For Quick Alerts
    ALLOW NOTIFICATIONS  
    For Daily Alerts

    कहानी की Band: कैट नहीं, आमिर के प्यार में दीपिका होती 'कमली'

    By Neeti
    |

    [नीति सुधा] साल 2013 में रिलीज हुई फिल्म धूम-3 ने बॉक्स ऑफिस में रिकॉर्ड तोड़ कमाई की। आमिर खान और धूम सीरिज होने की वजह से इस फिल्म को दर्शकों से काफी तगड़ा रिस्पॉस देखने को मिला। हालांकि, धूम की पिछली दो सीरिज में चोरी के सीक्वेंस काफी बेहतरीन दिखाए गए थे, जो यहां मिसिंग थी। लेकिन फिर भी आमिर खान को एक्शन करते देखने के लिए लोगों में काफी उत्सुकता थी।

    विजय कृष्णा आचर्या द्वारा निर्देशित फिल्म धूम-3 में यूं तो सब सही था, एक्शन, ड्रामा, इमोशंस, लेकिन फिल्म में कुछ ऐसे सीन भी थे, जहां लॉजिक को पीछे छोड़ दिया गया था। क्या आपने सोचा है, यदि बैंक ने 23 सालों तक चोरी का इंतजार करने की बजाए, सर्कस की जगह कुछ और बनवा दिया होता? नहीं न..तो फिर यहां पढ़िए कि ऐसा होता तो कैसी होती 'धूम-3'।

    23 साल तक बैंक न करता इंतजार

    23 साल तक बैंक न करता इंतजार

    आमिर खान पूरे 23 बाद अपने पिता की मौत का बदला लेना शुरू करता है। लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि 23 सालों तक Great Indian circus की जगह बैंक वालों ने कुछ और क्यों नहीं बनवाया। बल्कि वह जगह वैसी की वैसी थी। लिहाजा, सोचिए अगर बैंक उस जगह पर कुछ और बनवा चुका होता तो साहिर क्या करता। बदला लेने वाले कहानी की तो बजती बैंड।

    लोन चुका देते

    लोन चुका देते

    अरे भईया, जब बैंक से लोन लिया है तो पैसे तो देने पड़ेंगे ना। अब न दे पाओ तो बैंक वालों की क्या गलती। उन्हें तो लोन के पैसों से मतलब है। देखा जाए तो उनकी गलती भी नहीं है। लेकिन सोचिए अगर इकबाल हरून खान(जैकी श्राफ) उस वक्त किसी भी तरह लोन चुका देते तो...तो साहिर उसी सर्कस में अपने करतब दिखाता नजर आता। न कोई मरता, न होती बदले की कहानी।

    जैकी श्राफ आत्महत्या नहीं करते

    जैकी श्राफ आत्महत्या नहीं करते

    दो बेटों को उनके हाल पर छोड़कर सुसाइड कर लेना बुजदिली नहीं है तो और क्या। सर्कस से लोन चुकता नहीं हो रहा था, तो कोई नौकरी कर लेना चाहिए था। बहरहाल, वैसे अगर इकबाल खान आत्महत्या नहीं करते तो, कहानी क्या होती। साहिर और उनके सर्कस की। Noooo..मतलब फिर बजती कहानी की बैंड।

    आलिया फिल्म में क्यों थी

    आलिया फिल्म में क्यों थी

    क्या आपको पता है फिल्म में आलिया खान के रोल के लिए पहली पसंद दीपिका पादुकोण थीं। और उनके न कहने के बाद फिल्म में आईं कैटरीना। हालांकि फिल्म में आलिया दीपिका हो कैट, कोई फर्क नहीं पड़ता। क्योंकि आलिया को तो सिर्फ डांस करना है। सोचिए अगर धूम की बाकी फिल्मों की तरह इसमें भी आलिया कोई पुलिस या चोर निकलती तो....तो शायद कहानी में आता ट्विस्ट, लेकिन हमारे डाइरेक्टर की कहानी की बजती बैंड।

    जय दीक्षित के पास कोई और केस होता

    जय दीक्षित के पास कोई और केस होता

    बैंक होता है शिकागो में, केस होता शिकागो का। लेकिन ACP जय दीक्षित को सिर्फ इसीलिए केस सुलझाने बुलाया जाता है क्योंकि चोर अपना मैसेज हिन्दी में छोड़ता है। यह भी तो हो सकता था कि चोर पुलिस को बेवकूफ बनाने के लिए यह कर रहा हो। खैर यह सोचिए, कि इंडिया में रहने वाले जय दीक्षित के पास होता कोई और केस और वह शिकागो नहीं जा पाता तो....तो साहिर आराम से सालों तक शिकागो पुलिस को बेवकूफ बनाता रहता।

    आलिया को सच्चाई पता चल जाती

    आलिया को सच्चाई पता चल जाती

    आलिया को जुड़वां भाईयों की सच्चाई पता चल जाती, तो शायद आलिया इन्हें पहले ही पुलिस से गिरफ्तार करवा देती या फिर खुद भी इन दो भाईयों के साथ मिलकर चोरी में हिस्सेदार बन जाती। खैर अगर ऐसा होता तो कम से कम आलिया के पास कोई काम तो होता सर्कस के अलावा।

    दोनों भाईयों में लड़ाई हो जाती

    दोनों भाईयों में लड़ाई हो जाती

    हाथ नहीं छो़ड़ना, साथ नहीं छोड़ना.... लेकिन सोचिए, जैसे कि अक्सर होता है, अगर लड़की यानि की आलिया की वजह से इन दो भाईयों के बीच दरार पड़ जाती तो....तो एक भाई जाकर पुलिस से सबकुछ बोल देता, और दूसरा या जाता जेल या करता आत्महत्या। लेकिन भई.. कहानी की बज जाती बैंड।

    English summary
    First preference for the role of Aaliya in movie Dhoom 3 was Deepika Padukone. So, now could you even think of how it would be.
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X