई

    ये दोनों कपूर सिस्टर्स का खानदानी प्रॉब्लम लग रहा है। बहन को रतला$$$$म की गलियां पसंद हैं तो बड़ी को पालनखेत घूमना था। अरे देखना क्या था पालनखेत में। अमीर थी जवान थी, हर लड़की को विदेश घूमना होता है। सोचिए ये बहुत अमीर लड़की थी, अगर ये स्विट्ज़रलैंड घूमने जाती या पैरिस चली जाती तो इसे मिलता George फ्रेंचिस्तानी। फिर होता इनका शुद्ध विदेशी रोमांस पर बज जाती कहानी की बैंड।

    अगर मिल जाती कोई दूसरी टैक्सी

    अगर मिल जाती कोई दूसरी टैक्सी

    अगर इस लड़की को एयरपोर्ट पर दूसरी टैक्सी मिल जाती तो ये सीधा अपने होटल पहुंच जाती। कहीं कोई लोचा नहीं होता। आती पालनखेत घूमती और चली जाती पर फिर ये फिल्म एक रोड ट्रिप हो जाती और करिश्मा का नया लुक भी वेस्ट हो जाता। मतलब कि बज जाती कहानी की बैंड!

    अगर टैक्सी ड्राइवर का घर ऐसा न होता

    अगर टैक्सी ड्राइवर का घर ऐसा न होता

    मतलब कुछ भी ही तो था। एक टैक्सी ड्राइवर के चाचा चाची 1BHK में रहते हैं(जिनका खून का नहीं दिल का रिश्ता था) और एक आउटहाउस भी था। इतना ही दिल का रिश्ता था तो टैक्सी क्यों चलवाते थे कुछ पढ़ा लिखा देते। तो अमीर लड़की और गरीब लड़के की लव स्टोरी वेस्ट हो जाती है। खैर अगर राजा वैसे घर में रहता जैसे गरीब रहते हैं तो मेमसाब वहां तो नहीं रूकती और बज जाती कहानी की बैंड।

    अगर इसने खुद को शीशे में देखा होता

    अगर इसने खुद को शीशे में देखा होता

    अगर आमिर खान ने इतना संजने संवरने के बाद खुद को शीशे में देख लिया होता तो ऐसा कुछ नहीं होता। आखिर मैं जोकर लग रहा हूं ये मानने में कितना टाइम लगता है। फिर न यू कम कम मेमसाब होता न करिश्मा को आमिर क्यट लगता (जो कि वो कैसे भी नहीं लग रहे थे, मतलब फोटू देखो यार)। तो ये सब नहीं होता तो हंसी के ठहाके थोड़े कम होते और बज जाती कहानी की बैंड!

    अगर ये दोनों किस नहीं करते

    अगर ये दोनों किस नहीं करते

    अगर ये दोनों किस नहीं करते तो कहानी वहीं खत्म हो जाती क्योंकि राजा ऐसे तो I love you बोलने की हिम्मत नहीं करता। मतलब कि अगर ये दोनों बारिश में नहीं भीगते तो कहानी न बोल्ड होती न इन दोनों के अंदर इतनी हिम्मत आती। या मान लो कुछ और भी हो गया होता तो लड़की मां बनने वाली होती और दोनों की ज़बर्दस्ती शादी करवाई जाती लेकिन कहानी की तो बज जाती बैंड!

     पप्पा ने एक कान के नीचे क्यों नहीं लगाया

    पप्पा ने एक कान के नीचे क्यों नहीं लगाया

    अगर पूरे समाज के सामने पप्पा की इज्जत का कचरा करके आरती टैक्सी ड्राइवर के गले लग सकती है तो पप्पा भी तो एक थप्पड़ मार सकते थे। हाथ पैर तुड़वा कर बेटी को घर बैठाते। तब शायद ये दोनों भाग जाते और जब वी मेट तब ही बन गई होती और पक्का बजती कहानी की बैंड!

    जब मान चुका था तो गाना क्यों वेस्ट किया

    जब मान चुका था तो गाना क्यों वेस्ट किया

    ये जो पूछो ज़रा पूछो वाला गाना है इसके पहले ही करिश्मा आमिर को मना चुकी थीं लेकिन फिर भी वो फिर से बेहोश हुई, उसे फिर से गुस्सा किया और गाना गाया। वैसे ये गाना उस टाइम का काफी चलता टाइप गाना था। लेकिन स्टोरी सीधा सीधा बिना गाने के चलती तो बज ही जाती कहानी की बैंड! इस टाइम तक तो वैसे भी स्टोरी बोरिंग हो चुकी थी।

    ये दारू पीकर उसे झेलने की क्षमता रखता तो

    ये दारू पीकर उसे झेलने की क्षमता रखता तो

    टैक्सी ड्राइवर यूनियन को सॉरी पर देश के अमूमन ज़्यादातर टैक्सी ड्राइवर ये मानते हैं कि दारू पी है तो पचानी पड़ेगी। अगर ये भी जोश में आकर होश न खोता तो पति पत्नी शांति से बैठकर बात कर लेते। मामला वहीं रफा दफा हो जाता और आराम से बजती कहानी की बैंड वैसे भी अब तक बज ही चुकी थी!

    अगर ये नॉर्मल कपड़े पहनती

    अगर ये नॉर्मल कपड़े पहनती

    ठीक है आपकी फिल्में नहीं चल रही थीं। ठीक है आपने मेकओवर कराया। ठीक है कि आपके पास मनीश मल्होत्रा था लेकिन इंसान अपने अगल बगल भी देखता है। अरे अब जब पालनखेत में ये कैसे कपड़े पहन के घूमेंगी तो ये तो होना ही था। बाद के सीन में भी कपड़े देखो। कहां से टैक्सी ड्राइवर की बीवी लग रही है ये। लेकिन अब अगर नॉर्मल कपड़े पहनाते तो करिश्मा की राजा&&&&जी वाली एक्टिंग बजा देती कहानी की बैंड।

    ये फिल्म में नहीं होता तो...

    ये फिल्म में नहीं होता तो...

    अगर ये जो पीछे आदमी दिख रहा है ये फिल्म ने नहीं होता या होती तो बज जाती कहानी का बैंड! सारा रायता तो इसने ही फैलाया था न। बुकिंग न करा कर। अरे होटल की। कैसे याद रहेगा उसके बाद इन्होंने फिल्म में कुछ किया जो नहीं। तो थैंक्यू भइया आप की वजह से ही बज पाई कहानी की बैंड!

    English summary
    Raja Hindustani drastically changed Karishma Kapoor's image but the role was meant for Aishwarya Rai who would have been a star years ago.Let's twist the twists of Raja HIndustani!
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X