For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    कहानी की बैंड: जाने तू या जाने ना, भोजपुरी में MEOW बोले तो बिलौटी...

    |

    [तृषा गौड़] जाने तू या जाने ना इमरान खान और जेनेलिया देशमुख के अब तक के करियर की सबसे बेहतरीन फिल्म थी। फिल्म में कुछ नया नहीं था, दो बेस्ट फ्रेन्ड्स, प्यार, दोस्ती, जलन etc etc...जहां जेनेलिया फिल्म में बहुत क्यूट लगी थीं (आज तक कुछ नहीं बदला), वहीं इमरान खान ने उन्हें क्यूटनेस में कॉम्पिटीशन दिया था और इसलिए भी दर्शकों ने उन दोनों नॉन एक्टर्स की इस फिल्म को सरआंखों पर बैठाया था। फिल्म के गाने भी बहुत उम्दा थे और पप्पू के डांस ने तहलका मचा दिया था। ओवर ऑल देखा जाए तो RATS और MEOW की इस परफेक्ट दोस्ती में सब कुछ मस्त था। पर कहानी में कुछ ट्विस्ट ऐसे हैं जो डायरेक्टर ने नहीं दिए और फिल्म हो गई सुपरहिट लेकिन अगर ये ट्विस्ट और ट्विसट् कर दिए जाएं तो आराम से बज जाती कहानी की बैंड -

    फिल्म की भोजपुरी डबिंग

    फिल्म की भोजपुरी डबिंग

    भोजपूरी इंडस्ट्री बढ़ने की हर संभव कोशिश कर रही है। कुछ दिन पहले ही हमने आशिकी दो के बेहतरीन गाने सुन रहा है ना तू का भोजपुरी version सुना...सुन रहल बा ना तू, हम रोवल बानी। बस हमें लगा कि अगर जाने तू या जाने ना की भी भोजपुरी डबिंग होती तो सबसे ज़्यादा हंसाने वाले होते जय और अदिति के नाम। दोनों एक दूसरे को प्यार से ratS और meow बुलाते थे, यानि की चूहा बिल्ली। तो भोजपुरी वर्जन में अदिति होती बिलौटी और जय...कजरौटा...हे भगवान...सोच के ही बज गई कहानी की बैंड।

    दोनों ने बचपन से करन जौहर की फिल्में देखी होतीं

    दोनों ने बचपन से करन जौहर की फिल्में देखी होतीं

    फिल्मी रोमांस के कुछ उसूल हैं, पहला राजश्री उसूल जहां एक लड़का और एक लड़की कभी दोस्त नहीं होते और दूसरा धर्मा उसूल जहां प्यार का पहला कदम भी दोस्ती है और आखिरी भी। फिर जय और अदिति तो बचपन से ही दोस्त थे तो थैंक गॉड इन्होंने ये फिल्में नहीं देखी वर्ना कहानी की बैंड बजने से तो गॉड भी नहीं रोक सकता।

     अगर पप्पू COULD डांस साला

    अगर पप्पू COULD डांस साला

    फिल्म में पप्पु नाम के किरदार ने अपनी बेइज्जती कराकर बहुत नाम कमाया। पर मान लीजिए कि अगर पप्पू को डांस आता तो इमरान और जेनेलिया किस के नाम पर इतना मस्त गाना गाते। रमेश, सुरेश, रामू, श्यामू, मनोहर सब पप्पू के चार्म के आगे फीके पड़ जाते।

    अगर जय नहीं होता रांझौण का राठौड़

    अगर जय नहीं होता रांझौण का राठौड़

    यू कैन टेक द राठौण आउट ऑफ द रांझौड़ बट यू कैन नॉट टेक द रांझौड़ आउट ऑफ द राठौण। तो अगर जय राठौड़ होता ही नहीं तो अदिति की भाषा में डरपोक और फट्टू ही होता। न उसमें इतनी हिम्मत आती कि वो सुशांत को मारता न वो अदिति को प्रपोज़ करता और दोनों कहानी की बैंड बजाते हु्ए रहते फ्रेन्ड्स फॉरेवर!

     अगर एकता कपूर नहीं होतीं तो..

    अगर एकता कपूर नहीं होतीं तो..

    अब आप सोच रहे होंगे कि ये क्या एंगल पर एकता कपूर का हम पांच अगर आपने देखा है तो आप हमारी भावनाएं समझ रहे होंगे। न ही उसमें बात करती बीवी की तस्वीर, न ही जाने तू में नसीरुद्दीन शाह। आखिर फिल्म में तड़का तो उन्होंने ही लगाया था। तो मतलब ये कि एकता के बिना बज जाती जाने तू की बैंड।

    अगर तस्वीर मम्मी के अलावा भी किसी से बात करती

    अगर तस्वीर मम्मी के अलावा भी किसी से बात करती

    अगर नसीरूद्दीन शाह की तस्वीर जय की मम्मी की जगह सीधा जय से बात कर लेती तो कहानी कितनी सिंपल हो जाती। लेकिन नहीं फिर दो घंटे की कहानी न बचता कोई सस्पेंस न ही कोई मसाला और बज जाती कहानी की बैंड!

    इनके दोस्तों ने इन दोनों को प्यार में क्यों नहीं ढकेला

    इनके दोस्तों ने इन दोनों को प्यार में क्यों नहीं ढकेला

    पूरी दुनिया के दोस्तों का एक ही काम है। अगर दो लोग कुछ ज़्यादा अच्छे दोस्त बन रहे हैं तो सीधा धक्का देकर उन्हें प्यार में धकेल दो। लेकिन ये दोस्त पता नहीं कैसे थे कि सबको पता था कि जय - अदिति में कुछ तो है पर किसी ने कोई एफर्ट नहीं लिया। अगर ऐसा कर देते तो सिंपली जय और अदिति डेट पर जाते और बजा देते कहानी की बैंड।

    अगर ये दोनों एक दूसरे के लिए प्यार नहीं ढूंढते

    अगर ये दोनों एक दूसरे के लिए प्यार नहीं ढूंढते

    लड़कियों का फेवरिट काम होता है लड़कों को कन्फ्यूज़ कर देना। अदिति ने भी जय को लड़की ढूंढ के दी और बेचारा कंन्फ्यूजन में उससे प्यार करने लगा। अब इधर अदिति को कंन्फ्यूजन कि जाने तू मेरा क्या है जाने तू मेरा क्या था। पर गाने को फुल पॉइंट्स हालांकि इस एंगल ने बजाई थी कहानी की बैंड।

    अगर इनको प्यार हो जाता... दूसरों से

    अगर इनको प्यार हो जाता... दूसरों से

    कम से कम एक बार तो कोई डायरेक्टर ये साबित करे कि एक लड़का और एक लड़की दोस्त हो सकते हैं। हर समय ये लव एंगल डालने का क्या मतलब है । अगर इन दोनों को सच में दूसरों से प्यार हो जाता तो दुनिया उतनी ही रोमांटिक और खूबसूरत होती भाई। लेकिन इनकी वजह से दुनिया के कितने दोस्तों ने बजा ली अपनी दोस्ती की कहानी की बैंड।

     अगर एयरपोर्ट की जगह ट्रेन से जाती

    अगर एयरपोर्ट की जगह ट्रेन से जाती

    लड़की अमीर थी तो लंदन पढ़ने जा रही थी। लेकिन मान लीजिए कि अगर लड़की अमीर नहीं होती तो ट्रेन से कहीं आस पास जाती। न कोई सिक्योरिटी जय को रोकती और न ही इनका कयूट सा भरत मिलाप होता। एक इतनी बड़ी ट्रेन में वैसे इमरान के बस की भी नहीं थी जेनेलिया को ढूंढना और लास्ट में अदिति दिखती भी तो इमरान DDLJ की सिमरन होते और जेनेलिया राज की तरह हाथ बढ़ाकर खड़ी होतीं। वैसे ये देखने में मज़ा बहुत आता!

    English summary
    Jaane tu Yaa jaane naa rekindles Genelia's career while was a great start for Imraan Khan. Film soon turned into a youth anthem. twisting the twists is what one needs foe a laughter!
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X